बिज़नेस न्यूज़ » Industry » CompaniesUber इन्‍वेस्‍टर्स को बड़े डि‍स्‍काउंट पर हि‍स्‍सा बेचने का नहीं है दुख, कमा कि‍ए हैं अरबों

Uber इन्‍वेस्‍टर्स को बड़े डि‍स्‍काउंट पर हि‍स्‍सा बेचने का नहीं है दुख, कमा कि‍ए हैं अरबों

उबर में इन्‍वेस्‍टर्स को जापान की टेक्‍नोलॉजी कंपनी सॉफ्टबैंक को अपनी होल्‍डिंग का कुछ हि‍स्‍सा बेचने पर सबकुछ नहीं मि‍ल

उबर इन्‍वेस्‍टर्स को बड़े डि‍स्‍काउंट पर हि‍स्‍सा बेचने का नहीं है दुख - Uber investors sell at big discoun

डेट्रॉयट। मोबाइल ऐप बेस्‍ड कैब सर्वि‍स प्रोवाइड उबर में इन्‍वेस्‍टर्स को जापान की टेक्‍नोलॉजी कंपनी सॉफ्टबैंक को अपनी होल्‍डिंग का कुछ हि‍स्‍सा बेचने पर सबकुछ नहीं मि‍ल पाया जो वह चाहते थे। लेकि‍न इसके बावजूद वह इसे लेकर ज्‍यादा हमदर्दी जाहि‍र नहीं कर रहे हैं। 

 

भले ही उन्‍होंने अपने शेयर्स को 2016 की लागत के मुकाबले करीब 30 फीसदी डि‍स्‍काउंट रेट पर बेचा है, लेकि‍न शुरुआत में इन्‍वेस्‍ट करने वालों ने अपनी शुरुआती हि‍स्‍सेदारी का करीब 100 गुना कमा लि‍या है। एक इन्‍वेस्‍टर्स ने अपनी जानकारी खुलासा नहीं करने की शर्त पर बताया कि‍ उन्‍होंने 35 सेंट प्रति‍ शेयर को 33 डॉलर से कुछ प्रति‍ शेयर की कीमत पर बेचा है।      

 

बेहद कम वैल्‍यूएशन पर होगी डील

 

दोनों कंपनि‍यों की ओर से वैल्‍यूएशन की कोई डि‍टेल नहीं दी गई है लेकि‍न सूत्रों ने कहा है कि‍ यह इन्‍वेस्‍टमेंट उबर की 48 अरब डॉलर की वैल्‍यू पर कि‍या जाएगा। इस साल शुरुआत में उबर की वैल्‍यूएशन 71 अरब डॉलर थी। उबर ने एक ईमेल स्‍टेटमेंट में कहा कि‍ हम ट्रांजैक्‍शन को पूरा करने पर काम रहे हैं। हमें उम्‍मीद है कि‍ यह हमारे टेक्‍नोलॉजी इन्‍वेस्‍टमेंट, हमारे ग्रोथ को बढ़ाएगा और हमारे कॉरपोरेट गवर्नेंस को मजबूत करेगा।

 

एक साल से मुसीबतों का सामना कर रही है उबर

 

बीते एक साल के दौरान उबर को कई मुसीबतों का सामना करना पड़ा है। इसमें कंपनी में यौन उत्‍पीड़न, रेग्‍युलेटर से टेक्‍नोलॉजि‍कल तरीके से चीजों को छुपाना और एक साल तक 5.7 करोड़ पैसेंजर्स और 6 लाख ड्राइवर्स की पर्सनल इंफॉर्मेशन चुराने वाली हैकिंग को छुपाना शामि‍ल है। 
 
डील से पहले हुईं तीन बड़ी घटनाएं

 

प्राइवेट कंपनी इन्‍वेस्‍टमेंट्स एनालि‍सि‍स करने वाली कंपनी शेयर्सपोस्‍ट के एमडी रोहि‍त कुलकर्णी ने कहा कि‍ सॉफ्टबैंक की ओर से शेयर्य को डि‍स्‍काउंट पर बेचने के लि‍ए इन्‍वेस्‍टर्स से बातचीत करते वक्‍त तीन बड़ी घटनाएं हुईं।  

 

-सॉफ्टबैंक की ओर से शेयर्स को खरीदने का ऐलान करने से कुछ समय पहले ही लंदन में रेग्‍युलेटर्स ने  उबर को ऑपरेट करने वाले लाइसेंस को रीन्‍यू करने से इनकार कर दि‍या। 
-इसके बाद, डाटा हैक और से छुपाने की बात सामने आई। 
-फि‍र कंपनी ने इन्‍वेस्‍टर्स को बताया कि‍ बढ़े लीगल कॉस्‍ट की वजह से तीसरे क्‍वार्टर का नेट लॉस बढ़कर 1.46 अरब डॉलर हो गया। 
-कुलकर्णी ने कहा कि‍ इन घटनाओं की वजह से सॉफ्टबैंक को बेहतद डील मि‍लने में मदद मि‍ली।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट