Home » Industry » CompaniesSpiceJet conducts seaplane trials in Mumbai

छोटे शहरों के बीच कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए स्पाइस जेट की पहल, शुरू किया सीप्लेन का ट्रायल

किफायती हवाई सर्विसेज देने वाली एयरलाइन स्पाइस जेट ने शनिवार को मुंबई की गिरगांव चौपाटी पर सीप्लेन का ट्रायल किया।

1 of

नई दिल्‍ली। किफायती हवाई सर्विसेज देने वाली एयरलाइन स्पाइस जेट ने शनिवार को मुंबई की गिरगांव चौपाटी पर सीप्लेन का ट्रायल किया। जापान की सेतोची होल्डिंग्स की मदद से किया जा रहा यह सेकंड फेज का ट्रायल था। कंपनी इसके जरिए छोटे शहरों के बीच सस्ती हवाई सेवा देने पर काम कर रही है।

 

इस मौके पर स्पाइस जेट की ओर से कहा गया कि दोनों कंपनियां (स्पाइस जेट और सेतोची होल्डिंग्स) मिलकर पिछले छह महीनों से छोटे 10 और 12 सीटों के पानी और जमीन पर उतरने वाले प्लेन का ट्रायल कर रही हैं, ताकि छोटे शहरों में भी हवाई सेवा मुहैया कराई जा सके।


गडकरी और गजपति की मौजूदगी में  ट्रायल
इस मौके पर जहाजरानी मिनिस्ट्र नितिन गणकरी और एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू भी मौजूद रहे। गडकरी ने बताया कि ट्रायल कामयाब होने के बाद जापानी कंपनी ये एयरक्राफ्ट मेक इन इंडिया स्कीम के तहत भारत में ही बनाएगी। सेटोची होल्डिंग्स "QUEST" ब्रांड के तहत पानी और जमीन पर उतरनेवाले एयरक्राफ्ट बनाती है। दुनिया में पिछले 10 सालों से करीब 200 Kodiak Quest एयरक्राफ्ट उड़ रहे हैं।

 

सीप्लेन के कई फायदे 


सीप्‍लेन के फायदे के बारे में स्पाइसजेट के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर अजय सिंह ने बताया, "सीप्लेन से देश के दूरदराज के इलाकों को भी एविएशन नेटवर्क से जोड़ा जा सकेगा। इससे वहां एयरपोर्ट और रनवे बनाने लगनी वाली भारी लागत की बचत होगी। अजय सिंह ने  आगे कहा, हम दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ते एविएशन मार्केट में से एक हैं। हमें देश में बड़े स्तर पर एयर कनेक्टिविटी मुहैया कराने की जरूरत है। हमारी सीप्लेन सर्विस एयरलाइन और टूरिज्म इंडस्ट्री दोनों के लिए एक नया बाजार खोलेगा और रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम में बड़ा बदलाव लेकर आएगी।


अभी स्पाइस जेट की कितनी कैपेसिटी


फिलहाल स्पाइस जेट 51 शहरों के बीच रोजाना एवरेज 396 फ्लाइट्स चलाती है। इनमें 44 डोमेस्टिक और सात इंटरनेशनल उड़ानें हैं। सीप्लेन वॉटर बॉडी पर लैंड हो सकते हैं। इन्हें पानी के सर्फेस से ही टेकऑफ कराया जा सकता है। इनमें एंफीबियस कैटेगरी के प्लेन पानी के साथ ही जमीन पर भी लैंड कराए जा सकते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट