बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesइन 5 गलतियों से अटक जाएगा करियर, सक्‍सेस पाना चाहते हैं तो करें परहेज

इन 5 गलतियों से अटक जाएगा करियर, सक्‍सेस पाना चाहते हैं तो करें परहेज

हम अनजाने में अपनी ही सक्‍सेस की राह का रोड़ा बन जाते हैं।

1 of
नई दिल्‍ली. हर कोई अपने करियर में आगे बढ़ना चाहता है, अपनी मेहनत के दम पर सफलता हासिल करना चाहता है। इसके लिए हर इन्‍सान अपने दम पर लगातार कोशिश करता है। लेकिन कई बार इस कोशिश पर हमारी कुछ गलतियों की वजह से ब्रेक लग जाती है। हम अनजाने में अपनी ही सक्‍सेस की राह का रोड़ा बन जाते हैं। बिजनेस वेबसाइट इंक डॉट कॉम की एक रिपोर्ट में ऐसी ही 5 गलतियों का जिक्र किया गया है, जिनकी वजह से हम सक्‍सेस से दूर होते चले जाते हैं- 

1. बहुत कम सैलरी पर ही मान जाना 


अक्‍सर पहली नौकरी के वक्‍त हम मौका खोना नहीं चाहते, इसलिए कई बार पहली जॉब के वक्‍त कम सैलरी पर भी काम करने को राजी हो जाते हैं। लेकिन कई बार अगली नौकरी के वक्‍त भी हम ऐसा ही करते हैं। बहुत ज्‍यादा मोल-तोल से बचते हुए हम एक बार फिर अपने टैलेंट या स्किल के मुकाबले कम सैलरी पर जॉब एक्‍सेप्‍ट कर लेते हैं। कहीं न कहीं इसकी वजह जॉब की कमी भी है। जॉब के दौरान भी अपनी सैलरी में बढ़ोत्‍तरी की बात करने से हम बचते रहते हैं। न ही सैलरी बढ़ाने की बात करते हैं न ही जॉब छोड़ने की हिम्‍मत करते नहीं हैं लिहाजा उतने ही पैसों पर कभी-कभी तो सालों गुजर जाते हैं। 
 
आगे पढ़ें- क्‍या है दूसरी गलती 

2. हिम्‍मत पर विनम्रता का हावी हो जाना


विनम्र होना अच्‍छी बात है और हर किसी को होना भी चाहिए। सफलता के लिए एक जरूरी क्‍वालिटी विनम्रता भी है। लेकिन हमेशा हर जगह विनम्र होना भी ठीक नहीं है। ऑफिस में अपनी विनम्रता के चलते हमें लगता है कि हमसे ज्‍यादा अनुभवी इन्‍सान हमेशा सही ही होगा, जबकि ऐसा नहीं है। कभी-कभी हम जानते हैं कि हमारा कलीग या सीनियर गलत है लेकिन विनम्रता के चलते हम उनसे कहने की हिम्‍मत ही नहीं कर पाते हैं। यही बात सैलरी बढ़ाने की डिमांड पर भी लागू होती है। हमारी हद से ज्‍यादा विनम्रता हमारी हिम्‍मत पर हावी हो जाती है, जो हमारे करियर के लिए खतरनाक भी साबित हो सकती है। 
 
आगे पढ़ें- क्‍या है तीसरी गलती

3. लॉन्‍ग टर्म नहीं शॉर्ट टर्म गेन पर नजर


अक्‍सर हम ऐसे मौकों पर फोकस्‍ड रहते हैं, जो हमें तुरंत और केवल एक निश्चित अवधि के लिए मुनाफा देते हैं, जबकि हमें लॉन्‍ग टर्म तक बेनिफिट देने वाले मौकों को पकड़ना चाहिए। हमें केवल अच्‍छी सैलरी के मौके ही नहीं बल्कि लॉन्‍ग टर्म बेनिफिट वाले इन्‍वेस्‍टमेंट मौकों पर भी नजर रखनी चाहिए। साथ ही अपने स्किल्‍स को भी बेहतर करते रहना चाहिए और नए स्किल्‍स को भी सीखना चाहिए। हम जितने ज्‍यादा स्किल्‍ड होंगे, हमारी तरक्‍की और नए मौकों को हासिल करने के चांसेज उतने ही ज्‍यादा होंगे। 
 
आगे पढ़ें- क्‍या है चौथी गलती

4. बहुत ज्‍यादा इमोशनल होना 


इमोशनल होना कमजोर होने की निशानी नहीं है लेकिन अगर करियर की बात हो तो आप फैसले इमोशनल होकर नहीं ले सकते। आपको प्रैक्टिकली सोचना पड़ता है। जब आप इमोशनल हों तो कोई भी बड़ा फैसला लेने से, किसी बड़े टॉपिक पर डिस्‍कस करने से बचें। अक्‍सर जॉब चेंज करने के वक्‍त सबसे बड़ी दिक्‍कत आती है क्‍योंकि हमारा मौजूदा कंपनी और कलीग्‍स से एक गहरा रिश्‍ता बन जाता है और यह जुड़ाव अगर सालों से हो तो चीजें और ज्‍यादा मुश्किल हो जाती हैं। इसलिए इमोशंस पर कंट्रोल करते हुए करियर के लिए सोच-समझ कर फैसला लेने की जरूरत होती है। 
 
आगे पढ़ें- क्‍या हैं पांचवीं गलती

5. दूसरों को अनसुना करना 


अपनी बात रखना अच्‍छी बात है लेकिन दूसरों को भी बात रखने का मौका मिलना चाहिए। अपने वर्कप्‍लेस पर दूसरों को अनसुना करते हुए केवल खुद बोलते रहना आपके करियर पर निगेटिव इंपैक्‍ट डालता है। लोग आपसे डिस्‍कशन करने करने से कतराने लगते हैं और सक्‍सेस में कम्‍युनिकेशन का बहुत बड़ा योगदान होता है। आपके बड़बोलेपन की वजह से जब कम्‍युनिकेशन ही नहीं होगा तो आपका नेटवर्क मजबूत कैसे होगा।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट