Advertisement
Home » इंडस्ट्री » कम्पनीजKumbh JioPhone launched especially for pilgrims

अब कुंभ में बिछड़े लोगों को मिलेगा जियो का ये खास फोन, खर्च करने होंगे केवल 501 रुपए, साथ में 6 महीने तक सबकुछ फ्री

भीड़ में खोए हुए आपके रिश्तेदारों को ढूंढने में भी मदद करेगा।

1 of

नई दिल्ली। प्रयागराज में कुंभ मेले का शुभारंभ जल्द ही होने वाला है। ऐसे में जियो ने श्रद्धालुओं को आकर्षित करने के लिए जियोफोन की पेशकश की है। 'कुंभ जियोफोन' नाम के इस फोन से श्रद्धालुओं को मेले से जुड़ी सभी जानकारियां मिलती रहेंगी। इस फोन में श्रद्धालुओं को ट्रेन और बस की जानकारी के साथ ही किस दिन कौन सा स्नान है इस बारे  में भी पूरी जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा 'कुंभ जियोफोन' भीड़ में खोए हुए आपके रिश्तेदारों को ढूंढने में भी मदद करेगा।  'कुंभ जियोफोन' में फैमिली लोकेटर नाम का एक फीचर है  जिससे आपके लापता रिश्तेदार की लोकेशन पता चल जाएगी। 


 'कुंभ जियोफोन' में उपलब्ध जियोटीवी में श्रद्धालु कुंभ मेले के खास पर्वों और कार्यक्रमों का वीडियो प्रसारण देख सकेंगे। इस जियोफोन में यू-ट्यूब, फेसबुक और व्हाट्सएप जैसे प्रमुख सोशल मीडिया ऐप्स पहले से ही मौजूद हैं। जियोफोन की मदद से श्रद्धालु विदेशों में बैठे अपने रिश्तेदारों से भी बात कर पाएंगे। कंपनी ने एक खास ऑफर के तहत मात्र 501 रुपए में 'कुंभ जियोफोन' निकाला है। इसके लिए आप अपने किसी भी  2जी/3जी या 4जी फोन को 'कुंभ जियोफोन' से बदल सकते हैं। कुंभ जियोफोन के लिए रिफंडेबल सिक्योरिटी के रुप में 501 रु देने होंगेऔर साथ ही 594 रु का रिचार्ज कराना होगा। इस रिचार्ज को कराने से  ग्राहकों को  6 महीनों के लिए अनलिमिटेड कॉलिंग और डेटा मिलेगा। इसके अलावा ग्राहकों को हर दिन हजारों रु के ईनामी वाउचर और 4जी डेटा जीतने का मौका भी मिलेगा। 

Advertisement

होंगी ये सब सुविधाएं

मेले में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं को सभी प्रकार की सुविधाएं देने और मेले को भव्य बनाने के लिए कुंभ नगरी में दुनिया का सबसे बड़ा अस्थायी शहर बनाया जा रहा है। इसके निर्माण में 4300 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। इस शहर में लंबी सड़कें, पुल, गाड़ियों के लिए पार्किंग स्पेस, सैंकड़ों रसोईघर समेत हर तरह का जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर होगा। मेले में पांच हजार NRI शरीक होंगे। कुल मिलाकर यहां डेढ़ करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के जुटने की उम्मीद है। मेले के आयोजन के लिए तैयार किए गए इस अस्थायी शहर में 250 किमी लंबी सड़कें और 22 पण्टून पुल बनाए गए हैं। पहली बार मेले में 40,000 से ज्यादा एलईडी लाईट लगाई जा रही हैं, जिससे मेले में रात को भी दूधिया रोशनी रहे। 20 लाख वर्ग फुट की दीवारें चित्रों से सजाई जा रही हैं, जो श्रद्धालुओं को भारतीय संस्कृति से रूबरू कराएंगी। पूरा मेला परिसर सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होगा।

स्वच्छता पर होगा विशेष ध्यान

मेले में एक लाख 22 हजार शाैचालय बनाए जाएंगे और पिछले कुंभ के मुकाबले दोगुने से ज्यादा सफाई कर्मी तैनात किए जाएंगे। 2013 के कुंभ में सिर्फ 34,000 शौचालय बनाए गए थे। पहली बार आधुनिक तकनीकों से कचरा उठाया जाएगा। पहली बार 20,000 डस्टबिन, ठोस कचरा प्रबंधन के लिए 140 टिपर और 40 कॉम्पैक्टर इस बार तैनात किए गए हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement