Home » Industry » CompaniesJet Airways offer Get up to 30% off on flight tickets

Jet Airways की सभी फ्लाइट्स पर 30% डिस्काउंट, कैश जुटाने के लिए दिया ऑफर

पैसों की कमी से जूझ रही जेट एयरवेज ने हाल ही में अपने बेसफेयर में डिस्काउंट की घोषणा की है।

1 of

नई दिल्ली. पैसों की कमी से जूझ रही जेट एयरवेज ने हाल में अपने बेसफेयर में डिस्काउंट की घोषणा की है। कंपनी ने अपनी सभी फ्लाइट्स पर 30 फीसदी का डिस्काउंट ऑफर किया है। लिमिटेड ऑफर के चलते यात्रियों को यह डिस्काउंट केवल एक हफ्ते के लिए ही  मिलेगा। यह डिस्काउंट ऐसे समय पर दिया जा रहा है जब कंपनी गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रही है। जेट एयरवेज ने एक प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि बुधवार से सात दिन तक टिकट बुकिंग पर 30 फीसदी तक डिस्काउंट दिया जाएगा। यह सुविधा बिजनेस और इकनॉमी दोनों क्लास के लिए उपलब्ध होगी। साथ ही जेट एयरवेज की साझेदार एयरलाइनों की कुछ कोड शेयर उड़ानों में भी यह ऑफर लागू होगा। 

 

गौरतलब है कि मुंबई में रविवार को एक साथ कई पायलटों के बीमार पड़ने की वजह से जेट एयरवेज को अपनी 14 उड़ानें  रद्द करनी पड़ी। माना जा रहा है कि विमान कंपनी द्वारा कई महीनों से सैलरी ना दिए जाने के चलते पायलट बीमारी का बहाना बनाकर छुट्‌टी पर हैं। सूत्रों का मानना है कि कई महीनों से पैसों की कमी से जूझ रही जेट एयरवेज ने बीते तीन महीनों से अपने सीनियर मैनेजमेंट, पायलट और इंजीनियर को सैलरी नहीं दी है। सितंबर में इन्हें आधी सैलरी दी गई थी लेकिन अक्टूबर और नवंबर की सैलरी अभी तक नहीं दी गई है। 

 

जेट एयरवेज ने किया खबर का खंडन
सूत्रों से यह भी पता चला है कि पायलट सैलरी ना मिलने का विरोध कर रहे हैं जिसकी वजह से सभी के बीमार पड़ने की सूचना मिली है। वहीं जेट एयरवेज ने इस खबर का खंडन करते हुए कहा है कि फ्लाइट्स 'अप्रत्याशित परिचालन परिस्थिति' की वजह से रद्द की गई हैं, न कि पायलटों के विरोध के वजह से ऐसा हुआ है। एक सूत्र के मुताबिक, पायलटों ने जेट एयरवेज के चेयरमैन नरेश गोयल को चिट्‌ठी लिखकर कहा है कि वह इस तरह बिना सैलेरी के काम नहीं कर पाएंगे। 

 

हम जल्द ही सभी मुद्दों को सुलझा लेंगे- जेट एयरवेज
जेट एयरवेज ने बताया कि उड़ानें रद्द होने पर यात्रियों को SMS के जरिए उनकी फ्लाइट के स्टेट्स के बारे में जानकारी दे दी गई थी और उन्हें या तो दूसरी फ्लाइट्स से भेजा गया या फिर मुआवजा दे दिया गया। असल बात को छुपाते हुए जेट एयरवेज के कहा कि उन्हें उनके कर्मचारियों  का पूरा साथ मिल रहा है और हम जल्द ही सभी मुद्दों को सुलझा लेंगे।  

 

अगली स्लाइड में पढ़ें-कैश की भारी तंगी से जूझ रही है कंपनी

कैश की तंगी से जूझ रही है जेट
मार्केट शेयर के मामले में भारत की सबसे बड़ी फुल सर्विस करियर जेट इन दिनों कैश की भारी तंगी से जूझ रही है। नरेश गोयल द्वारा स्थापित 25 साल पुरानी इस एयरलाइन पर पट्टादाताओं और वेंडर्स का खासा पैसा बकाया है। वह पायलट और वरिष्ठ अधिकारियों को सैलरी देने में खासी देरी कर चुकी है। कंपनी अपने नॉन प्रॉफिटेबल रूट्स पर लगातार फ्लाइट्स की संख्या में कटौती कर रही है।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें क्यों बढ़ रही है जेट एयरवेज की मुश्किलें

इन वजहों से बढ़ीं जेट की मुश्किलें
हाल के महीनों दुनिया का सबसे तेजी से उभरते एविएशन मार्केट फ्यूल की ऊंची कीमतों, कमजोर होते रुपए और देश में छिड़ी प्राइस वार से जेट एयरवेज की मुश्किलें बढ़ गई हैं। वैसे भी भारतीय बाजार में नो-फ्रिल यानी किफायती सेवा देने वाली एयरलाइंस के वर्चस्व के बीच जेट एयरवेज के लिए टिका रहना मुश्किल हो रहा है। जेट एयरवेज (Jet Airways) को मुश्किलों से उबारने के लिए एतिहाद एयरवेज (Etihad Airways) आगे आती दिख रही है। रॉयटर्स के मुताबिक संयुक्त अरब अमीरात की एयरलाइन रिस्क्यू प्लान के लिए जेट एयरवेज और उसके बैंकर्स के साथ बातचीत कर रही है। एतिहाद एक बार पहले भी जेट को बचाने के लिए आगे आ चुकी है, जब उसने वर्ष 2013 में भारतीय एयरलाइन की 24 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था। हालांकि इस बार हालात काफी अलग हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट