विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesUber unveils IPO with warning it may never make a profit

उबर का 70000 करोड़ का आईपीओ, कंपनी को फिर भी घाटे की उम्मीद

9.1 करोड़ यूजर वाली उबर ला रही है पांच साल का सबसे बड़ा आईपीओ

Uber unveils IPO with warning it may never make a profit
  • उबर के  2017 की तुलना में 33.8% यूजर बढ़े

नई दिल्ली। ग्लोबल राइड शेयरिंग और डिलीवरी कंपनी उबर ने गुरुवार को अमेरिका में सिक्युरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन के पास आईपीओ के लिए आवेदन किया। इस आवेदन में उबर ने कहा कि भविष्य में इसका ऑपरेटिंग खर्च और बढ़ेगा, इसलिए मुमकिन है कि कंपनी कभी फायदे में नहीं आ पाए। कंपनी न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में उबर नाम से ही लिस्ट होगी। आईपीओ डॉक्यूमेंट में उबर की ओर से कहा गया है, ‘शुरुआत से ही हम बड़ा घाटा उठा रहे हैं। ऐसा अमेरिका सहित अन्य बड़े बाजारों में हो रहा है। हमें लगता है कि आने वाले समय में हमारा खर्च और बढ़ेगा। इसलिए मुमकिन है कि हम फायदे वाली कंपनी न बन पाएं। हमने कुछ मार्केट में प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए कई बार किराया कम किया। हम ऐसा आगे भी करते रहेंगे। हम ड्राइवरों को इन्सेंटिव और ग्राहकों को छूट देते रहेंगे।’

ड्राइवरलेस टेक्नोलॉजी के कमर्शियल इस्तेमाल में विफल हो जाए- कंपनी


करीब एक दशक पुरानी कंपनी ने यह भी कहा कि संभव है वह ड्राइवरलेस टेक्नोलॉजी के कमर्शियल इस्तेमाल में विफल हो जाए। कंपनी को यह डर भी है कि प्रतिद्वंद्वी कंपनियां उससे पहले इसमें सफलता हासिल कर सकती हैं। कंपनी कहा, ‘हो सकता है कि हमारी टेक्नोलॉजी उम्मीद के मुताबिक परफॉर्म करने में सफल न हो या शायद यह प्रतिद्वंद्वी कंपनियों की टेक्नोलॉजी की तुलना में कमतर साबित हो।’ एजेंसी की खबरों के मुताबिक कंपनी ने 31 दिसंबर 2018 तक का आंकड़ा जारी करते हुए कहा कि इसके पास 9.1 करोड़ मंथली एक्टिव प्लेटफॉर्म यूजर्स हैं। साथ ही इसके प्लेटफार्म पर 39 लाख ड्राइवर जुड़े हुए हैं। मार्केट सूत्रों के मुताबिक कंपनी अपने शेयरों की प्राइस रेंज इस महीने के आखिर में जारी करेगी।

 2017 की तुलना में 33.8% यूजर बढ़े- उबर


उबर ने कहा कि उसके प्लेटफॉर्म पर 2017 की तुलना में 33.8% यूजर बढ़े। लेकिन इसके एक साल पहले की ग्रोथ 51% थी। 2018 में गूगल का रेवेन्यू 42% बढ़कर 1130 करोड़ डॉलर (करीब 78 हजार करोड़ रुपए) हो गया। यह 2017 की तुलना में 42% ज्यादा है, लेकिन इससे एक साल पहले कंपनी का रेवेन्यू 106% बढ़ा था। 2018 में उबर को 300 करोड़ डॉलर (करीब 20 हजार करोड़ रुपए) का घाटा हुआ।

उबर की वैल्यूएशन 6.9 लाख करोड़ रुपए हो सकती है 

उबर ने यह नहीं बताया है कि आईपीओ से वह कितनी रकम जुटाना चाहती है। रिपोर्टों के मुताबिक उबर के आईपीओ का साइज 1000 करोड़ डॉलर (करीब 70 हजार करोड़ रुपए)  का हो सकता है। वहीं, कंपनी की वैल्यूएशन 10 हजार करोड़ डॉलर (करीब 7 लाख करोड़ रुपए) हो सकती है। यह पिछले पांच साल में सबसे बड़ा आईपीओ होगा। इससे पहले 2014 में चाइनीज ईकॉमर्स कंपनी अलीबाबा ने आईपीओ के जरिए 2,500 करोड़ डॉलर जुटाए थे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss