Home » Industry » CompaniesHUL Launched Knorr instant noodles in Maharashtra, Delhi

HUL ने पेश किया अपना नूडल्स नॉर, 4 हजार करोड़ के मार्केट में बढ़ेगा कॉम्पिटीशन

देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनियों में से एक एचयूएल ने 4 हजार करोड़ रुपए के इंस्टैंट नूडल्स मार्केट में आगाज किया है।

1 of


नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनियों में से एक हिंदुस्तान यूनिलीवर (एचयूएल) ने 4 हजार करोड़ रुपए के इंस्टैंट नूडल्स मार्केट में उतरने का ऐलान किया है। कंपनी ने अपने नॉर ब्रांड के तहत गुरुवार को महाराष्ट्र और दिल्ली में इंस्टैंड नूडल्स लॉन्च कर दिया। कंपनी की योजना नेस्ले इंडिया की मैगी के मार्केट में सेंध लगाने की है। मैगी का देश के नूडल्स मार्केट के अधिकांश हिस्से पर कब्जा है।
न्यूज एजेंसी कोजेन्सिस से बातचीत में कंपनी के एक स्पोक्सपर्सन ने कहा, ‘मार्केट में बिक रहे नूडल्स के फ्लेवर्स से कंज्यूमर अब ऊब चुके हैं। नॉर के माध्यम से हम ऐसे कंज्यूमर्स को अपनी ओर खींचना चाहते हैं, जो नए फ्लेवर्स की खोज में रहते हैं।’

 

12 रुपए कीमत के लॉन्च किए दो वैरिएंट
एफएमसीजी कंपनी ने महाराष्ट्र और दिल्ली में 12 रुपए कीमत में नॉर इटैलियन और देसी नूडल्स लॉन्च करने का ऐलान किया है, जिसका वजह 66-68 ग्राम है। एचयूएल का इंस्टैंट नूडल्स सेगमेंट में उतरने का फैसला उसकी फूड सेगमेंट से इनकम बढ़ाना और कॉम्पिटीशन से पार पाने के लिए अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाना है। 

 

रूरल डिमांड बढ़ने से मिल सकता है फायदा
मुंबई के एक फंडामेंटल एनालिस्ट ने कहा, ‘एचयूएल की अपने नूडल्स की लॉन्चिंग की टाइमिंग खासी अच्छी है, क्योंकि रूरल मार्केट से डिमांड बढ़ने के संकेत मिल रहे हैं।’ इंस्टैंट नूडल्स सेगमेंट 8 फीसदी की ग्रोथ के साथ बढ़ रहा है। 

 

नूडल्स मार्केट में नंबर वन है मैगी
हिंदुस्तान यूनिलीवर इस सेगमेंट की बड़ी कंपनी बनने की योजना पर काम कर रही है। फिलहाल इस मार्केट पर नेस्ले की मैगी नूडल्स का कब्जा है, जिसकी इस सेगमेंट में 60 फीसदी हिस्सेदारी है। 
इसके बाद सनफीस्ट यिप्पी नूडल्स के साथ आईटीसी दूसरे और आटा नूडल्स के साथ पतंजलि आयुर्वेद तीसरे नंबर पर है।

 

3 साल बाद की वापसी
एचयूएल ने लगभग 3 साल बाद फिर से इस मार्केट में उतरने का ऐलान किया है। गौरतलब है कि फूड इंस्टैंट नूडल्स के लिए कंपनी की एप्लीकेशन लंबे समय तक फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई)  में पेंडिंग रही थी, जिसके चलते जून, 2015 में कंपनी को अपने नॉर नूडल्स का प्रोडक्शन बूंद करना पड़ा था। 

 

सेफ होने का किया था दावा
हालांकि कंपनी ने दावा किया था, ‘जिम्मेदार मैन्युफैक्चरर होने के नाते हमने अपने चाइनीज नूडल्स की एफएसएसएआई द्वारा मान्यता प्राप्त लैबोरेटरी से जांच कराई और सभी टेस्ट सही पाए गए।’ इसका प्रोडक्शन बंद करते समय कंपनी ने कहा था कि ऐसा सेफ्टी और क्वालिटी जैसे मुद्दों के कारण नहीं किया गया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट