Home » Industry » CompaniesHackers use different methods to hack your atm

एक माचिस की तीली से भी हो सकता आपका ATM हैक, हैकर्स करते हैं इन सभी तरीकों का इस्तेमाल

ATM हैक करने के लिए हैकर्स करते हैं की तरीकों का इस्तेमाल

1 of

नई दिल्ली। दिल्ली जैसे बड़े शहरों में एटीएम फ्रॉड से जुड़ी घटनाएं दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं। शहरों में कई ऐसे गैंग हैं जो इन वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। जिससे अब लोगों का पैसा बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। पैसे चुराने के लिए यह गैंग ऐसे -ऐसे  पैंतरे आज़माते हैं कि जिसका आपको एहसास तक नहीं होता। हाल ही में दिल्ली में एटीएम फ्रॉड से जुड़ा एक केस सामने आया है जहां चोरों ने पूरे एटीएम को ही हैक कर लिया।

 

यह वाकया दिल्ली के चिराग दिल्ली में हुआ है। जानकारों की मानें तो चोरों ने एटीएम से पैसे लूटने के लिए माचिस की तीली, ग्लू स्टिक, थर्मो कैम, शोल्डर सर्फिंग आदि तरीको का इस्तेमाल किया जाता है। वहीं साइबर एक्सपर्ट प्रबेश चौधरी ने दावा किया है कि दिल्ली में हाल ही में हुए पीएनबी के एटीएम हैक केस में स्कीमर ट्रिक का इस्तेमाल किया गया था। स्कीमर ट्रिक का इस्तेमाल इन दिनों सभी एटीएम हैक के लिए किया जा रहा है। 

 

शोल्डर सर्फिंग के जरिए भी पता लगाया जा सकता है एटीएम पिन
क्रिप्टस साइबर सिक्यॉरिटी एजेंसी के डायरेक्टर ने स्कीमर ट्रिक की जानकारी देते हुए कहा कि कोई भी एटीएम इस बात पर निर्भर करता है कि क्लोनिंग कार्ड कैसा है। उन्होंने कहा कि यदि आप मुझे नया एटीएम देते हो और  मेरे पास खाली कार्ड है तो आसानी से क्लोनिंग की जा सकती है। इसके  लिए एक डिवाइस होता है जिससे उसे स्कैन कर ब्लैंक कार्ड में डाला जाता है। इसके बाद एटीएम पिन की जरूरत होती है जिसे फ्रॉड कॉल के जरिए भी लिया जा सकता है। और  शोल्डर सर्फिंग के जरिए भी पता लगाया जा सकता है। 

 

अगली स्लाइड में पढ़ें हैकर्स कैसे पता लगाते है आपके एटीएम पिन का

स्कीमर ट्रिक एटीएमहो जाता है क्लोन 
उन्होंने कहा कि ऐसा कई बार होता है जब लोग एटीएम पर जाते हैं और उन्हे ट्रांजैक्शन फेल दिखाई देता है लेकिन कुछ ही देर बार उनके पास ट्रांजैक्शन सक्सेसफुल का मेसेज आता है। ये सभी चीजें स्कीमर डिवाइस की मदद से की जाती है। इस डिवाइस के कारण एटीएम क्लोन हो जाता है और एटीएम मशीम में मौजूद नंबर प्लेट के ऊपर एक फैक नंबर प्लेट लगा दी जाती है, जिसके कारण कोई भी व्यक्ति जब एटीएम मशीन में अपना पिन टाइप करता है तो यह फेक नंबर प्लेट उसके पिन को कलेक्ट कर लेता है।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें और...

 साइबर सिक्योरिटीस के प्रति जागरूक रहने के लिए इसकी ट्रेनिंग ली जा सकती है
दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे एटीएम फ्रॉड पर साइबर एक्सपर्ट का कहना है कि साइबर सिक्योरिटीस के प्रति जागरूक रहने के लिए इसकी ट्रेनिंग ली जा सकती है। इसके लिए जरूरी है कि कार्ड स्वाइप करते समय यूजर जागरूक रहे। यदि मशीन में आपका कार्ड आराम से  ना जा रहा हो तो चेक करें कि वहां डुप्लीकेट डिवाइस तो नहीं लगा? या फिर नंबर  प्लेट उखड़ी हुई तो नहीं है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट