विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesTesla CFO Deepak Ahuja announces retirement

कुर्सी से हटा यह भारतीय, मिनटों में कंपनी के डूब गए 17 हजार करोड़ रु

आहूजा की सेवानिवृत्ती 'तात्कालिक नहीं होगी' और वह 'कंपनी के वरिष्ठ सलाहकार बने रहेंगे

1 of

सैन फ्रांसिस्को। टेस्ला द्वारा 2018 की चौथी तिमाही में 9.25 अरब रुपए का लाभ घोषित करने के बाद, कंपनी के संस्थापक और सीईओ एलन मस्क ने यह कहकर धमाका कर दिया कि कंपनी के भारतीय मूल के मुख्य वित्तीय अधिकारी दीपक आहूजा सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं। व्यापार विश्लेषकों के साथ बुधवार को हुई एक बैठक में मस्क ने कहा कि आहूजा की सेवानिवृत्ती 'तात्कालिक नहीं होगी' और वह 'कंपनी के वरिष्ठ सलाहकार बने रहेंगे'। मस्क की इस घोषणा के बाद टेस्ला के शेयर करीब पांच फीसदी गिर गए। मस्क की घोषणा के बाद टेस्ला के शेयरों में 4.78 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। इससे कंपनी की मार्केट वैल्यू में करीब 17 हजार करोड़ रुपए (भारतीय मुद्रा में)  की गिरावट हुई है।

जैच कर्कहॉर्न लेंगे आहूजा की जगह

 

कंपनी के मौजूदा वाइस प्रेसिडेंट जैच कर्कहॉर्न आहूजा की जगह लेंगे। आहूजा ने विश्लेषकों से कहा, "इस बदलाव के लिए यह सही समय नहीं है। यह एक नया अध्याय है, नया साल है। टेस्ला के पास मुनाफे और नकदी प्रवाह के दो शानदार क्वार्टर हैं, यह वास्तव में ठोस आधार पर है।" इससे कुछ दिन पहले टेस्ला ने अपने मॉडल 3 कार की सफलता पर कंपनी ने बताया कि उसका वार्षिक रेवेन्यू 1500 अरब  हो गया है। टेस्ला की मॉडल 3 कार की बात की जाए तो इसके अब तक 140,000 यूनिट बिक चुकी है। 

टेस्ला ने कहा- यूरोप और चीन के लिए मॉडल 3 वाहनों का उत्पादन शुरू किया


इसके साथ ही यह अमेरिका में साल 2018 की सबसे ज्यादा बिकने वाली कार रही। इस कारण दशकों में पहली बार एक अमेरिकी कार निर्माता  कंपनी ने शीर्ष स्थान पर पहुंचा। टेस्ला ने एक बयान  में कहा, साल 2019 में भी मॉडल 3 कार की बिक्री काफी हद तक बढ़ेगी। टेस्ला ने यह भी कहा कि कंपनी ने केलेंडर वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में नॉर्थ अमेरिका में मॉडल 3 गाड़ियों की 63,359 यूनिट बेची। इसके अलावा कंपनी ने कहा  हमने यूरोप और चीन के लिए मॉडल 3 वाहनों का उत्पादन शुरू किया और कार अब इन बाजारों में बिक्री के लिए पूरी तरह से प्रमाणित है। 

 

कौन हैं टेस्ला के सीएफओ दीपक प्रभु आहूजा

टेस्ला के सीएफओ दीपक आहूजा का जन्म जनवरी, 1963 में मुंबई में हुआ था। आहूजा ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (BHU) से सिरेमिक इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री और रॉबर्ट आर मैककॉर्मिक स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग और नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के एप्लाइड साइंस से मास्टर डिग्री प्राप्त की है। आहूजा ने पिट्सबर्ग के पास केनामेटल में लगभग 6 साल तक काम किया और कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय से मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की पढ़ाई की। 1993 में आहूजा फोर्ड मोटर कंपनी से जुड़े। इसके बाद वह ऑटोअलायंस इंटरनेशनल के सीएफओ बन गए। साल 2008 में आहूजा को सीएफओ पद के लिए टेस्ला से ऑफर मिला। टेस्ला में कई साल काम करने के बाद साल 2015 में रिटायर हुए। वहीं, फिर से साल 2017 में वह सीएफओ के तौर पर फिर से टेस्ला से जुड़ गए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन