अगर महिला हैं तो कहीं आप भी तो नहीं चुका रही हैं Pink Tax, जानिए क्या होता है यह

What Is Pink Tax And How Can You Avoid Paying It: 

बाजार में खरीदारी करते वक्त आपने भी नोटिस किया होगा कि महिला और पुरुषों के एक-जैसे उत्पादों का दाम बराबर नहीं होता है। हेल्थकेयर से लेकर पर्सनल ग्रूमिंग के प्रोडक्ट्स के लिए महिलाओं से पुरुषों की तुलना में अधिक कीमत वसूली जाती है। यह जो अतिरिक्त कीमत महिलाओं को चुकानी पड़ती है इसी को Pink Tax कहते हैं।

Money Bhaskar

Mar 14,2019 06:19:00 PM IST

नई दिल्ली.

बाजार में खरीदारी करते वक्त आपने भी नोटिस किया होगा कि महिला आैर पुरुषों के एक-जैसे उत्पादों का दाम बराबर नहीं होता है। हेल्थकेयर से लेकर पर्सनल ग्रूमिंग के प्रोडक्ट्स के लिए महिलाओं से पुरुषों की तुलना में अधिक कीमत वसूली जाती है। न्यू यॉर्क सिटी डिपार्टमेंट ऑफ कंज्यूमर अफेयर्स ने कुछ साल पहले From Cradle to Cane: The Cost of being a Female Consumer नाम की स्टडी पेश की थी। इसमें 800 से ज्यादा प्रोडक्ट्स के दाम को कंपेयर करने के बाद यह सामने आया कि एक ही उत्पाद के लिए महिलाए पुरुषों से 7 फीसदी अधिक कीमत अदा करती हैं। पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स के लिए महिलाएं 13 फीसदी तक अधिक मूल्य चुकाती हैं। यह जो अतिरिक्त कीमत महिलाओं को चुकानी पड़ती है इसी को Pink Tax कहते हैं।

एक ही उत्पाद के लिए अलग-अलग दाम

Mint में छपी खबर के मुताबिक महिलाओं के लिए खासतौर से जो प्रोडक्ट तैयार किए जाते हैं, वे पुरुषों के उत्पादों की तुलना में महंगे होते हैं। यह स्थिति कमोबेश हर जगह है। भारत में भी महिलाएं प्रोडक्ट्स और सर्विसेज के लिए पिंक टैक्स चुकाती हैं। उदाहरण के लिए, किसी सैलून में महिलाओं के लिए हेयर कट का दाम पुरुषों के हेयर कट से कहीं ज्यादा महंगा होता है। रेजर, डियोडरेंट जैसे पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स के लिए भी महिलाओं को ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है, जबकि इन प्रोडक्ट्स की पैकेजिंग को छोड़ दिया जाए तो उनमें कोई खास फर्क नहीं होता है।

महिलाओं पर होता है अच्छा दिखने का दबाव

इस पिंक टैक्स के पीछे वजह यह है कि महिलाओं पर अच्छा दिखने का दबाव होता है, जो कि पुरुषों पर कम या न के बराबर होता है। इस कारण को भुनाने के लिए कंपनियां महिलाओं और पुरुषों के लिए एक ही उत्पाद और सर्विस को अलग-अलग दामों पर बेचती हैं। इस बात को साबित करने के लिए ऑस्ट्रेलिया के टीवी एंकर Karl Stefanovic एक साल तक रोजाना ब्लू कलर का एक ही सूट पहनकर ऑफिस गए और किसी ने उन्हें नहीं टोका, जबकि उनकी को-होस्ट्स पर दबाव रहता था कि वे रोजाना नए कपड़ों में दफ्तर आएं।

ऐसे बचें पिंक टैक्स से

पिंक टैक्स से बचने का सबसे पहला तरीका यह है कि अाप पैकेजिंग पर न जाकर प्रोडक्ट क्वालिटी पर जाएं। अगर आपको लगता है कि महिला और पुरुषों के प्रोडक्ट में सिवाए पैकेजिंग के और कोई फर्क नहीं है तो आप सस्ता वाला प्रोडक्ट खरीदें।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.