Advertisement
Home » इंडस्ट्री » कम्पनीजRCom के खिलाफ इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रोसिडिंग्‍स पर लगी रोक, Jio को कर सकेगी एसेट्स की बिक्री

अनिल अंबानी को NCLAT से बड़ी राहत, RCom अब Jio के साथ पूरी कर सकेगी डील

NCLAT ने RCom और सब्सिडियरीज रिलायंस इन्‍फ्राटेल व रिलायंस टेलिकॉम के खिलाफ इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रोसिडिंग्‍स पर लगा दी है।

1 of

नई दिल्‍ली. नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्‍यूनल (NCLAT) ने रिलायंस कम्‍युनिकेशंस (RCom) और इसकी सब्सिडियरीज रिलायंस इन्‍फ्राटेल व रिलायंस टेलिकॉम के खिलाफ इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रोसिडिंग्‍स पर रोक लगा दी है। इसके अलावा NCLAT ने कंपनी को रिलायंस जियो को एसेट्स की बिक्री की प्रक्रिया शुरू करने की मंजूरी भी दे दी है। 

 

NCLAT के इस फैसले से कर्ज में डूबी अनिल अंबानी की आरकॉम को थोड़ी राहत मिली है। फाइनेंशियल ईयर 2010 में कंपनी पर 25 हजार करोड़ कर्ज था, अब बढ़कर 45 हजार करोड़ हो चुका है। आरकॉम को जियो को एसेट्स की बिक्री से 25,000 करोड़ रुपए मिलने की उम्‍मीद है। 

 

इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रोसिडिंग्‍स के लिए एरिक्‍सन इंडिया ने की थी अपील 

बता दें कि आरकॉम और इसकी सब्सिडियरीज के खिलाफ इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रोसिडिंग्‍स के लिए अपील टेलिकॉम इक्यूपमेंट बनाने वाली स्वीडन की कंपनी एरिक्सन ने की थी। एरिक्‍सन आरकॉम की ऑपरेशनल क्रेडिटर है। इस पर नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्‍यूनल (NCLT) ने 15 मई को मंजूरी दी थी। आरकॉम पर एरिक्‍सन का 978 करोड़ रुपए बकाया था, जो अब बढ़कर 1,600 करोड़ रुपए हो गया है। एरिक्‍सन ने आरकॉम के देशव्‍यापी टेलिकॉम नेटवर्क को ऑपरेट और मैनेज करने के लिए 2014 में 7 साल के लिए डील की थी। 

Advertisement

 

आरकॉम ने 500 करोड़ रु. के अग्रिम भुगतान का दिया था ऑफर 

आरकॉम ने मंगलवार को एरिक्‍सन को 500 करोड़ रुपए का अग्रिम भुगतान करने का ऑफर दिया था। NCLAT ने आरकॉम और इसकी सब्सिडियरीज को 120 दिनों के अंदर एरिक्‍सन इंडिया को 550 करोड़ रुपए देने का निर्देश दिया है। ये अवधि 1 जून 2018 से शुरू होगी। कंपनी द्वारा ऐसा नहीं कर पाने पर ट्रिब्‍यूनल आरकॉम के खिलाफ इन्‍सॉल्‍वेंसी प्रक्रिया को आगे बढ़ाने का निर्देश देगा। 

 

अंडरटेकिंग फाइल करेंगे अनिल अंबानी 

जस्टिस एसजे मित्‍तल की अध्‍यक्षता वाली दो सदस्‍यीय NCLAT बेंच ने आरकॉम के चेयरमैन व एमडी अनिल अंबानी को इस राशि के भुगतान को लेकर एक अंडरटेकिंग फाइल करने का भी निर्देश दिया है। इस पेशकश को मंजूर करने को लेकर एरिक्‍सन इंडिया भी NCLAT के समक्ष अंडरटेकिंग फाइल करेगी। 

Advertisement

 

10 साल में 1.61 लाख करोड़ घटी मार्केट कैप 

आरकॉम में गिरावट का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि पिछले 10 साल में कंपनी का मार्केट कैप 97 फीसदी से ज्यादा घट गया है। जनवरी 2008 में ऑर-कॉम का मार्केट कैप 1.66 लाख करोड़ रुपए के करीब था, जो 18 मई 2018 को घटकर 4245 करोड़ रुपए पर आ गया। इस दौरान कंपनी का मार्केट कैप 1.61 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा घट गया। 11 जनवरी 2008 को एक शेयर का भाव 792 रुपए था, जो घटकर 18 मई 2018 को 15 रुपए के स्तर पर आ गया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement