Advertisement
Home » इंडस्ट्री » कम्पनीजDo not ignore this mail from the company

कंपनी के इस मेल को ना करें इग्नोर नहीं तो कट सकती है आपकी सैलरी

कर्मचारियों को करना पड़ सकता है भारी नुकसान का सामना

1 of

नई दिल्ली। अगर आप किसी प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं तो जरूरी है कि आप कंपनी की तरफ से आने वाले सभी मेल्स पर ध्यान दें। कंपनी की तरफ से आने वाले यह मेल कई बार आपके लिए जरूरी भी साबित हो सकते हैं। कभी-कभी व्यस्तता के चलते हम बहुत से मेल को देख नहीं पाते ऐसे में हो सकता है कि आपको इसका भुगतान भी करना पड़ सकता है। सभी प्राइवेट कंपनियों में इन्वेस्टमेंट प्रूफ देने के लिए ई-मेल आने शुरू हो गए हैं। ऐसे में आपकी कंपनी का अकाउंट डिपार्टमेंट आपसे एक निश्चित तारीख तक इन्वेस्टमेंट के प्रूफ देने के लिए कह सकता है।

 

इन्वेस्टमेंट प्रूफ जमा कराने के पीछे ये होती है वजह

यदि आपने इस मेल को इग्नोर कर दिया तो टैक्स काटने के बाद ही सैलरी आपके बैंक अकाउंट में आएगी। ऐसे में यदि आप चाहते हैं कि आपकी सैलरी ना कटे तो आपको समय पर अपने सभी प्रूफ जमा कराने होंगे। वित्त वर्ष के समाप्त होने से पहले सभी प्राइवेट कंपनियां अपने कर्मचारियों से इन्वेस्टमेंट प्रूफ की एक कॉपी मांगती है। ताकि वह  आपके द्वारा टैक्स बचाने के लिए किए गए इंवेस्टमेंट की जांच कर सके। कंपनी ऐसा आपको टैक्स ज्यादा या कम देने के झंझट से बचाने के लिए ऐसा करती हैं। इन्वेस्टमेंट प्रूफ के तौर पर कर्मचारियों को अपने लाइफ या हेल्थ पॉलिसी की रसीद देती पड़ती है।  

Advertisement

ये डॉक्यूमेंट होते हैं जमा

हेल्थ पॉलिसी की अवधि में अगर आप या फिर आपके परिवार के किसी सदस्य ने अस्पताल में इलाज कराया है तो उसकी रसीद भी देनी होगी। इसके अलावा अगर आपने कोई हेल्थ चेकअप करवाया है तो उसका बिल भी दिखाना पड़ता है। इसके साथ ही यदि कर्मचारी ने  नेशनल पेंशन सिस्टम, नेशनल सेविंग स्कीम, म्युचुअल फंड, पीपीएफ में पैसा लगाया है तो इनकम टैक्स में सेविंग के लिए आप इसका प्रूफ भी जमा कराना पड़ता है। आप इनका अकाउंट स्टेटमेंट अथवा पासबुक की फोटोकॉपी को जमा कर सकते हैं।

HRA भरकर कर सकते हैं  टैक्स सेविंग

यदि कर्मचारी किराए के मकान में रहता है तो उसे टैक्स में छूट मिल सकती है। इसके लिए कर्मचारी को कंपनी में किराए के घर की रसीद जमा करानी होती है। यदि कर्मचारी  8 हजार रुपए से ज्यादा मकान का किराया देता है तो  एचआरए भरकर टैक्स सेविंग कर सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement