Home » Industry » Companies#MeToo Google reveals 48 employees fired

गूगल में भी यौन उत्पीड़न, कंपनी ने 48 लोगों को नौकरी से निकाला

गूगल ने कड़े रुख का हवाला देते हुए यह कार्रवाई की है।

1 of

नई दिल्ली: #Metoo अभियान का असर बॉलीवुड के साथ-साथ कंपनियों में भी देखने को मिल रहा है। गूगल ने इस अभियान के चलते दो सालों में यौन उत्पीडन के आरोपों से घिरे 48 लोगों को नौकरी से निकाल दिया है। इन 48 लोगों में 13 वरिष्ठ प्रबंधकों का भी नाम शामिल है। गूगल ने कड़े रुख का हवाला देते हुए यह कार्यवाई की है। अमेरिका की दिग्गज कंपनी गूगल ने सुदंर पिचई की ओर से यह बयान जारी किया है।

 

न्यूयॉर्क टाइम की एक खबर के जवाब में कंपनी ने यह बयान जारी किया है। इस बयान में कहा गया कि गूगल के एक वरिष्ठ कर्मचारी, एंड्रॉयड का निर्माण करने वाले एंडी रुबिन पर कदाचार के आरोप लगने के बाद उन्हें नौ करोड़ डॉलर का एग्जिट पैकेज देकर कंपनी से हटाया गया। साथ ही इसमें कहा गया कि गूगल ने यौन उत्पीड़न के अन्य आरोपों को भी छिपाने के लिए इसी तरह के कार्य किए हैं। मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कंपनी ने पिचई की ओर से एक ई-मेल जारी किया जिसमें पिछले 2 सालों में 13 वरिष्ठ प्रबंधकों समेत 48 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला गया है। निकाले गए कर्मचारियों में से किसी को भी एग्जिट पैकेज नहीं दिया गया।

 

यौन उत्पीड़न पर बोले सुंदर पिचई

पिचई ने कहा, “हाल के वर्षों में हमने कई बदलाव किए हैं जिनमें आधिकारिक पदों पर आसीन लोगों के अनुचित व्यवहार को लेकर सख्त रवैया अपनाना भी शामिल है। उन्होंने कहा कि रुबिन एवं अन्य पर दी गई खबर “भ्रामक थी’’। उन्होंने कहा  “हम सुरक्षित एवं समावेशी कार्यस्थाल उपलब्ध कराने के लिए बहुत गंभीर हैं।  हम आपको आश्वस्त करना चाहते हैं कि हम यौन उत्पीड़न या अनुचित व्यवहार की प्रत्येक शिकायत की समीक्षा करते हैं, हम जांच करते हैं और हम कार्रवाई करते हैं।” इससे पहले भी  ऐसे कई मामले सामन आए हैं जिसमें यौन उत्पीड़न के मामलों के चलते कर्मचारियों को कंपनी से निकाला गया है। 

आगे पढ़ें, 

#Metoo अभियान  के चलते केंद्र सरकार का बड़ा कदम

#Metoo अभियान  की तर्ज पर कार्यस्थलों पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न को लेकर केंद्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया गया है। इस मामले पर एक मंत्री समूह यानी जीओएम का गठन किया है। ये समूह कार्यस्थलों पर यौन उत्पीड़न को रोकने और इससे निपटने के लिए बना कानूनी और संस्थानिक ढांचा मजबूत करने के उपाय सुझाएगा. इस मंत्री समूह की अगुवाई गृह मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे. इसमें सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को भी शामिल किया गया है।

आगे पढ़ें, 

बॉलीवुड में भी #Metoo का असर
#Metoo के चक्कर में बॉलीबुड की 275 करोड़ की तीन फिल्में 'मुगल',  'हाऊसफुल 4' और 'सुपर 30'  फंस चुकी हैं। #Metoo मूवमेंट के कारण बॉलीवुड के दो प्रोडक्शन हाऊस AIB और फेंटम पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। AIB के गुरसिमरन खंबा और रजत कपूर पर भी #Metoo अभियान के चलते यौन उत्पीडन का मामला दर्ज है। अपने तीसरे सीजन  में AIB ने 30 एपिसोड चलाने का फैसला किया था, लेकिन इस अभियान के कारण AIB के 70 फीसदी शो को रद्द कर दिया गया है। रही बात बॉलीबुड की अपकमिंग फिल्म 'सुपर 30' की तो इस फिल्म को बनाने में 100 करोड़ खर्चा हुआ है यह फिल्म नवंबर 2018 में रिलीज होने वाली थी। दूसरी ओर हाऊसफुल का बजट 75 करोड़ है और मुगल का बजट 100 करोड़ रुपये से ऊपर है। इन तीनों फिल्मों में खर्च किए गए इतने बड़े बजट के चलते निर्माता #Metoo विवाद से बचने के लिए सभी प्रयास कर रहे हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट