बिज़नेस न्यूज़ » Industry » CompaniesUber ने एक साल बाद माना- हैकर्स ने चुराया था 5.7 करोड़ लोगों का डाटा

Uber ने एक साल बाद माना- हैकर्स ने चुराया था 5.7 करोड़ लोगों का डाटा

डाटा चोरी की यह घटना एक साल पहले हुई थी, जिसे उबर ने अब स्‍वीकार किया है।

1 of

 

 

सैन फ्रांसिस्‍को. ऐप बेस्‍ट टैक्‍सी सर्विस प्रोवाइडर उबर ने बुधवार को कहा कि हैकर्स ने उसके 5 करोड़ 70 लाख ड्राइवर्स और राइडर्स के डाटा चुराए थे। डाटा चोरी की यह घटना एक साल पहले हुई थी, जिसे  उबर ने अब स्‍वीकार किया है। उबर सीईओ दारा खोस्रोवशाही ने कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए था और मैं इसके लिए कोई सफाई नहीं दूंगा। वहीं, उबर ने डाटा खत्म करने के लिए हैकर्स को एक लाख डॉलर (करीब 65 लाख रुपए) दिए थे। खोस्रोवशाही ने इसी साल अगस्त में ही उबर ज्वाइन की थी।

 

कंपनी के सर्वर में सेंध लगाकर चोरी हुआ डाटा  

खोस्रोवशाही ने कहा कि दो सदस्‍यों वाली उबर इन्फॉर्मेशन सिक्युरिटी टीम ने भी इस बात को लेकर कोई अलर्ट नहीं दिया कि सैन फ्रांसिस्को बेस्ड कंपनी से डाटा चोरी हो रहे हैं। हाल ही में मुझे पता लगा कि बाहर के लोगों ने कंपनी के सर्वर में सेंध लगाकर डाटा हासिल किया और कई अहम जानकारियां डाउनलोड कर लीं।

 

प्राइवेट इन्‍फार्मेशन हुआ चोरी

उबर ने माना है कि जो फाइलें चुराई गई हैं, उनमें लोगों के नाम, ईमेल एड्रेस, उबर में बैठने वाले राइडर्स के मोबाइल नंबर, ड्राइवर्स के नाम और लाइसेंस शामिल हैं। उबर में करीब 6 लाख ड्राइवर्स हैं। उबर के इस मामले से जुड़े एक शख्स ने बताया कि कंपनी ने हैकर्स को डाटा खत्म करने के लिए करीब 65 लाख रुपए दिए थे। साथ ही ड्राइवर्स-राइडर्स की जानकारियां सार्वजनिक नहीं करने को कहा था। उसने बताया कि जैसे ही डाटा चोरी का पता लगा था, उसके बाद उबर के को-फाउंडर रहे और बाद में निकाले गए चीफ ट्रेविस कैलानिक को इसके बारे में बताया गया था। जब तक नए बॉस खोस्रोवशाही को इसका पता न हो जाए, ये बात सार्वजनिक नहीं की गई थी।

 

आगे पढ़ें... और क्‍या कहा उबर सीईओ ने

 

सही एक्‍शन न लेगना उबर की विफलता: खोस्रोवशाही

खोस्रोवशाही ने कहा, "आप मुझसे पूछ सकते हैं कि एक साल बाद इन सब बातों को बताने का क्या मतलब है? मेरे सामने भी यही सवाल आया था। मैंने तुरंत डिटेल में जांच कराने के लिए कहा था। साथ ही ये भी पूछा था कि मामले से कैसे निपटा जा सकता है? जो मैंने सीखा वो यही है कि उबर के फेल्योर की वजह सही एक्शन न लिया जाना रहा।"

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट