विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesWhatsApp tipline of no use for 2019 Lok Sabha polls

2019 लोकसभा चुनाव में नहीं होगा Whatsapp टिपलािन का कोई उपयोग

चेकपॉइंट टिपलाइन का इस्तेमाल डाटा संग्रह करने के लिए किया जाता है

WhatsApp tipline of no use for 2019 Lok Sabha polls

WhatsApp tipline of no use for 2019 Lok Sabha polls व्हाट्सएप की 'चेकपॉइंट टिपलाइन' सेवा भारतीय यूजर को फर्जी खबर की रिपोर्ट करने में मदद करने वाला कोई हेल्पलाइन नंबर नहीं है, बल्कि यह फेसबुक के खुद के लिए डेटा संग्रह की एक शोध परियोजना है, जिससे फेसबुक को यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि गलत सूचना किस प्रकार फैलती है।

नई दिल्ली। व्हाट्सएप की 'चेकपॉइंट टिपलाइन' सेवा भारतीय यूजर को फर्जी खबर की रिपोर्ट करने में मदद करने वाला कोई हेल्पलाइन नंबर नहीं है, बल्कि यह फेसबुक के खुद के लिए डेटा संग्रह की एक शोध परियोजना है, जिससे फेसबुक को यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि गलत सूचना किस प्रकार फैलती है।

चेकपॉइंट टिपलाइन सेवा हेल्पलाइन नहीं

मीडिया स्किल स्टार्टअप प्रोटो के अनुसार, चेकपॉइंट टिपलाइन सेवा हेल्पलाइन नहीं, बल्कि शोध परियोजना है। प्रोटो ने वेबसाइट पर एक एफएक्यू पोस्ट किया है, जिसमें उसने कहा, "चेकपॉइंट टिपलाइन का इस्तेमाल मुख्य रूप से शोध के लिए डाटा संग्रह करने के लिए किया जाता है। यह कोई हेल्पलाइन नहीं है कि उससे हर यूजर को जवाब दिया जाएगा।"

लोग 91-9643-000-888 पर कर सकते हैं अनुरोध

व्हाट्सएप के प्रवक्ता ने बजफीड न्यूज को इसकी पुष्टि की है कि घोषणा का यह मतलब नहीं था कि प्रत्येक अनुरोध पर जवाब दिया जाएगा। भारत में लोग गलत सूचना या अफवाह के बारे में व्हाट्सएप के चेकपॉइंट टिपलाइन को 91-9643-000-888 पर अपना अनुरोध सौंप सकते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Recommendation
विज्ञापन
विज्ञापन