• Home
  • India's crisis has benefited foreigners, foreign companies are charging more

एविएशन /जेट संकट से विदेशियों को फायदा, विदेशी कंपनियां ज्यादा वसूल रही हैं एयर फेयर

  •  ब्रिटिश एयरवेज, कैथे पैसिफिक एयरवेज लिमिटेड, सिंगापुर एयरलाइंस लिमिटेड और यूनाइटेड एयरलाइंस जैसी विमानन कंपनियों की भारतीय यात्रियों में 2018 की अंतिम तिमाही के दौरान 27 फीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई।

money bhaskar

Apr 28,2019 03:56:24 PM IST

नई दिल्ली. जेट एयरवेज संकट की वजह से विदेशी एयरलाइंस की चांदी हो गई है। देश की निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी विमानन कंपनी रह चुकी जेट के करीब 10 लाख यात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करने में विदेशी विमानन कंपनियों की काफी दिलचस्पी दिख रही है। आंकड़ों से पता चलता है कि जेट का परिचालन बंद होने के बाद अंतरराष्ट्रीय हवाई किराये में वृद्धि हो रही है। भारत से दुबई, लंदन, न्यूयॉर्क, सिंगापुर और बाली जैसे शहरों के लिए हवाई किराए में 2019 की पहली तिमाही के दौरान 4 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई जबकि एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले यह वृद्धि करीब 32 फीसदी दर्ज की गई है। भारत के प्रमुख यात्रा पोर्टल कंपनी मेकमाईट्रिप लिमिटेड ने यह खुलासा किया है।

लंदन के लिए किराए में 36 फीसदी इजाफा, जून तक राहत की उम्मीद नहीं

यात्रा डॉट कॉम के आंकड़ों के अनुसार, यात्रा के लिहाज से सबसे अधिक व्यस्त महीने मई और जून में लंदन के लिए किराए में करीब 36 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। जबकि सैन फ्रांसिस्को के लिए किराये में एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले करीब 20 फीसदी की वृद्धि हुई है। केयर रेटिंग्स के अनुसंधान विश्लेषक आशिष नैनन ने कहा कि वास्तव में अगले तीन महीने अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनियों के लिए जबरदस्त फायदे का समय है। उन्होंने कहा कि कम से कम जून के मध्य तक किराये में कमी नहीं आने वाली है। जेट एयरवेज के पट्टेदारों द्वारा उसके विमानों को खड़े किए जाने से पहले भी मांग बढ़ने के कारण ब्रिटिश एयरवेज, कैथे पैसिफिक एयरवेज लिमिटेड, सिंगापुर एयरलाइंस लिमिटेड और यूनाइटेड एयरलाइंस जैसी विमानन कंपनियों की भारतीय यात्रियों में 2018 की अंतिम तिमाही के दौरान 27 फीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई। भारत के विमानन नियामक के आंकड़ों से यह खुलासा हुआ है। फिलहाल 2018 की अंतिम तिमाही तक के आंकड़े ही उपलब्ध हैं।

यह भी पढ़ें : जॉनसन एंड जॉनसन बेबी शैम्पू एवं पाउडर की बिक्री पर रोक

जेट के सभी 120 बड़ें बोइंग बंद


वित्तीय संकट से जूझ रही विमानन कंपनी जेट एयरवेज के बेड़े में पहले करीब 120 बड़े बोइंग विमान मौजूद थे लेकिन बैंकों द्वारा तात्कालिक जरूरतों के लिए रकम मुहैया कराने के आग्रह को ठुकराए जाने के बाद 17 अप्रैल को उसे अपना परिचालन फिलहाल बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा। हालांकि इस विमानन कंपनी के संकट से अन्य अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनियों को फायदा हो रहा है।

यह भी पढ़ें : नेताओं ने शेयरों से की तौबा, बैंक पर भरोसा, सोने की भी चमक फीकी

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.