Home » Industry » CompaniesAppraisal percentage will be higher in current fiscal

इस फिस्कल 9-12% बढ़ सकती है कर्मचारियों की सैलरी, नोटबंदी-GST का नहीं होगा असर

इस फाइनेंशियल ईयर कर्मचारियों की सैलरी में 9 से 12 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो सकती है।

1 of

नई दिल्ली। इस फाइनेंशियल ईयर कर्मचारियों की सैलरी में 9 से 12 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो सकती है। वहीं, टॉप टैलेंट यानी जो कर्मचारी ज्यादा बेहतर हैं, उनकी सैलरी में 15 फीसदी तक हाइक देखी जा सकती है। माना जा रहा है कि हायरिंग की रफ्तार बढ़ने से कंपनियों के ऊपर बेहतर प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों को अपने साथ बनाए रखने का दबाव है। एक्सपर्ट्स का यह भी कहना है कि जीएसटी और नोटबंदी का भी असर कम हो चुका है, जिससे अप्रेजल पर इसका खास असर नहीं होगा। 

 

 

अच्छे कर्मचारियों को मिलेगा फायदा
एक्सपर्ट्स का कहना है कि कंपनियां एवरेज और अच्छा प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों में अंतर करने पर जोर दे रही हैं। वे इसके लिए वैरिएबल पे, करियर अपॉर्च्युनिटी और सैलरी हाइक जैसे उपाय भी कर रही हैं जिससे अच्छे कर्मचारी उनके साथ बने रहें। कंज्यूमर सेक्टर मसलन एफएमसीजी / सीडी , रिटेल , मीडिया एंड एडवर्टाइजमेंट में इस बार अच्छी सैलरी हाइक देखी जा सकती है। 

 

पिछले साल से ज्यादा अप्रेजल
ग्लोबल हंट के प्रबंध निदेशक सुनील गोयल के अनुसार इस साल सैलरी में बढ़ोत्तरी की दर 9 से 12 फीसदी रहेगी। यह पिछले साल की तुलना में कुछ अधिक है। वरिष्ठ पदों की तुलना में बीच के पदों पर बढ़ोत्तरी की दर अधिक रहेगी। 

 

नोटबंदी-जीएसटी का असर नहीं
एंटल इंटरनेशनल इंडिया के एमडी जोसेफ देवासिया का कहना है कि फाइनेंशियल ईयर 2016-17 के लिए सैलरी हाइक पर नोटबंदी का कुछ असर पड़ा था, जबकि 2017-18 में जीएसटी ने कारोबार को प्रभावित किया। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था और रोजगार बाजार में अब तेजी आई है और 2018-19 के दौरान अलग-अलग क्षेत्रों में काफी पॉजिटिव माहौल रहने का अनुमान है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट