विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesIndia airport privatisation plan draws interest from Switzerland to Singapore

देश के इन 6 हवाई अड्डों को चलाएंगी सिंगापुर और स्विट्ज़रलैंड की कंपनियां

6 हवाईअड्डों को निजी हाथों में सौंपा जाना है

1 of

नई दिल्ली। देश के 6 हवाई अड्डों के संचालन के लिए कई विदेशी कंपनियां भी अपनी दिलचस्पी दिखा रही हैं। इसमें ज्यूरिख और सिंगापुर के चांगी एयरपोर्ट का संचालन करने वाली कंपनियां भी शामिल हैं। जिन 6 हवाईअड्डों को निजी हाथों में सौंपा जाना है उनमें अहमदाबाद, जयपुर, लखनऊ, गुवाहाटी, तिरुवनंतपुरम, और मंगलुरू के हवाई अड्डे शामिल हैं। अभी इन हवाई अड्डों का संचालन फिलहाल एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI)की तरफ से किया जाता है। इस मामले से जुड़े 2 लोगों के अनुसार, AAI जल्द से जल्द इन हवाई अड्डों का  निजीकरण करने की योजना बना रही है।

 

14 फरवरी तक जमा होंगे टेंडर

मामले के जानकार लोगों के अनुसार, जर्मन हवाई अड्डे की ऑपरेटर एविलांस, अमेरिकी वित्तीय निवेशक ग्लोबल इन्फ्रास्ट्रक्चर पार्टनर्स, सिडनी स्थित निवेश प्रबंधक एएमपी कैपिटल ने इन हवाई अड्डों के संचालन में अपनी रूचि दिखाई है। इसके अलावा अनिल अंबानी की रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर,  राष्ट्रीय निवेश और बुनियादी ढांचा कोष, अदानी समूह के साथ दिल्ली-मुंबई के हवाई अड्डों का संचालन कर रहीं GVK और GMR भी 6 एयरपोर्ट के संचालन में रूचि दिखा रही हैं। इसके लिए 14 फरवरी तक टेंडर जमा किया जाना है। सफल बोलीदाताओं की घोषणा 28 फरवरी को की जाएगी। 

एविएशन क्षेत्र में होगा 10 हजार करोड़ का निवेश

स्वतंत्र एजेंसी क्रिसिल में ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक डायरेक्टर जगनारायण पद्मनाभन के अनुसार, इन 6 हवाई अड्डों के पुनर्विकास से  9813 करोड़ रुपए का निवेश होगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक एयरपोर्ट के पुनर्विकास के लिए कम से कम 1400 करोड़ रुपए खर्च करने होंगे। जगनारायण ने कहा कि सरकार के इस कदम से एविएशन क्षेत्र में करीब 8 से 10 हजार करोड़ रुपए का निवेश होगा।

Flughafen Zurich ने की पुष्टि

उधर, ज्यूरिख हवाई अड्डे का संचालन करने वाली कंपनी Flughafen Zurich के प्रवक्ता ने भी टेंडर प्रक्रिया में भाग लेने की पुष्टि की है। कंपनी के प्रवक्ता का कहना है कि कंपनी इसमें भाग लेने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि कंपनी किन हवाई अड्डों के लिए बोली लगाएगी, अभी इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है। हालांकि, जीआईपी, एएमपी कैपिटल, और एविएलेन्स के प्रवक्ता ने इसपर  टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन