बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesतेजी से बढ़ रही है कम सुनने की बीमारी, 85% सस्ते किए Star key ने हियरिंग डिवाइस

तेजी से बढ़ रही है कम सुनने की बीमारी, 85% सस्ते किए Star key ने हियरिंग डिवाइस

पनी ने 3.5 लाख रुपए के डिवाइस की कीमत घटाकर 50 हजार रु कर दी है।

1 of
 
नई दिल्ली। भारत में स्पष्ट रुप से या कम सुनने की समस्या तेजी से बढ़ रही है।  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार भारत जैसे विकासशील देशों की 9-10 फीसदी आबादी इस समस्या का सामना कर रही है।ऑडियोलॉजिस्ट के अनुसार इस समस्या को लंबे समय तक नजरअंदाज करने से आने वाले दिनों में लोगों को गंभीर समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है। बढ़ती समस्या को देखते हुए कई कंपनियां अब बाजार में उतर चुकी है। ऐसी ही एक कंपनी  "स्टार की इंडिया "ने  सुनने वाली  डिवाइस यानी हियरिंग डिवाइस की कीमतों में भारी कटौती कर दी है। कंपनी ने 3.5 लाख रुपए  के डिवाइस की कीमत घटाकर 50 हजार रु कर दी है। कंपनी की इस स्ट्रैटजी और भारत में तेजी से उभर रही लाइफ स्टाइल बीमारी पर दैनिक भास्कर ने "स्टार की इंडिया " के मैनेजिंग डायरेक्टर रोहित मिश्रा और ऑडियोलॉजिस्ट सचिन सक्सेना से बातचीत की है...

 
 
भारत में हर 1000 में से केवल 2 लोग इस्तेमाल कर रहे हैं डिवाइस
 
मिश्रा के अनुसार भारत में अभी जागरुकता की कमी और सामाजिक शर्म की वजह से समस्या होते हुए भी लोग डिवाइस का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। अभी 1000 में से दो लोग ही सुनने वाली डिवाइस का इस्तेमाल कर रहे हैं। वैसे तो बाजार में 10 हजार रुपए में ऐसी डिवाइस मिलना शुरू हो जाती है। लेकिन अच्छी डिवाइस की कीमत काफी ज्यादा है। जिसकी वजह से भी भारत में इसका इस्तेमाल कम है। इसी को देखते हुए "स्टार की इंडिया " ने डिवाइस पर इस महीने ऑफर दिया है। कंपनी ने 3.5 लाख रुपए वाली डिवाइस 50 हजार रुपए और 2.65 लाख रुपए की कीमत वाली डिवाइस की कीमत घटाकर 27 हजार रुपए कर दी है। मिश्रा के अनुसार हमारी कोशिश है कि कीमत कम होने की वजह से लोग बेहतर क्वालिटी वाली डिवाइस का इस्तेमाल कर सकेंगे। जिससे आने वाले दिनों में वह इसके बेहतर फायदों को न केवल महसूस करेंगे बल्कि साझा भी करेंगे।
 
40  डीबी के बाद डिवाइस लगाना जरुरी
 
ऑडियोलॉजिस्ट सचिन सक्सेना का कहना है कि कम सुनने की समस्या धीरे-धीरे बढ़ती जाती है। सामान्य व्यक्ति के लिए  विश्व स्वास्थ्य संगठन का सुनने का मानक 40 डीबी है। ऐसे में मानक नहीं पूरा होने पर व्यक्ति को सुनने की मशीन जरुर लगानी चाहिए। जिससे कि उसकी समस्या आने वाले दिनों में बढ़ न जाय। यहीं नहीं इस समस्या  को नजरअंदाज करना धीरे-धीरे गंभीर बीमारियों के रुप मे आपके सामने आ सकता है ।
 
कंपनी ने तीन महीने में बेंचे 60 हजार डिवाइस
 
रोहित मिश्रा के अनुसार साल 2017 में कंपनी ने कुल 60 हजार डिवाइस बेचे हैं। हालांकि नया ऑफर आने के बाद से हमें काफी अच्छा रिस्पांस मिला है। कंपनी ने साल 2018 के पहले तीन महीने में अच्छी बिक्री की है। हमें उम्मीद है कि मार्च 2018 तक 55 हजार डिवाइस बेच सकेंगे। पूरे साल के लिए कंपनी ने 1.80 लाख डिवाइस बेचने का लक्ष्य रखा है। इसके अलावा हम 4 साल की वारंटी भी दे रहे हैं। आम तौर पर एक अच्छी डिवाइस सही से इस्तेमाल पर 7-8 साल आसानी से चल जाती है। 
 
कंपनी इस साल बनाएगी 350 डीलर
 
मिश्रा के अनुसार कंपनी बढ़ती डिमांड को देखते हुए अपने डीलर नेटवर्क में भी तेजी से इजाफा कर रही है। कंपनी मार्च 2019 तक देश में अपने डीलर्स की संख्या 600 तक पहुंचाएगी। अभी कंपनी के देश भर में 250 डीलर हैं। कंपनी देश के सभी प्रमुख क्षेत्रों में डीलर की संख्या में इजाफा करेगी। इसमें प्रमुख रुप से दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, बंगलुरू, भोपाल, अहमदाबाद जैसे शहर शामिल रहेंगे।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट