Home » Industry » CompaniesForbes 2018 : top 100 richest people of India

10 साल पहले लोकल अस्पताल में नौकरी करते थे शमशीर, आज हैं 11 हजार करोड़ के मालिक

फोर्ब्स की टॉप 100 की लिस्ट में शामिल है शमशीर का नाम

1 of

नई दिल्ली. मशहूर मैगजीन फोर्ब्स ने गुरुवार को 100 अमीर भारतीयों की लिस्ट जारी की। इस लिस्ट में शमशीर वायलील का नाम शामिल है। वह 41 साल के हैं और पेशे से डॉक्टर है। फोर्ब्स ने उनकी दौलत का आकलन 1.54 बिलियन डॉलर (लगभग 11 हजार करोड़ रुपए) है। पिछले दिनों केरल आपदा में 50 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद देकर चर्चा में आए शमशीर फोर्ब्स की लिस्ट में 98वें स्थान पर हैं। आइए, जानते हैं कौन हैं डॉ. शमशीर 

 

कभी रेडियोलॉजिस्ट की करते थे नौकरी 
शमशीर का जन्म 11 जनवरी 1977 को केरल के कोझिकोड जिले में हुआ था। उनकी स्कूली और कॉलेज की पढ़ाई भी केरल में ही हुई है। मेडिकल स्टडीज के बाद वह मिडिल ईस्ट में शिफ्ट हो गए और वहां एक लोकल अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट की नौकरी करने लगे। 

 

ससुर की मदद से शुरू किया अस्पताल 
फोर्ब्स मैगजीन के मुताबिक, 2007 में डॉ. शमशीर ने अपने ससुर की मदद से अबु धाबी में एक अस्पताल की शुरुआत की और उसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा। उनके ससुर एमए युसूफ अली की गिनती गल्फ के बिलेनियर्स में होती है। 

 

मिडिल ईस्ट में फैला बिजनेस 
अब वह वीपीएस हेल्थकेयर संस्थापक और प्रबंध निदेशक हैं। उनका हेल्थकेयर बिजनेस पूरे मिडिल ईस्ट में फैला हुआ है। वीपीएस के पास इस समय भारत, यूरोप और मिडिल ईस्ट में 22 अस्पताल और 125 मेडिकल केंद्र हैं। उन्हें साल 2014 में भारत सरकार ने प्रवासी भारतीय सम्मान से सम्मानित किया था। 

 

आगे पढ़ें : दिल्ली के इस अस्पताल के हैं मालिक 

रॉकलैंड अस्पताल भी हैं उनके पास 
दिल्ली व गुरुग्राम स्थित रॉकलैंड अस्पताल भी वीपीएस हेल्थकेयर ने खरीद लिया। इसके अलावा कोच्ची में लेकशॉर अस्पताल भी उनके पास ही है। 

 

 

इन्वेस्टमेंट फर्म में भी भागेदारी 
साल 2017 में शमशीर ने इन्वेस्टमेंट फर्म अमानत होल्डिंग्स में 21 फीसदी की हिस्सेदारी खरीदी और वाइस चेयरमैन व एमडी का चार्ज ले लिया। 

 

आगे पढ़ें : केरल में करना चाहते हैं काम 

केरल में करना चाहते हैं काम
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केरल में आई आपदा के बाद शमशीर ने कहा था कि केरल में आई बाढ़ के बाद वह वहां हाउसिंग, हेल्थकेयर और शैक्षिक जरुरतों के लिए परियोजना पर काम करेंगे। इसकी देखरेख प्रतिष्ठित शख्सियतें करेंगी। लोगों की बिमारियों का समाधान करते हुए उन्हें दोबारा घर बनाने में मदद की जाएगी। प्रभावित क्षेत्रों में स्कूलों को दोबारा खड़ करना दूसरी प्राथमिकता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट