Home » Industry » CompaniesWhatsApp to limit message forwarding in india for control fake news, news update of whatsapp

Whatsapp पर एक साथ नहीं भेज पाएंगे 5 से ज्यादा मैसेज, फेक न्यूज रोकने के लिए तय हुई लिमिट

Whatsapp ने यह बदलाव सिर्फ भारत में रहने वाले यूजर्स के लिए किया है।

1 of

नई दिल्ली। अगर आप भी Whatsapp यूजर हैं तो एक साथ 5 से ज्यादा मैसेज नहीं भेज पाएंगे। Whatsapp ने फेक न्यूज के प्रसार को रोकने के लिए भारतीय यूजर्स के लिए मैसेज भेजने की लिमिट तय कर दी है। कंपनी ने यह भी कहा है कि यूजर्स अब क्विक फारवर्ड बटन का भी इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे, जिसका ऑप्शन मीडिया मैसेज के बाद होता है। Whatsapp ने यह बदलाव सिर्फ भारत में रहने वाले यूजर्स के लिए किया है। 

 

 

Whatsapp का कहना है कि भारत में लोग दूसरे देशों से ज्यादा मैसेज, वीडियो या फोटोज फारवर्ड करते हैं। दुनियाभर में Whatsapp के 100 करोड़ यूजर्स हैं, जिसमें करीब 20 करोड़ भारत में ही हैं। पिछले दिनों ऐसी घटनाएं हुई हैं, कि फेक न्यूज के तेजी से प्रसार होने के चलते देशभर में कई अप्रिय घटनाएं हुई हैं। Whatsapp पर फेक न्यूज को लेकर भारत सरकार ने भी कंपनी को नोटिस भेजा है। इस बारे में Whatsapp ने भी पिछले दिनों गाइडलाइंस जारी की थी। 

 

सरकार ने Whatsapp को भेजा था  दूसरा नोटिस 
सरकार ने Whatsapp को गुरूवार को एक और नोटिस भेजकर फेक और भ्रामक मैसेज के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी समाधान करने को कहा था। सरकार ने चेतावनी दी है कि अफवाहों के प्रसार में माध्यम बनने वाले भी दोषी माने जाएंगे और उपाय न करने पर उन्हें भी कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा। सरकार ने देश में फेक और भ्रामक संदेश फैलने के कारण नाराज भीड़ द्वारा निर्दोष व्यक्तियों की हत्या समेत हिंसा के कई मामले सामने आने के बाद कड़ा रुख अख्तियार किया है।

सरकार पहले भी Whatsapp को इस तरह की खबरों और मैसेज पर रोक लगाने के लिए चेतावनी दे चुकी है। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जारी बयान में कहा कि बैड एलीमेंट्स द्वारा जब ऐसी खबरें फैलाई जाती हैं तो माध्यम बनने वाले जिम्मेदारी और जवाबदेही से नहीं बच सकते हैं। मंत्रालय ने इसे लेकर Whatsapp को अधिक प्रभावी समाधान लाने को कहा है। 

 

Whatsapp ने खुद जारी की थी गाइडलाइंस
सोशल मीडि‍या के माध्‍यम से झूठी खबरों, तस्‍वीरों और वीडि‍यो के जरिए फैलने वाली अफवाहों पर  लगाम लगाने को लेकर Whatsapp की ओर से भी कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं। Whatsapp ने मैसेज को लेकर सभी यूजर्स के लि‍ए नई गाइडलाइंस जारी की थी। इसमें बताया गया है कि‍ कि‍स तरह के मैसेज से आपको सावधान रहना है। अगर आप कि‍सी कानूनी मुसीबत में नहीं पड़ना चाहते तो इन्‍हें फॉलो करें। 

 

Whatsapp की ओर से जारी ताजा गाइडलाइंस 


1. यह मैसेज फारवर्ड होकर आया है

इस सप्‍ताह की शुरुआत से हम एक नया फीचर शुरू कर रहे हैं, जि‍सकी बदौलत आप ये जान सकते हैं कि कौन सा मैसेज फारवर्ड होकर आया है। अगर आपको नहीं पता कि मैसेज कि‍सने लि‍खा है तो तथ्‍यों को दोबारा चेक करें। 


2. यकीन करना कठि‍न हो तो चेक करें 
ऐसी कहानि‍यां जि‍न पर यकीन करना कठि‍न हो, आमतौर पर झूठी होती हैं। इसलि‍ए इधर उधर से पता करें कि यह सच है या झूठ। 


3. डराने वाले मैसेज आगे ना भेजें 
अगर आप संदेश में कुछ ऐसा पढ़ते हैं, जि‍ससे आपको गुस्‍सा आता है या डर लगता है तो यह जानने की कोशि‍श करें कि क्‍या उस संदेश का मकसद ही आपमें ऐसी भावनाएं जगाना था या नहीं और अगर जवाब 'हां' हैं तो आप उसे अन्‍य लोगों को ना भेजें। आगे पढ़ें ..........

 

4. ऐसे संदेशों से बचें जो थोड़े अलग दि‍खते हैं
अधि‍कतर ऐसे संदेश जि‍नमें धोखा या झूठी खबरें होती हैंए उनमें भाषा या व्‍याकरण की गलती होती है। ऐसे नि‍शानि‍यों को ध्‍यान में रखें ताकि आप पता लगा सकें कि संदेश में दी गई जानकारी सच है या नहीं।


5. फोटो को ध्‍यान से देखें 
फोटो और वीडि‍यो पर आसानी से यकीन कर लि‍या जाता है, लेकि‍न आपको भ्रमि‍त करने के लि‍ए फोटो और वीडि‍यो को एडि‍ट कि‍या जा सकता है। कभी कभी फोटो सच्‍ची होती है लेकि‍न उससे जुड़ी कहानी नहीं, इसलि‍ए ऑनलाइन जाकर पता लगाएं कि वह फोटो कहां से आई है। 

 

6. इधर उधर से पता लगाएं
घटना की सच्‍चाई जानने के  लि‍ए अन्‍य समाचार साइट्स या एप्‍स को देखें। अगर घटना सच्‍ची होगी तो संभव है कि‍ अन्‍य जगह भी पोस्‍ट की गई होगी। जब कि‍सी घटना की एक से अधि‍क जगह रि‍पोर्ट की जाती है तो उसके सच होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।


7. आप जो देखना चाहते हैं उसे नि‍यंत्रि‍त कर सकते हैं


आप Whatsapp पर कि‍सी भी नंबर को ब्‍लॉक कर सकते हैं या कि‍सी भी समूह को छोड़ सकते हैं। अपने Whatsapp अनुभव पर अपना नि‍यंत्रण रखने के लि‍ए ऐसी वि‍शेषताओं का उपयोग करें। आगे पढ़ें........

 

8. लिंक की जांच करें 
ऐसा लग सकता है कि‍ संदेश में मौजूद  लिंक कि‍सी परिचि‍त या जानी मानी साइट का है, लेकि‍न अगर उस लिंक में गलत वर्तनी का वि‍चित्र कैरेक्‍टर मौजूद हैं तो संभव है कि‍ कुछ गलत जरूर है। 


9. सोच समझकर आगे भेजें
अगर आप संदेश के स्रोत को नहीं जानते या आपको लगता है कि‍ संदेश में मौजूद जानकारी झूठी हो सकती है तो कृपया उसे अन्‍य लोगों को ना भेजें।


10. झूठी खबरें अक्‍सर फैल जाती हैं
आप इस बात पर ध्‍यान दें कि‍ आपने संदेश को कि‍तनी बार प्राप्‍त कि‍या है। सिर्फ इसलि‍ए की संदेश कई बार साझा कि‍या गया है, इसका मतलब यह नहीं है खबर सच्‍ची है।  ये भी पढ़ें- Amul के साथ बिजनेस का मौका, फ्रेंचाइजी के लिए नहीं देनी होगी रॉयल्‍टी फीस, होगा ज्‍यादा फायदा

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट