बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesसाइरस मि‍स्‍त्री का एयरएशि‍या मामले में टाटा पर बड़ा हमला, कहा कंपनी और बेहतर लोगों की हकदार

साइरस मि‍स्‍त्री का एयरएशि‍या मामले में टाटा पर बड़ा हमला, कहा कंपनी और बेहतर लोगों की हकदार

टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस पी मिस्त्री ने गुरुवार को एयरएशिया मामले में टाटा संस पर बड़ा हमला बोला है।

साइरस मि‍स्‍त्री का एयरएशि‍या मामले में टाटा पर बड़ा हमला, कहा कंपनी और बेहतर लोगों की हकदार
नई दि‍ल्‍ली. टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस पी मिस्त्री ने गुरुवार को एयरएशिया मामले में टाटा संस पर बड़ा हमला बोला है। मिस्त्री ने सीबाआई की एफआईआर में आरोपी एयरएशि‍या के डायरेक्‍टर आर. वेंकटरमन और चीफ एक्‍जीक्‍युटि‍व टोनी फर्नांडीज पर आरोप लगाया कि‍ इन लोगों ने टाटा के नाम का यूज अपने संदि‍ग्‍ध कामों को छुपाने के लि‍ए कि‍या है। 
 

बता दें कि पिछले साल साइरस मिस्त्री ने आरोप लगाया था कि एयर एशिया एयरलाइंस में भारत और सिंगापुर में छद्म इकाइयों के जरिए 22 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी हुई है। जिसके बाद जांच के लिए यह केस रजिस्टर हुआ था। अब ईडी ने इस मामले में एयर एशिया के टॉप ऑफिशियन के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत केस दर्ज किया है। इसके पहले सीबीआई मामले में केस दर्ज कर जांच कर रही है।

 
बदले की भावना से नहीं लगाए आरोप
वहीं, 2016 के अंत में टाटा संस चेयरमैन पद से हटाए गए सायरस मि‍स्‍त्री ने आर. वेंकटरमन के उन आरोपों को भी झूठ बताया कि‍ उन्‍होंने यह आरोप बदले की भावना से टाटा ब्रांड को बदनाम करने के लि‍ए लगाए हैं। 
 
टाटा ब्रांड और कर्मचारी बेहतर के हकदार
सायरस मि‍स्‍त्री ने एक बयान में कहा कि‍ टाटा संस और टाटा ट्रस्टी बोर्ड को मानकों में कमी को लेकर खुद ही मामले में चि‍ंता करनी चाहि‍ए थी। लेकि‍न एयरएशिया इंडिया के खि‍लाफ दर्ज हुआ यह मामला बताता है कि‍ टाटा ब्रांड और उसके कर्मचारी इससे बेहतर के हकदार है। 
 
उन्होंने कहा कि‍ यह बात बहुत ज्‍यादा परेशान करने वाली है कि‍ संदिग्ध उद्देश्यों वाले कुछ लोग आज टाटा ब्रांड को अपमानित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वेंकटरमन अपनी शुरुआत से ही टाटा और एयरएशिया इंडिया के मामलों में शामिल थे। 
 
बेहद कमजोर है वेंकटरमन का बहाना
मिस्त्री ने कहा कि वेंकटरमन ने कंपनी के गठन के समय से ही कंपनी में कई जि‍म्‍मेदारी नि‍भाते रहे हैं। इसके अलावा वह रतन टाटा के कार्यकारी सहायक भी रहे और टाटा संस के उम्मीदवार के रूप में बोर्ड में भी शामि‍ल रहे। वहीं, वेंकटरमन के पास कंपनी में 1.5 फीसदी हि‍स्‍सेदारी भी हैं। मि‍स्‍त्री ने आगे कहा कि‍ ऐसे में वेंकटरमन का यह कहना कि‍ वह सि‍र्फ नॉन एक्‍जीक्‍युटि‍व डायरेक्‍टर थे, जि‍नके पास कोई जि‍म्‍मेदारी नहीं थी। यह बहुत ही कमजोर बहाना है। 
 
क्‍या है मामला : नि‍यम से छूट लेने के लि‍ए कानून तोड़े  
CBI एयर एशिया ग्रुप के CEO एंथनी फ्रांसिस टोनी फर्नांडीज, वेंकटरमनन सहित 5 से ज्‍यादा लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर चुकी है। आरोप है कि इन लोगों ने इंटरनेशनल फ्लाइंग लाइसेंस लेने के लिए कानूनों का उल्‍लंघन किया है। अधिकारियों के मुताबिक, एयर एशिया के डायरेक्‍टर्स ने एविएशन सेक्‍टर के 5/20 नियमों से छूट के लिए कानून तोड़े हैं। इसके अलावा फर्नांडीज व अन्‍य पर फॉरेन इनवेस्‍टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) नियमों का भी उल्‍लंघन करने का आरोप है।  
 
सरकारी कर्मचारि‍यों का नाम भी शामि‍ल 
CBI की ओर से दर्ज FIR में ट्रैवल फूड ओनर सुनील कपूर, एविएशन कंसल्‍टेंट दीपक तलवार, सिंगापुर स्थित SNR ट्रेडिंग के डायरेक्‍टर राजेन्‍द्र दुबे और कुछ अनजान सरकारी कर्मचारियों के नाम भी शामिल हैं। CBI ने टोनी फर्नांडीज और वेंकटरमनन पर लाइसेंस के लिए क्‍लीयरेंस पाने को लेकर सरकारी कर्मचारियों को अपने पक्ष में करने, एविएशन के मौजूदा 5/20 नियम से छूट पाने और रेगुलेटरी पॉलिसीज में बदलाव करने का आरोप लगाया है।
 
बेतुके हैं आरोप 
इस बीच एयर एशि‍या ने कहा है कि‍ सीबीआई के आरोप बेतुके हैं। कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि‍ सीबीआई का यह आरोप बेमानी है कि एयर एशि‍या लि‍मि‍टेड का कंट्रोल फॉरेन एक्‍सचेंज इनवेस्‍टमेंट एक्‍ट ( FEMA ) के कायदों के हि‍साब से नहीं चल रहा था। एयरलाइन के मुताबि‍क, दि‍ल्‍ली हाईकोर्ट के आदेश के तहत डीजीसीए ने फरवरी 2017 में इस सि‍लसि‍ले में एक वि‍स्‍तृत आदेश जारी कि‍या था। इस आदेश में कहा गया था कि ब्रांड लाइसेंस एग्रीमेंट की शर्तों का मतबल केवल इतना था कि ब्रांड और उसकी सेवाओं में एकरूपता बनी रहे। यह शर्तें यात्रि‍यों के फायदे के लि‍ए हैं। 
 
 
मि‍स्‍त्री को दि‍खाया गया था बाहर का रास्‍ता 
वेंकटरमनन सर दोराबजी टाटा ट्रस्‍ट के मैनेजिंग ट्रस्‍टी भी हैं। उन्‍होंने कहा कि ट्रस्‍ट को बदनाम करने की सायरस मि‍स्‍त्री और उनकी कंपनी के प्रयासों के बावजूद हम अपने लोगों के जीवन की गुणवत्‍ता बढ़ाने में लगे रहे। गौरतलब है कि सायरस मि‍स्‍त्री को टाटा ग्रुप से 2016 में बाहर कर दि‍या गया था। इस दौरान मि‍स्‍त्री ने ग्रुप पर कई तरह के आरोप लगाए थे। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट