Home » Industry » CompaniesIndia makes big push to expand tea export to China

चीन को लग गया भारत की चाय का चस्का

बीते वर्ष भारत ने चीन को 25 मिलियन डॉलर के चाय का निर्यात किया था।

1 of

नई दिल्ली: चीन को भी चाय का चस्का लगाने के लिए भारत अब चीन में भी अपने ब्लैक टी के मार्केट को बढ़ाना चाहता है। भारत द्वारा हाल ही में किए गए ब्लैक टी के प्रमोशन अभियान में एक अधिकारी ने कहा कि ऐसा दोनों देशों के बीच चाय व्यापार को बढ़ाने के लिए किया जा रहा है। चीन में जहां चाय की खेती होती है वहां के लोग ज्यादातर या तो ग्रीन टी का सेवन करते हैं या भारत की ब्लैक टी का। भारतीय दूतावास में चीन मार्केटिंग एसोशिएशन क सहयोग में 23-25 अक्टूबर तक भारतीय चाय का प्रमोशन कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इवेंट के दौरान, दोनों देशों के शीर्ष चाय खरीदारों और विक्रेताओं ने दोनों देशों के बीच चाय व्यापार को बढ़ाने की संभावनाओं पर मुलाकात की और बातचीत की। टी बोर्ड ऑफ इंडिया के उपाध्यक्ष अनिल कुमार रे ने मंगलवार को मीडिया से कहा कि भारत ने पिछले साल नौ मिलियन टन चाय का निर्यात किया था, जो चीन के आयात का लगभग 30 प्रतिशत था। 

 

भारत और चीन के बीच चाय व्यापार का इतिहास फिर से दोहराया जाएगा
इसके लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने चीनी मार्केट को डानने के लिए वहां का दौरा किया। मंगलवार को दोनों देशों के आयातकों और निर्यातकों के बीच भारतीय राजदूत गौतम बांबावले ने कहा कि, भारत और चीन के बीच चाय व्यापार का इतिहास फिर से दोहराया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्राचीन चाय-हॉर्स व्यापार मार्ग चीन में युन्नान प्रांत से पश्चिम बंगाल और असम में चाय उगाने वाले क्षेत्रों से जुड़ा हुआ था।

आगे पढ़ें,

भारत करता है चीन को 25 मिलियन डॉलर ब्लैक टी का निर्यात
वर्तमान में चीन में ग्रीन टी का 2,550 मिलियन किलोग्राम प्रोडक्शन होता है। जबकि भारत में सबसे ज्यादा ब्लैक टी का 1,278 मिलियन किलोग्राम प्रोडक्शन होता है। बांबावले ने कहा भारत चीन में चाय का तीसरा सबसे बड़ा निर्यातक है। बीते वर्ष भारत ने चीन को 25 मिलियन डॉलर के चाय का निर्यात किया था, और धीरे-धीरे यह ग्राफ बढ़ता ही गया है। चीन में लोग भारतीय चाय को काफी पसंद कर रहे हैं। 

आगे पढ़ें,

चीन और रूस के अलावा और भी देश हैं भारतीय चाय के शौकीन
ऐसी कई रिपोर्ट्स मिली हैं जिनसे पता लगा है कि चीन के नौजवान भारतीय चाय और उससे बने पेय पदार्थों को काफी पसंद करते हैं। उसी तरह से भारत में भी लोग अब ग्रीन टी को काफी पसंद करते हैं। इस इवेंट में भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने 5 प्रकार की भारतीय चाय प्रमोशन किया। रे ने कहा कि भारत में सिक्किम और दार्जिलिंग चाय के अलावा और भी अलग-अलग प्रकार की चाय मिलती है। उन्होंने कहा कि पिछले साल भारत ने 251 मिलियन किलोग्राम चाय निर्यात की थी। जिसमें रूस (50 मिलियन किलोग्राम) भी शामिल था। चीन और रूस के अलावा भारत यूएई, यूके, पाकिस्तान, अमेरिका और मिस्र में भी चाय का निर्यात करता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss