बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesवॉरेन बफे से सीखें ये 3 टिप्‍स, हर कोई मान लेगा आपकी बात

वॉरेन बफे से सीखें ये 3 टिप्‍स, हर कोई मान लेगा आपकी बात

किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए जरूरी है कि आप अपने आइडिया से इन्‍वेस्‍टर्स को इन्‍वेस्‍टमेंट के लिए कन्विंस करें।

1 of

नई दिल्‍ली. किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए जरूरी है कि आप अपने आइडिया से इन्‍वेस्‍टर्स को इन्‍वेस्‍टमेंट के लिए कन्विंस करें। उन्‍हें ठोस वजह चाहिए होती है कि क्‍यों वे आपके बिजनेस में पैसा लगाएं, उनका क्‍या फायदा होगा। ऐसे में जरूरी है कि आप उन्‍हें यकीन दिलाएं कि इस इन्‍वेस्‍टमेंट से उनका नुकसान नहीं होगा।

 

वैसे तो लोगों को कन्विंस करने के बहुत सारे टिप्‍स हैं। लेकिन यहां हम आपको बता रहे हैं कि इन्‍वेस्‍टमेंट गुरू कहे जाने वाले दुनिया के तीसरे सबसे ज्‍यादा अमीर वॉरेन बफे ने लोगों को कन्विंस करने के लिए क्‍या किया। बफे ने कैसे अपनी कंपनी बर्कशायर हैथवे को इतनी ऊंचाई पर पहुंचा दिया। बिजनेस वेबसाइट इंक डॉट कॉम की एक रिपोर्ट में कन्विंसिंग के ऐसे ही 3 टिप्‍स का जिक्र किया गया है, जो आप वॉरेन बफे से सीख सकते हैं- 

आगे पढ़ें- क्‍या है पहला स्किल 

1. यह यकीन दिलाना कि आप उनसे अलग नहीं हैं 


- जब आप किसी को अपने आइडिया से कन्विंस करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको उसका विश्‍वास जीतना होगा। आपके आइडिया के कंंटेंट  से ज्‍यादा यह बात मायने रखती है कि आप अपने आइडिया को पेश करने के तरीके से लोगों को यह विश्‍वास दिलाएं कि आप और वे लोग अलग नहीं हैं और आपका आइडिया उनके काम का है।

- बफे इस बात को अच्‍छी तरह से जानते थे और उन्‍होंने 2015 में शेयरहोल्‍डर्स को लिखी चिट्ठी में कुछ ऐसा ही डेमो दिया। 
- रीडर्स को इस बात का विश्‍वास दिलाने के लिए कि उनकी कंपनी बर्कशायर हैथवे आगे भी अपनी अविश्‍वसनीय सफलता को जारी रख सकती है, उन्‍होंने चिट्ठी में सवाल पूछा 'अगर आज मेरा परिवार मुझसे बर्कशायर हैथवे के भविष्‍य के बारे में पूछे तो मैं क्‍या कहूं।' 
- वॉरेन बफे की इस स्‍ट्रेटेजी का परिणाम यह रहा कि उन्‍हें कई सारे पॉजिटिव जवाब मिले, जैसे- 'अगर आप बर्कशायर हैथवे में इन्‍वेस्‍ट नहीं कर रहे हैं तो आप बेवकूफ हैं' और 'वॉरेन बफे ने अब तक का सबसे बढि़या सालाना लेटर लिखा है।'

 

आगे पढ़ें- क्‍या है दूसरा स्किल 

2. अपनी गलतियां मानें 


अपनी गलतियों को स्‍वीकार कर लेना भी कन्विंसिंग में मददगार है। गलतियां होना स्‍वाभाविक है लेकिन बड़ी बात है उन्‍हें मान लेना और आगे न दोहराना। जब आप अपनी गलतियों को छिपाते नहीं हैं और उन्‍हें बिना किसी हिचकिचाहट के स्‍वीकार कर लेते हैं तो लोगों को आपकी सच्‍चाई पर विश्‍वास होने लगता है। बफे भी अपनी गलतियों को छिपाने में यकीन नहीं रखते हैं। 

 

आगे पढ़ें- तीसरे स्किल के बारे में 

3. खुद का मजाक उड़ाना


बफे अपनी गलतियों को स्‍वीकारते तो हैं ही, साथ ही अपने आप का ही मजाक भी उड़ाते हैं। हर साल अपनी सालाना शेयरहोल्‍डर मीटिंग में बफे और उनके खास माने जाने वाले चार्ली मुनगर अपने आप पर जोक वाली एक वीडियो प्‍ले करते हैं। इस वीडियो से लोगों तक यह बात पहुंचती है कि वह घमंडी नहीं बल्‍कि उन्‍हीं के जैसे आम लोग हैं। वे लोगों को इस बात का यकीन दिलाते हैं कि वे भी गलतियां कर सकते हैं और उनमें भी कुछ कमियां हैं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट