Home » Industry » Companies4 रुपए में पोर्ट हो जाएगा मोबाइल नंबर: TRAI decided that the upper ceiling for per port transaction charge

सिर्फ 4 रुपए में पोर्ट हो सकता है मोबाइल नंबर, ये है प्‍लान

ट्राई के नए प्रस्‍ताव से मोबाइल नंबर पोर्ट कराने की कॉस्‍ट 80 फीसदी कम हो जाएगी।

1 of

 

नई दिल्‍ली. यदि आप अपनी मौजूदा टेलिकॉम कंपनी से संतुष्‍ट नहीं हैं तो आने वाले दिनों में आप बेहद मामूली खर्च पर मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी करा सकते हैं। दरअसल, टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) ने मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी के लिए लिया जाने वाला शुल्‍क मौजूदा 19 रुपए से घटाकर अधिकतम 4 रुपए करने का प्रस्ताव रखा है। उसने संबंधित पक्षों को 29 दिसंबर तक इस प्रस्ताव पर सुझाव देने को कहा है।

 

ट्राई की दलील है कि मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी प्रोवाइडर्स की ऑपरेशनल लागत पिछले दो साल में घटी है जबकि पोर्टिंग की रिक्‍वेस्‍ट बढ़ी है और इसे देखते हुए प्रति ट्रांजैक्शन ज्यादा लागत रखने की जरूरत नहीं है। ट्राई के नए प्रस्‍ताव से मोबाइल नंबर पोर्ट कराने की कॉस्‍ट 80 फीसदी कम हो जाएगी।

 

टेलिकॉम रेग्युलेटर ने कहा कि जब प्रति मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी ट्रांजैक्शन कॉस्ट 2016-17 के ऑडिटेड सालाना अकाउंट्स के आधार पर रखी गई तो यह मालूम हुआ कि लागत घटकर 4 रुपए पर आ गई। इसे देखते हुए ट्राई ने प्रति ट्रांजैक्शन अधिकतम 4 रुपए शुल्‍क रखने का प्रस्ताव किया है।

 

2016-17 में 6.36 करोड़ पोर्ट के आवेदन

टेलिकॉम रेग्‍युंलेटर के अनुसार पूरे देशभर में एमएनपी की मंजूरी के बाद 2014-15 में मोबाइल नंबर पोर्ट कराने के 3.68 करोड़ रिक्‍वेस्‍ट आए थे और 2016-17 में यह संख्‍या बढ़कर 6.36 करोड़ हो गई। हालांकि ट्राई ने पांच वर्षों की अवधि में पोर्टिंग सब्सक्राइबर्स की अनुमानित संख्या से एमएनपी प्रोवाइडर्स की टोटल कॉस्ट में भाग दिया तो पाया कि 2009 के मुकाबले लागत काफी घट चुकी है।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट