विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesYour Retirement Fund May Be At Risk In IL&FS Exposure

हजारों लोगों की PF रकम पर मंडराया खतरा, चेक कर लें अपना खाता

14 लाख कर्मचारियों को हो सकता है नुकसान, बढ़ सकता है यह आंकड़ा

1 of

नई दिल्ली.

आपके प्रोविडेंट फंड और पेंशन पर खतरा मंडरा रहा है। प्रॉविडेंट और पेंशन फंड (PPF) ट्रस्ट को डर है कि हजारों करोड़ की यह राशि कहीं डूब न जाए। दरअसल PPF ने लोगों के प्रोविडेंट फंड और पेंशन की यह राशि IL&FS ग्रुप निवेश की थी। PPF ने National Company Appellate Tribunal (NCLAT) में याचिका दायर कराई है कि उसे अपने पैसे खोने का डर है क्योंकि जिन बॉन्ड के तहत यह निवेश किया था वह असुरक्षित कर्ज के तहत आते हैं।

 

यह रकम कितनी है, इसके बारे में आंकड़ा मौजूद नहीं है, क्योंकि इसमें से कई इंस्ट्रूमेंट्स ट्रेडिड हैं। हालांकि इंवेस्टमेंट बैंकर्स का अंदाजा है कि यह हजारों करोड़ रुपए हो सकते हैं क्योंकि इस इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी के बॉन्ड, जिन्हें ट्रिपल A रेटिंग मिली थी, उन्हें ऐसे रिटायरमेंट फंड काफी प्राथमिकता देते थे, जो कम रिस्क और कम ब्याज दर पर निश्चित रिटर्न लेना चाहते थे।

 

 

इतने कर्मचारियों को हाे सकता है नुकसान

याचिका दायर करने की अंतिम तिथि 12 मार्च है, लिहाजा याचिकाओं की संख्या में इजाफा हो सकता है। फिलहाल 14 लाख कर्मचारियों के पेंशन खाते संभाल रहीं 50 फंड्स के खतरे के घेरे में आने की संभावना है।

 

 

इन कंपनियों के कर्मचारियों के प्रॉविडेंट फंड पर खतरा

मेटल्स एंड मिनरल ट्रेडिंग काॅरपोरेशन ऑफ इंडिया (MMTC), इंडिया ऑयल, सिटी एंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (CIDCO), हाउसिंग एंड अर्बन डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (HUDCO), इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया (IDBI), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) और हिमाचल प्रदेश और गुजरात के इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड ने NCLAT में अपना याचिका दर्ज कराई है। Hindustan Unilever और Asian Paints जैसी प्राइवेट सेक्टर की कंपनियों के भी पीएफ IL&FS में हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन