बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companiesगोल्‍ड प्‍लस ग्‍लास इंडस्‍ट्री ने प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट से जुटाए 400 करोड़, एक्‍सपेंशन में करेगी इस्‍तेमाल

गोल्‍ड प्‍लस ग्‍लास इंडस्‍ट्री ने प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट से जुटाए 400 करोड़, एक्‍सपेंशन में करेगी इस्‍तेमाल

प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट, अजीम प्रेमजी की इन्‍वेस्‍टमेंट फर्म है...

Premji Invest pumps Rs 400 cr in Gold Plus Glass Industry

नई दिल्‍ली. डॉमेस्टिक फ्लोट ग्‍लास मैन्‍युफैक्‍चरर गोल्‍ड प्‍लस ग्‍लास इंडस्‍ट्री लिमिटेड ने प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट से 400 करोड़ रुपए जुटाए हैं। प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट, अजीम प्रेमजी की इन्‍वेस्‍टमेंट फर्म है। गोल्‍ड प्‍लस इस वक्‍त क्लियर ग्‍लास और टिंटेड ग्‍लास, दो तरह की फ्लोट ग्‍लास लाइंस ऑपरेट करती है। इनकी कंबाइंड इंस्‍टॉल्‍ड कैपेसिटी 4,27,000 टन सालाना है। गोल्‍ड प्‍लस का दावा है कि देश की इंस्‍टॉल्‍ड फ्लोट ग्‍लास कैपेसिटीज में 16 फीसदी हिस्‍सेदारी है। 

 

गोल्‍ड प्‍लस की ओर से दिए गए एक बयान के मुताबिक, प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट से आए इन्‍वेस्‍टमेंट से कंपनी को अपनी क्षमता में 7,30,000 टन सालाना का इजाफा करने में मदद मिलेगी। इस विस्‍तार से गोल्‍ड प्‍लस की योजना बढ़ती डिमांड को पूरा करने, ग्‍लास इंपोर्ट पर निर्भरता कम करने और बड़े पैमाने पर रोजगार अवसर पैदा करने की है। इसके अलावा कंपनी को उम्‍मीद है कि प्रेमजी इन्‍वेस्‍ट से मिली फंडिंग से गोल्‍ड प्‍लस को अपना मार्केट शेयर बढ़ाने में भी मदद मिलेगी। इस वक्‍त फ्लोट ग्‍लास इंडस्‍ट्री का डॉमेस्टिक मार्केट साइज 30 लाख टन सालाना और ग्रोथ रेट 12-15 फीसदी होने का अनुमान है।  

 

3-4 सालों में लगाएगी दो नई फ्लोट ग्‍लास लाइंस, करेगी 2000 करोड़ से ज्‍यादा का इन्‍वेस्‍टमेंट

आगे कहा कि अगले 3-4 सालों में गोल्‍ड प्‍लस भारत में दो नई फ्लोट ग्‍लास लाइंस लगाने की है। इसके लिए कंपनी 2000 करोड़ रुपए से ज्‍यादा का इन्‍वेस्‍टमेंट करेगी। गोल्‍ड प्‍लस के फाउंडर और चेयरमैन सुभाष त्‍यागी ने कहा कि आगे चलकर भारत में फ्लोट ग्‍लास की डिमांड तेजी से बढ़ने की उम्‍मीद है। कंपनी के इस विस्‍तार का लक्ष्‍य सरकार की बड़ी पहलों जैसे 100 स्‍मार्ट सिटी, एयरपोर्ट्स का विकास आदि के कारण इंडस्‍ट्री में डिमांड में होने वाली बढ़ोत्‍तरी को पूरा करना होगा। 

 

नेशनल-इंटरनेशनल लेवल पर कर चुकी है कई प्रोजेक्‍ट

गोल्‍ड प्‍लस की मैन्‍युफैक्‍चरिंग फैसिलिटी रुड़की, उत्‍तराखंड में है और इसकी दो प्रोसेसिंग यूनिट हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में हैं। यह भारत और नेपाल, भूटान, ब्रिटेन व कतर समेत अन्‍य देशों में कई प्रोजेक्‍ट्स पर काम कर चुकी है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट