बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Companies2017 में पीई इन्‍वेस्‍टमेंट 21 अरब डॉलर के रिकॉर्ड लेवल पर: रिपोर्ट

2017 में पीई इन्‍वेस्‍टमेंट 21 अरब डॉलर के रिकॉर्ड लेवल पर: रिपोर्ट

प्राइवेट इक्विटी इन्‍वेस्‍टमेंट 2017 में 21 अरब डॉलर के ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया।

1 of

नई दिल्‍ली. प्राइवेट इक्विटी इन्‍वेस्‍टमेंट 2017 में 21 अरब डॉलर के ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया। पिछले साल की तुलना में वैल्‍यू के आधार पर इसमें 54 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी हुई है। एडवाइजरी फर्म ग्रांट थ्रानटन की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। पीई इन्‍वेस्‍टमेंट में रिकॉर्ड बढ़ोत्‍तरी की अहम वजह बड़े साइज के ट्रांजैक्‍शन रहे। 

 

रिपोर्ट के अनुसार, पीई इन्‍वेस्‍टमेंट के लिहाज से 2017 एक ऐतिहासिक सिल रहा। इस दौरान 21 अरब डॉलर के 735 ट्रांजैक्‍शन हुए। 2016 में पीई डील में 24 फीसदी की गिरावट के बाद 2017 में आई यह तेजी काफी महत्‍वपूर्ण है। इससे बड़े साइज के इन्‍वेस्‍टमेंट और भारी शेयर खरीद के संकेत मिलते हैं। 2017 में 50 करोड़ डॉलर से ज्‍यादा छह निवेश हुए, जबकि 2016 में इस साल के इन्‍वेस्‍टमेंट केवल तीन हुए थे। 
  
ग्रांट थ्रानटन इंडिया एलएलपी के पार्टनर- इंडिया लीडरशिप टीम- हरीश एचवी का कहना है कि रिफॉर्म्‍स और रेग्‍युलेटरी के मामले में 2017 में कई तरह के बड़े एक्‍शन हुए। इनका मकसद अर्थव्‍यवस्‍था में स्‍टैबिलिटी लाना था। हमारा मानना है कि लंबे समय के लिए इन्‍वेस्‍टरके भरोसे को बूस्‍ट देंगे और भारतीय कंपनियों में पीई या वीसी एक्टिविटी के नए दौर की शुरुआत होगी। उन्‍होंने कहा कि 2018 में पीई डील 2017 के लेवल को भी पार कर सकता है। 

 

ई-कॉमर्स में सबसे ज्‍यादा डील 
रिपोर्ट के अनुसार, सेक्‍टर के आधार पर पीई निवेश की बात करें तो 2017 में सबसे ज्‍यादा ई-कॉमर्स सेकटर में आई। ई-कॉमर्स में पीई इन्‍वेस्‍टमेंट की 6 अरब डॉलर की 33 डील हुई। जबकि 2016 में 1 अरब डॉलर की 31 डील हुई थी। ई-कॉमर्स के अलावा, पिछले साल स्‍टार्टअप्‍स, बैंकिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज, रीयल एस्‍टेट और आईटी व आईटी से जुड़ी सर्विसेज में भी पीई इन्‍वेस्‍टमेंट बढ़ा। 

 

IPO एक्टिविटी बढ़ी 
रिपोर्ट के अनुसार, 2017 में आईपीओ एक्टिविटी भी बढ़ी। 10.7 अरब डॉलर से ज्‍यादा के 37 इश्‍यू आए। 2016 के मुकाबले इन आईपीओ की वैल्‍यू तीन गुना ज्‍यादा रही। अधिकांश आईपीओ ओवरसब्‍सक्राइब हुए। 

 

क्या है पीई इन्वेस्टमेंट?
प्राइवेट इक्विटी एक कैपिटल है जो मार्केट में लिस्टेड नहीं होते हैं। प्राइवेट इक्विटी फंड औऱ इन्वेस्टर्स से बना है जो प्राइवेट कंपनियों में डायरेक्ट इन्वेस्ट करते हैं। इसके अलावा ये पब्लिक कंपनियों को खरीद लेते हैं वो ये कंपनियां मार्केट से डिलिस्ट हो जाती हैं। इसमें इंस्टीट्यूशनल औऱ रिटेल इन्वेस्टर्स का पैसा लगा होता है।

 

रिपोर्ट के अनुसार, 2017 में आईपीओ एक्टिविटी भी बढ़ी। 10.7 अरब डॉलर से ज्‍यादा के 37 इश्‍यू आए। 2016 के मुकाबले इन आईपीओ की वैल्‍यू तीन गुना ज्‍यादा रही। अधिकांश आईपीओ ओवरसब्‍सक्राइब हुए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट