बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesचलती दुकान या होटल इसलिए हो जाते हैं बंद, नहीं करें ये 5 गलतियां

चलती दुकान या होटल इसलिए हो जाते हैं बंद, नहीं करें ये 5 गलतियां

छोटा बिजनेस कई बार लंबे समय तक कई बार नहीं चल पाता है। उसका सबसे बड़ा कारण यह है कि इसके पीछे सही अप्रोच की कमी होती है.

1 of

नई दिल्‍ली. अक्‍सर यह देखा जाता है कि चलती हुई दुकान, होटल या रेस्‍टोरेंट एकाएक बंद हो जाते हैं। सालों से प्रॉफिट में चल रहा बिजनेस जब घाटे में जाता है तो वह फिर कभी प्रॉफिट में नहीं आ पाता है। इसके पीछे कुछ खास कारण काम करते हैं। बिजनेस सेगमेंट में बात करें तो ऐसे कारोबार छोटे बिजनेस की कैटेगरी में गिने जाते हैं।

 
- एकाएक इनका घाटे में जाना या बंद हो जाना एक खास बात की ओर इशारा करता है।
- इंक डॉटकॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, छोटे बिजनेसमैन हमेशा एक तरह की ग‍लतियां करते हैं।
- यही कारण है कि ये कई बार फेल हो जाते हैं। ऐसा नहीं है कि ये बिजनेस गलत दिशा में काम करते हैं। दरअसल उनकी अप्रोच गलत होती है।
आइए जानते हैं ऐसे ही 5 कारणों के बारे में जिनके चलते छोटे बिजनेस फेल होते हैं।   
 
आगे पढ़ें- पहली गलती के बारे में...... 


 

1-बदलाव को नहीं पकड़ पाना
 
क्‍या होता है इससे: समय के साथ आपका बिजनेस पिछड़ता जाएगा और एक दिन बंदी की कगार पर पहुंच जाएगा।
 
इसे ऐसे समझें:  आप एक होटल चलाते थे और वह लंबे समय तक प्रॉफिट में रहा। एक दूसरी कंपनी आती है जो आपकी क्‍वालिटी का खाना घर तक सप्‍लाई करती है और ऑनलाइन बुकिंग की भी सुविधा देती है। ऐसे में आपने खुद को नहीं बदला तो बिजनेस बदलते समय के साथ फेल हो जाएगा। यही कारण है कि दुनिया में नए बिजनेस आइडिया हमेशा सक्‍सेजफुल होते हैं।  


 

2-अपने ग्राहकों की आवाज नहीं सुन पाना
 
क्‍या होता है इससे: ग्राहक धीरे-धीरे आपसे दूर होते जाते हैं और बिजनेस बंदी की कगार पर आ जाता है।
 
इसे ऐसे समझें:  आप की दुकान किसी खास प्रोडक्‍ट के लिए इलाके में फेमस थी और आपकी उसमें मोनोपॉली थी। ऐसे में प्रोडक्‍ट क्‍वालिटी खराब या घटिया होने के बाद भी लोग इसे खरीदने को मजबूर होंगे। हालांकि अगर आपसे बेहतर क्‍वालिटी वाला कॉम्पिटीटर आ गया तो आपके बिजनेस की संभावना बेहद कम हो जाती है। अगर आप कस्‍टमर्स के फीडबैक के हिसाब से अपने प्रोडक्‍ट की क्‍वालिटी बढ़ाते जाते हैं तो आपका बिजनेस तब भी चलता रहेगा।  


 

3- फ्यूचर को नहीं भांप पाना
 
क्‍या होगा इससे: समय के साथ दूसरे कॉम्पिटीटर आपसे कहीं आगे निकल जाएंगे और आपके बिजनेस को टेक ओवर कर लेंगे।
 
इसे ऐसे समझे:  बिजनेस का एक सीधा सा फंडा है। नए तरह का बिजनेस कुछ समय में सैकड़ों गुना प्रॉफिट देता है, जबकि ट्रेडीशनल बिजनेस सैकड़ों साल में सिर्फ कुछ परसेंट ही प्रॉफिट देता है। सबसे बड़ा रीजन है कि नए तरह के बिजनेस में फ्यूचर होता है। इसलिए फ्यूचर के हिसाब से अपने बिजनेस में चेंज करना जरूरी है। 

4- प्रॉपर आकाउंटिंग का अभाव

 
क्‍या होता है इससे: शुरुआत में आपको पता ही नहीं चल पाएगा कि आपका बिजनेस घाटे में है। जब पता चलेगा तो बहुत देर हो चुकी होगी।
 
इसे ऐसे समझें एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया भर के ज्‍यादातर छोटे बिजनेस प्रॉपर अकाउंटिंग के अभाव के चलते बंद हो जाते हैं।  दरअसल अकाउंटिंग से हमे बराबर पता चलता रहता है कि बिजनेस की आर्थिक सेहत कैसी है। आप शुरुआत में अलर्ट हो जाते हैं। जबकि अकाउंटिंग नहीं होने से शुरुआत में घाटे का पता ही नहीं चल पाता। और जब पता चलता है, सबकुछ हाथ से निकल चुका होता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट