विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesGST investigation arm finds P&G India guilty of profiteering Rupees 250 crore

धोखा / अमेरिकी कंपनी ने भारतीयों को नहीं दिया टैक्स में कटौती का लाभ, 250 करोड़ की मुनाफाखोरी में फंसी

GST की मुनाफाखोरी विंग ने की जांच में सामने आई मुनाफाखोरी की बात

1 of

नई दिल्ली। भारत में कारोबार करने वाली अमेरिकी एफएमसीजी कंपनी पीएंडजी (P&G) इंडिया 250 करोड़ की मुनाफाखोरी में फंस गई है। वस्तु एवं सेवा कर (GST) की मुनाफाखोरी जांच विंग ने कंपनी को उपभोक्ताओं को जीएसटी दरों में कटौती का लाभ उपभोक्ताओं तक नहीं पहुंचाने का दोषी पाया गया है। 

नहीं घटाईं टैक्स की दरें
जीएसटी की स्थायी समिति पास दर्ज शिकायतों के आधार पर डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ एंटी प्रॉफिटेयरिंग (DGAP) ने P&G के खिलाफ जांच शुरू की थी। DGAP ने 15 नवंबर 2017 से पहले और बाद की कीमतों की जांच की तो पाया कि कंपनी ने अपने कई उत्पादों की कीमतों में कमी नहीं की है जबकि उन उत्पादों पर कर की दर 28 फीसदी के बजाए 18 फीसदी हो गई थी। एक अधिकारी के अनुसार, DGAP ने अपनी जांच में पीएंडजी को 250 करोड़ रुपए की मुनाफाखोरी के लिए जिम्मेदार ठहराया है। अधिकारी के अनुसार, अब इस मामले में कंपनी का पक्ष सुनने के बाद राष्ट्रीय एंटी मुनाफाखोरी प्राधिकरण अपना फैसला करेगा।

ऐसे की मुनाफाखोरी


वस्तु एवं सेवा कर परिषद 178 उत्पादों पर कर की दर को 28 घटाकर 18 फीसदी कर दिया था। यह कटौती 15 नवंबर 2017 से लागू हो गई थी। जिन उत्पादों पर कर की दर में कटौती की गई थी, उनमें वॉशिंग पाउडर, शैंपू, कॉस्मेटिक्स और डेंटर हाइजीन प्रोडक्ट शामिल थे। जीएसटी के एंटी प्रोफिटेयरिंग नियमों के अनुसार सभी कंपनियों को करों में कमी का लाभ उपभोक्ताओं तक पहुंचाना था। लेकिन कुछ ग्राहकों ने शिकायत दर्ज कराई थी कि पीएंडजी ने अपने बेस प्राइस में बढ़ोतरी कर जीएसटी रेट घटा दिया है। इस कारण नई टैक्स दरों के लागू होने से पहले और बाद में भी सभी उत्पादों की  अधिकतम बिक्री मूल्य (MRP) समान ही थी।
 

भारत में Ariel-Tide समेत कई उत्पाद बेचती है पीएंडजी


अमेरिकी कंपनी P&G की सहायक कंपनी P&G इंडिया भारत में Ariel और Tide जैसे वॉशिंग पाउडर, Heads & Shoulders, Pantene जैसे नामी ब्रांड के शैंपू के अलावा Olay ब्रांड के तबत कॉस्मेटिक उत्पाद, Gillette के नाम से शेविंग-डेंटल उत्पाद और Oral-B ब्रांड के तहत उत्पादों का निर्माण और बेचती है। इसके अलावा कंपनी कई बेबी प्रोडक्ट्स का कारोबार भी करती है। कंपनी के प्रवक्ता का कहना है कि एक जिम्मेदार कंपनी होने का नाते पीएंडजी हमेशा अपने ग्राहकों को जीएसटी कटौती का लाभ पहुंचाती रही है। पीएंडजी का कहना है कि  राष्ट्रीय एंटी मुनाफाखोरी प्राधिकरण का पूरा सहयोग करेगा और जल्द स्पष्टीकरण पेश करेगा। पीएंडजी ने उम्मीद जताई कि प्राधिकरण उसकी जीएसटी लाभ पहुंचाने की प्रक्रिया की सराहना करेगा और इस मामले में उचित निर्णय देगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन