बिज़नेस न्यूज़ » Industry » CompaniesYahoo Messenger हुआ बंद, 20 साल पहले था दुनिया का इकलौता इंस्‍टैंट मैसेजिंग प्‍लेटफॉर्म

Yahoo Messenger हुआ बंद, 20 साल पहले था दुनिया का इकलौता इंस्‍टैंट मैसेजिंग प्‍लेटफॉर्म

1998 में शुरू हुए था सफर, एक जमाने में थे 12 करोड़ यूजर...

1 of

नई दिल्‍ली. दुनिया की सबसे पहली मैसेंजर सर्विस याहू मैसेंजर (Yahoo Messenger) 17 जुलाई 2018 से बंद हो गई। याहू ही वह मैसेंजर था, जिसने लोगों को सबसे पहले इंस्‍टैंट यानी तुरंत मैसेजिंग की सुविधा दी थी। 20 साल पहले 1998 में शुरू हुए याहू मैसेंजर का सफर इतना आगे तक गया कि एक जमाने में इसके 12 करोड़ यूजर हो गए थे। लेकिन यह पॉपुलर सर्विस वक्‍त के साथ खुद को नहीं बदल पाई और पिछड़ती चली गई। लिहाजा इसे बंद करना पड़ा लेकिन याहू का यह भी कहना है कि वह यूजर्स के लिए एक नया और बेहतर कम्‍युनिकेशन टूल लेकर आएगी। 

 

हिस्‍ट्री डाउनलोड करने का दिया ऑप्‍शन

याहू ने पिछले माह ही अपनी मैसेजिंग सर्विस बंद करने का एलान कर दिया था। लेकिन इसने यूजर्स को जाते-जाते भी एक सुविधा दी, वह यह कि यूजर पिछले 6 महीनों की अपनी चैट हिस्‍ट्री को डाउनलोड कर सकते हैं। 

 

ऐसे शुरू हुआ था सफर

याहू ने मार्च 1998 में अपना सफर याहू पेजर के तौर पर शुरू किया था। उसके बाद जून 1999 में इसका नाम याहू मैसेंजर हो गया। 2001 आते-आते याहू इतना पॉपुलर हुआ कि इसके यूजर्स का आंकड़ा 1.1 करोड़ पर पहुंच गया और 8 साल बाद यानी 2012 में इसके 12 करोड़ से ज्‍यादा यूजर दर्ज किए गए।  

 

आगे पढ़ें- गूगल के आने से पलटी बाजी 

गूगल के आने के बाद पलटा खेल

गूगल के आने से पहले मैसेजिंग मार्केट में याहू का एकछत्र राज था। लेकिन गूगल के आने के बाद इसकी ज्‍यादा और बेहतर एप्‍लीकेशंस ने याहू की बादशाहत को  न केवल चुनौती दी, बल्कि इसके यूजर्स को अपनी ओर शिफ्ट भी किया। धीरे-धीरे जो पोजिशन मार्केट में कभी याहू की हुआ करती थी, वह गूगल की बनती चली गई और याहू पिछड़ता चला गया। समय और जरूरत के हिसाब से जो बदलाव चाहिए थे, उन्‍हें याहू नहीं अपना पाया। 

 

आगे पढ़ें- व्‍हाट्सऐप, फेसबुक मैसेंजर जैसों से और लगा झटका

नहीं ले पाया व्‍हाट्सऐप, फेसबुक मैसेंजर जैसों से टक्‍कर

याहू के घटते क्रेज को और ज्‍यादा झटका नए दौर के इंस्‍टैंट मैसेजिंग ऐप जैसे व्‍हाट्सऐप, स्‍नैपचैट, फेसबुक मैसेंजर आदि से लगा। इनकी आज के जमाने और यूजर की जरूरत के मुताबिक सर्विस जैसे टेक्‍स्‍ट मैसेज के साथ वीडियो कॉलिंग के चलते ये मैसेजिंग ऐप लगातार ग्रोथ करते गए। हालांकि याहू ने अपने आप को कॉम्पिटीशन में बनाए रखने की कोशिश की थी, इसके लिए वह अपने मैसेंजर का नया वर्जन भी लाया था लेकिन इसके बावजूद वह दोबारा अपनी पैठ लोगों में नहीं बना पाया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट