विज्ञापन
Home » Industry » Companiesstate bank of india home loan offer

नए साल पर SBI का ऑफर: 31 दिसंबर से पहले बैंक ग्राहकों को देगा ये बड़ी सुविधा

ग्राहक एसबीआई के इस ऑफर का फायदा उठा सकते हैं।

state bank of india home loan offer

state bank of india home loan offerदेश का सबसे बड़ा बैंक  भारतीय स्टेट बैंक नए साल के मौके पर अपने ग्राहकों को तोहफ दे रहा है। इसके चलते बैंक होम लोन पर ग्राहकों से जीरो प्रोसेसिंग फीस लेगा। यानी ग्राहकों को होम लोन पर कोई चार्ज नहीं देना पड़ेगा। ग्राहक एसबीआई के इस ऑफर का 31 दिसंबर तक फायदा उठा सकते हैं। तो यदि आप होम लोन लेने  की सोच रहे हैं तो इससे अच्छा मौका आपको नहीं मिलेगा।

नई दिल्ली। देश का सबसे बड़ा बैंक  भारतीय स्टेट बैंक नए साल के मौके पर अपने ग्राहकों को तोहफ दे रहा है। इसके चलते बैंक होम लोन पर ग्राहकों से जीरो प्रोसेसिंग फीस लेगा। यानी ग्राहकों को होम लोन पर कोई चार्ज नहीं देना पड़ेगा। ग्राहक एसबीआई के इस ऑफर का 31 दिसंबर तक फायदा उठा सकते हैं। तो यदि आप होम लोन लेने  की सोच रहे हैं तो इससे अच्छा मौका आपको नहीं मिलेगा। एसबीआई ने कहा है कि 31 दिसंबर तक होम लोन लेने वालों पर ये चार्ज अप्लाई नहीं होंगे। यदि आप भी इस  ऑफर के तहत होम लोन लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कुछ चीजें जानना काफी जरूरी है। 

 

यह भी पढ़ें: फ्लैट खरीदने के लिए नहीं लेना होगा होम लोन, फॉलो करें 10 साल का प्लान

 

 

होम लोन लेने से पहले यह देख लें कि आपकी कमाई कितनी है और आप कितने समय में इसे चुका लेंगे। किसी भी व्यक्ति तो लोन देने से पहले बैंक यह सुनिश्चित करता है कि ग्राहक लोन चुका पाएगा या नहीं। ग्राहक की आमदनी बढ़ने के साथ ही लोन  की रकम भी बढ़ती जाती है। लोन देने  से पहले कोई भी कंपनी या बैंक यह देखता है कि क्या आप अपनी सैलरी का 50 पर्सेंट हिस्सा लोन की किस्त के तौर पर दे पाएंगे या नहीं। इसी के साथ ही लोन देते समय बैंक ग्राहक की उम्र पर भी काफी ध्यान देते हैं।

 

यह भी पढ़ें: होम लोन ले रहे हैं तो रखें इन 5 बातों का ध्यान, भविष्य में नहीं होगी कोई परेशानी

 

यदि आप किसी भी कंपनी या बैंक के पास लोन के लिए जाते हैं तो आपको कुछ डॉक्यूमेंट्स की जरूरत पड़ती है। जिसमें ग्राहक को घर खरीदने के क़ानूनी पेपर्स से लेकर आइडेंटिटी और रेजिडेंस प्रूफ के साथ सैलरी स्लिप (ऑफिस से सत्यापित और खुद से अटेस्टेड) और फॉर्म 16 या आयकर रिटर्न और बैंक का पिछले छह महीने की स्टेटमेंट देना जरूरी होता है। लोन देने वाली कुछ कंपनियां जैसे कि लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी, शेयर के कागजात, एनएससी, म्युच्युअल फंड यूनिट, बैंक डिपॉजिट या दूसरे निवेश के पेपर्स भी गिरवी के तौर पर मांगते हैं। ग्राहक की एप्लीकेशन स्वीकार करने के बाद कंपनियां या बैंक लोन की रकम, ब्याज दर आदि के बारे में जानकारी देते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन