विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesSupreme Court asks ex-Ranbaxy promoters to apprise how they will comply with Rs 3500 crore arbitral award

सुप्रीम कोर्ट बोला- देश की इज्जत का सवाल, 3500 करोड़ के भुगतान के प्लान बताएं सिंह बंधु

रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटरों को जापानी कंपनी को करना है भुगतान

Supreme Court asks ex-Ranbaxy promoters to apprise how they will comply with Rs 3500 crore arbitral award

नई दिल्ली। जापानी कंपनी दाइची सैंक्यों की अपील पर सुनवाई कर रही सुप्रीम कोर्ट ने रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर मलिविंदर सिंह और शिविंदर से 3500 करोड़ रुपए के भुगतान का प्लान बताने को कहा है। गुरुवार को मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह किसी एक व्यक्ति नहीं, बल्कि देश की इज्जत का सवाल है। इसलिए आपको हर हाल में इस भुगतान के लिए अपनी योजना पेश करनी होगी।

सिंगापुर के ट्रिब्यूनल ने दिया है 3500 करोड़ के भुगतान के आदेश
जापानी कंपनी दाइची ने सिंह बंधुओं पर रैनबैक्सी के बारे में अहम जानकारियां छिपाने का आरोप लगाकर सिंगापुर के ट्रिब्यूनल में शिकायत की थी। इस मामले में सिंगापुर के ट्रिब्यूनल ने सिंह बंधुओं को दाइची को 3500 करोड़ देने का आदेश दिया था। सिंह बंधुओं की ओर से पैसे नहीं दिए जाने पर दाइची ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की। याचिक पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कोर्ट में मौजूद सिंह बंधुओं से कहा कि वह अपने वित्तीय और कानूनी सलाहकारों से विचार विमर्श के बाद भुगतान की पूरी योजना बताएं। पीठ ने कहा कि एक समय आप फार्मा इंडस्ट्री की पहचान थे। अब आपका इस तरह कोर्ट में आने अच्छा नहीं है। अब इस मामले की सुनवाई 28 मार्च को होगी। 

एकजुट हो जाएं दोनों भाई
पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि कानून के अनुसार आपको यह भुगतान करना है। इससे आप किसी भी तरह बच नहीं सकते हैं। बाद में कोर्ट ने एक दूसरे से अलग हो चुके सिंह बंधुओं से इस भुगतान के लिए एकजुट होने को कहा। कोर्ट ने कहा कि इससे देश को कोई भला नहीं होगा, लेकिन यह देश की इज्जत का मामला है। आपको पैसा चुकाना ही होगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन