विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesRInfra to sell entire stake in Delhi Agra Toll Road to Cube Highways for Rs 3600 cr

दिल्ली-आगरा टोल रोड को बेचकर कर्ज चुकाएंगे अनिल अंबानी, विदेशी कंपनी से चल रही है बातचीत

कंपनी का कर्ज 25 प्रतिशत घटकर 5,000 करोड़ रुपये से कम हो जाएगा।

RInfra to sell entire stake in Delhi Agra Toll Road to Cube Highways for Rs 3600 cr

RInfra to sell entire stake in Delhi Agra Toll Road to Cube Highways for Rs 3600 cr लंबे समय से करीब 45 हजार करोड़ के कर्ज में डूबे रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड ने गुरुवार को कहा कि वह दिल्ली-आगरा टोल रोडवे की अपनी पूरी हिस्सेदारी सिंगापुर स्थित क्यूब हाईवे को 3,600 करोड़ रुपये में बेचेगी, जिसके बाद अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी का कर्ज 25 प्रतिशत घटकर 5,000 करोड़ रुपये से कम हो जाएगा। 

नई दिल्ली।  लंबे समय से करीब 45 हजार करोड़ के कर्ज में डूबे रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड ने गुरुवार को कहा कि वह दिल्ली-आगरा टोल रोडवे की अपनी पूरी हिस्सेदारी सिंगापुर स्थित क्यूब हाईवे को 3,600 करोड़ रुपये में बेचेगी, जिसके बाद अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी का कर्ज 25 प्रतिशत घटकर 5,000 करोड़ रुपये से कम हो जाएगा। रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर (RInfra) ने इस संबंध में क्यूब हाईवे के साथ एक समझौता किया है। क्यूब हाईवे और इन्फ्रास्ट्रक्चर III Pte Ltd एक सिंगापुर स्थित कंपनी है जो वैश्विक अवसंरचना फंड - आई स्क्वॉयर कैपिटल और अबू धाबी निवेश प्राधिकरण की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है। 

इस सौदे को सभी आवश्यक मंजूरियां लेनी होंगी

रिलायंस इंफ्रा ने एक बयान में कहा कि उसने दिल्ली-आगरा टोल रोड प्राइवेट लिमिटेड की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिये क्यूब हाइवेज और इंफ्रास्ट्रक्चर 3 प्राइवेट लिमिटेड के साथ पक्के अनुबंध पर हस्ताक्षर किये हैं। इस सौदे को सभी आवश्यक मंजूरियां लेनी होंगी। दिल्ली-आगरा टोल रोड प्राइवेट लिमिटेड दिल्ली से आगरा को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग-2 के 180 किलोमीटर लंबे छह-लेन वाले खंड का परिचालन करती है। इस परियोजना का राजस्व वित्तवर्ष 2017-18 में 25 प्रतिशत बढ़ा था।

 यह लेनदेन सभी आवश्यक अनुमतियों के अधीन होगा


कंपनी ने कहा, "दिल्ली-आगरा टोल रोड के लिए लेन-देन पूरा होने के बाद, रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर का कर्ज 25 प्रतिशत घटकर केवल 5,000 करोड़ रुपये से भी कम हो जाएगा।"   साथ ही कंपनी ने जोड़ते हुए कहा कि यह लेनदेन सभी आवश्यक अनुमतियों के अधीन होगा। इससे पहले फरवरी में रिलायंस ग्रुप के प्रमुख अनिल अंबानी को एरिक्‍सन ग्रुप से लिए गए 500 करोड़ रुपये के कर्ज के चक्‍कर में सुप्रीम कोर्ट से फटकार और जुर्माना झेलनी पड़ी थी। लेकिन अब अनिल अंबानी की कंपनी इस कर्ज को चुकाने का भी प्‍लान बना चुकी है। इस संबंध में रिलायंस ग्रुप की फाइनेंशियल सर्विस कंपनी रिलायंस कैपिटल ने बीते दिनों जानकारी दी थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss