Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Industry »Companies» Traders Are Demanding To Extend GST Registration Date

    बढ़ सकती है GST रजिस्ट्रेशन की तारीख, अभी तक 64 फीसदी कारोबारी ही जुड़े

    नई दिल्ली. गुड्स और सर्विस टैक्स (जीएसटी) में कारोबारियों के रजिस्ट्रेशन की तारीख आगे बढ़ सकती है। अभी तक के उपलब्ध डाटा के अनुसार, जीएसटी पोर्टल पर देश के 64 फीसदी कारोबारियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। सूत्रों के अनुसार, बड़ी संख्या में कारोबारियों का रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाने की वजह से सरकार ऐसा करने पर विचार कर रही है। कारोबारियों के अनुसार जीएसटी रजिस्ट्रेशन पोर्टल में कई सारी समस्याएं हैं जिसकी वजह से वह रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाए। 
    GST रजिस्ट्रेशन में राज्यों का ये है हाल
    जीएसटी लागू होने के बाद मौजूदा कानून में सेल्स टैक्स, एक्साइज टैक्स, एंट्री टैक्स, एंटरटेनमेंट टैक्स, सर्विस टैक्स,  वैट जैसे टैक्स खत्म हो जाएंगे। सरकार ने जीएसटी में रजिस्ट्रेशन की डेडलाइन 30 अप्रैल 2017 तय की थी। अभी तक देश के 80 लाख टैक्सपेयर्स में से 57 लाख ने ही जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराया है।
     
    राज्य
    GST रजिस्ट्रेशन
     (फीसदी में)
    दिल्ली
    67.23
    मध्य प्रदेश
    82.44
    राजस्थान
    75.89
    बिहार
    59.03
    उत्तर प्रदेश
    71.06
    (नोट: आंकड़े जीएसटी की वेबसाइट से लिये गए हैं। रजिस्‍ट्रेशन का आंकड़ा 30 अप्रैल 2017 तक का है।)  
     
    कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन को लेकर है कन्फ्यूजन
    कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स के महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने moneybhaskar.com को बताया कि अभी तक ज्यादातर कारोबारियों को राज्यों के वैट डिपार्टमेंट से जीएसटी आईडी नहीं मिला है। अगर इसकी वजह से रजिस्ट्रेशन में देरी हो रही है तो इसमें कारोबारियों की गलती नहीं है। ट्रेडर्स एसोसिशन ने फाइनेंस मिनिस्ट्री को लेटर लिखा है जिसमें उन्होंने जीएसटी रजिस्ट्रेशन की डेडलाइन 30 मई तक बढ़ाने के डिमांड की है।
     
    जीएसटी रजिस्ट्रेशन में आ रही हैं दिक्कतें
    सदर बाजार, दिल्‍ली ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ताराचंद गुप्ता ने moneybhaskar.com को कहा कि जीएसटी के नाम पर कई सारी फेक वेबसाइट खुल रही हैं। ट्रेडर्स को सरकारी वेबसाइट के यूआरएल के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। सरकार ने अभी अपनी ऑरिजनल वेबसाइट का प्रमोशन नहीं किया है। जीएसटी की वेबसाइट कई बार पेज नहीं खुलता है और आधे से ज्यादा जानकारी वेबसाइट पर उपबल्ध नहीं है, जिसके कारण ट्रेडर्स ज्यादा कन्फ्यूज हैं।
     
    जीएसटी में टेक्नॉलोजी को बेहतर बनाना सरकार के लिए चुनौती
    ऑल इडिया टैक्स एडवोकेट फोरम (एआईटीएफ) के  टैक्स एक्सपर्ट एमके गांधी ने moneybhaskar.com को बताया कि सरकार के आगे टेक्नोलॉजी को बेहतर बनाना चुनौती होगा क्योंकि जीएसटी आने पर उसकी वेबसाइट पर महीने के करीब 3.5 अरब इन्वॉइस प्रोसेस होंगे, इसलिए सफलता टेक्नॉलोजी पर ज्यादा निर्भर करती है। देश में करीब 80 लाख डायरेक्ट टैक्सपेयर हैं।
     
    जीएसटी में जल्दी एनरोल करने से होंगे ये फायदे
    - ट्रेडर्स और कारोबारियों को वैट व्यवस्था में बकाया  टैक्स क्रेडिट, इन्पुट क्रेडिट और वैट रिफंड मिल पाएगा
    - रिटर्न फाइल करने से पहले आपको जीएसटी पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। बिना रजिस्ट्रेशन के टैक्स रिटर्न फाइल नहीं कर पाएंगे।
    - 30 अप्रैल से पहले रजिस्ट्रेशन कराने से जीएसटी का इस्तेमाल आपके लिए आसान हो जाएगा।
     
     
    अगली स्लाइड में जानें - जीएसटी में किसे मिलेगी छूट
     
     

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY