बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesमार्च 2018 के बाद ही प्राइवेट सेक्टर में बनेंगे नौकरियों के बड़े मौके: इंडस्ट्री बॉडी

मार्च 2018 के बाद ही प्राइवेट सेक्टर में बनेंगे नौकरियों के बड़े मौके: इंडस्ट्री बॉडी

प्राइवेट सेक्टर में नौकरियों के लिए हायरिंग में फाइनेंशियल ईयर 2017-18 के बाकी दिनों सुस्ती बनी रहेगी।

1 of

नई दिल्ली। प्राइवेट सेक्टर में नौकरियों के लिए हायरिंग में फाइनेंशियल ईयर 2017-18 के बाकी दिनों सुस्ती बनी रहेगी। फ्रेश जॉब्स निजी क्षेत्र में भर्तियों में वित्त वर्ष 2018-19 तक गिरावट जारी रहने की संभावना है। अभी कंपनियों का जोर कर्ज घटाने, नॉन कोर बिजनेस से बाहर आने और संगठित होने से लेकर बैलेंट शीट को मजबूत बनाने पर है। इंडस्ट्री बॉडी एसोचैम ने ये बातें कही हैं। 

 

 

लागत घटाने पर है कंपनियों का जोर 
एसोचैम का कहना है कि पीएसयू बैंक अभी इम्प्लॉई कास्ट को घटाने पर जोर दे रहे हैं। सरकार ने हाल ही में पीएसयू बैंकों के लिए 2.11 लाख करोड़ का रीकैपिटलाइजेशन प्लान को मंजूर किया था। बैंकों को पैसा मिलने के बाद ही उनमें नई हायरिंग की संभावना दिख रही है। वहीं, दूसरे सेक्टर में भी कंपनियां अपने मार्जिन में सुधार और कर्ज कम करने में लगी रहेंगी। ऐसा अगले कुछ महीनों तक जारी रह सकता है। 

 

यहां हो रही है जॉब कट 
एसोचैम का कहना है कि अगले फाइनेंशियल ईयर से परिस्थितियां बदलेंगी। अभी ज्यादातर जॉब कट टेलिकॉम, प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर, नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों, आईटी सेक्टर, रियल्टी और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में हो रही है। 

 

2 तिमाही रहेगा चैलेंज 
एसोचैम के जनरल सेक्रेट्री डीएस रावत का कहना है कि मूडीज द्वारा भारत की रेटिंग बढ़ाने से इंडस्ट्री को लेकर सेंटीमेंट में सुधार हुआ है। लेकिन आने वाली 2 तिमाही अभी चैलेंज बना रहेगा। उसके बाद चीजें सुधरेंगी और हाई डेट, डिमांड में कमी जैसी दिक्कतें मार्च 2018 के बाद से दूर होनी शुरू हो जाएंगी। अगर कोई बड़ा निगेटिव ट्रिगर न आए तो फाइनेंशियल ईयर 2018-19 बेहतर होगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट