Advertisement
Home » Industry » CompaniesDHFL siphoned off Rs 31,000 crore of public money, claims Cobrapost

DHFL में हुआ 31 हजार करोड़ रु का स्कैम, कोबरा पोस्ट का दावा

एक न्यूज वेबसाइट ने हाउसिंग फाइनेंस कंपनी डीएचएफएल (DHFL) में बड़ा स्कैम होने का दावा किया।

DHFL siphoned off Rs 31,000 crore of public money, claims Cobrapost

नई दिल्ली. एक न्यूज वेबसाइट ने मंगलवार को दावा किया कि हाउसिंग फाइनेंस कंपनी डीएचएफएल (DHFL) के प्राइमरी प्रमोटर्स ने शेल कंपनियों को लोग और एडवांसेस देकर 31 हजार करोड़ रुपए का घोटाला किया है। यह भी आरोप लगाया गया कि इन हथकंडों से प्रमोटर्स ने अपनी निजी वैल्थ खड़ी की।

 

सबसे बड़े बैंकिंग स्कैम का आरोप

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, जर्नलिस्टिक स्टिंग ऑपरेशन के लिए जानी जाने वाली कोबरापोस्ट वेबसाइट ने इसे ‘भारत के इतिहास का सबसे बड़ा बैंकिंग स्कैम’ करार दिया। वेबसाइट ने आरोप लगाया कि दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्प (Dewan Housing Finance Corp) के प्रमोटर्स ने संदिग्ध कंपनियों को पैसे की रूटिंग की और भारत के बाहर एसेट तैयार कीं। यह भी आरोप लगाया गया कि कंपनी ने केंद्र में काबिज भारतीय जनता पार्टी को 20 करोड़ रुपए का डोनेशन दिया।

 

डीएचएफएल के प्रमोटर्स पर उठाए सवाल

कोबरा पोस्ट के एडिटर अनिरुद्ध बहल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘संदिग्ध शेल या पास-थ्रू कंपनियों को सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन देकर इस स्कैम को अंजाम दिया गया। ये कंपनियां डीएचएफएल के प्राइमरी स्टेकहोल्डर्स कपिल वाधवान, अरुणा वाधवान और धीरज वाधवान के नजदीकियों और एसोसिएट्स से संबंधित थीं। यह पैसा आगे वाधवान फैमिली के नियंत्रण वाली कंपनियों के पास चला गया।’

 

यशवंत सिन्हा ने भी की जांच की मांग

प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद हुए पैनल डिस्कशन में पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने इस स्कैम की एसआईटी जांच बिठाने की मांग की। उन्होंने कहा कि अगर इसकी जांच के आदेश नहीं होते हैं तो यह साबित हो जाएगी कि शीर्ष पर बैठे लोग भी इसमें ‘पार्टी’ हैं।
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss