Home » Industry » CompaniesTatas,TCS violated rules in sacking Mistry: RTI reply from RoC

नियम ताक पर रखकर टाटा ग्रुप-TCS से हटाए गए मिस्त्री, RTI में खुलासा

Cyrus Mistry को टाटा संस के चेयरमैन और टाटा कंसल्टैंसी सर्विसेस (TCS) के डायरेक्टर पद से हटाकर कंपनी एक्ट के प्रोविजंस

Tatas,TCS violated rules in sacking Mistry: RTI reply from RoC

 

मुंबई. साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन और टाटा कंसल्टैंसी सर्विसेस (TCS) के डायरेक्टर पद से हटाकर कंपनी एक्ट के प्रोविजंस, आरबीआई रूल्स और उससे भी ज्यादा अहम टाटा ग्रुप के अपने आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन का उल्लंघन किया गया था। मुंबई के रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (ROC) ने एक आरटीआई के जवाब में यह बात कही है।

 

शापूरजी पालोनजी ग्रुप की इन्वेस्टमेंट आर्म ने फाइल की थी आरटीआई

आरओसी, मुंबई के असिस्टैंट रजिस्ट्रार उदय खोमाने द्वारा 3 अक्टूबर को भेजे गए आरटीआई के जवाब से ये बातें सामने आई हैं। यह आरटीआई एप्लीकेशन 31 अगस्त को शापूरजी पालोनजी ग्रुप की इन्वेस्टमेंट आर्म ने फाइल की थी।

 

 

इन नियमों का किया उल्लंघन

इस जवाब में कहा गया कि जिस तरीके से टाटा संस के चेयरमैन पद और टीसीएस के डायरेक्टर पद से मिस्त्री को हटाया गया, उससे कंपनीज एक्ट 2013 के लीगल प्रोविजंस, आरबीआई के एनबीएफसी से संबंधित नियमों और उससे भी ज्यादा अहम टाटा संस के आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन के रूल 118 का उल्लंघन हुआ। टाटा संस डायवर्सिफाइड टाटा ग्रुप की पैरेंट कंपनी है, जो मॉनिटरी अथॉरिटी में एक एनबीएफसी के तौर पर रजिस्टर्ड है।  

हालांकि पीटीआई द्वारा भेजे गए सवालों पर टाटा संस के स्पोक्समैन कोई टिप्पणी करने से इनकार करते हुए कहा, ‘मामला कोर्ट में विचाराधीन होने के कारण हम इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं।’

 

 

NCLT के उलट है आरओसी का व्यू

आरटीआई का जवाब टाटा ग्रुप के बोर्डरूम द्वारा 24 अक्टूबर, 2016 को मिस्त्री को ग्रुप चेयरमैन पद से हटाने के संबंध में दिए गए डॉक्युमेंट्स के आकलन पर आधारत है।

इस रिपोर्ट से आरओसी मुंबई के इंटरनल व्यू का पता चलता है, जो दिलचस्प तौर पर पूर्व में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) द्वारा दी गई राय के बिल्कुल उलट है। गौरतलब है कि एनसीएलटी ने मिस्त्री द्वारा ग्रुप से उनको हटाने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका को इस साल की शुरुआत में खारिज कर दिया था।

 

आनन-फानन में हटाए गए थे मिस्त्री

24 अक्टूबर, 2016 को बोर्ड मीटिंग में मिस्त्री को आनन-फानन में हटा दिया गया था। उस समय मिस्त्री के कार्यकाल के 4 साल पूरा होने में 2 महीने का वक्त बाकी था। मिस्त्री की फैमिली की टाटा संस में 18.4 फीसदी हिस्सेदारी है और वह 100 अरब डॉलर से ज्यादा के ग्रुप की कमान संभालने वाले पहले टाटा फैमिली से बाहर के दूसरे चेयरमैन थे। मिस्त्री ने रतन टाटा के रिटायर होने के दिसंबर, 2012 में रिटायर होने के बाद कमान संभाली थी।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट