विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesJet Airways employees seek President's intervention for salary dues, emergency funds to airline

Aviation / अब राष्ट्रपति की शरण में पहुंचे JET के पायलट; कहा-संकट में जीवन, 3 महीने की बकाया सैलरी दिलाओ

पायलट एसोसिएशन ने पत्र लिखकर रोया अपना दुखड़ा

Jet Airways employees seek President's intervention for salary dues, emergency funds to airline
  • कुछ कर्मचारियों को पिछले 7 महीने से नहीं मिला वेतन

नई दिल्ली। जेट एयरवेज के अस्थाई तौर पर बंद होने के बाद कर्मचारियों ने अपने बकाया वेतन और इमरजेंसी फंडिंग दिलाने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को और प्रधानमंत्री से मदद की मांग की है। कर्मचारियों के दो संगठनों ने राष्ट्रपति कोविंद और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। जेट के कर्मचारियों की 3 महीने की सैलरी बकाया है। एयरलाइन का संचालन बंद होने से उनका करियर भी संकट में है। 

इससे पहले भी पत्र लिखकर मांगी थी मदद


इससे पहले भी सोसायटी फॉर वेलफेयर ऑफ इंडियन पायलट्स और जेट एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने भी पत्र लिखकर मदद मांगी थी। कर्मचारियों ने अपील की है कि स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जेट एयरवेज के प्रबंधन को निर्देश दिए जाएं कि कर्मचारियों के बकाया भुगतान जल्द से जल्द किए जाएं।

कर्मचारियों को पिछले 7 महीने से नहीं मिला वेतन


एक पत्र में कर्मचारियों ने अपील की- मौजूदा हालात में हर मिनट और हर फैसला बेहद अहम है। जेट के कर्मचारी संगठनों का कहना है कि कर्मचारियों के एक वर्ग को पिछले 7 महीने से समय पर वेतन नहीं मिल रहा। मार्च में श्रम एवं रोजगार मंत्रालय को भी इस बारे में बताया गया था। पायलट्स और इंजीनियर्स को 3 महीने से वेतन नहीं मिला है। बाकी स्टाफ की एक महीने की सैलरी बकाया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन