विज्ञापन
Home » Industry » Companiesnarendra modi will inaugurate eight projects in manipur

खुल गए म्यांमार के रास्ते, अब थाईलैंड दूर नहीं, मणिपुर की मोरे चौकी का शुभारंभ

प्रधानमंत्री इम्‍फाल में अनेक परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे और आधारशिला रखेंगे

1 of

नई दिल्ली। भारत को म्यांमार और थाइलैंड से जोड़ने की दिशा में केंद्र की मोदी सरकार ने एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। इस प्रोजेक्ट के तहत मणिपुर के मोरे में एक अत्याधुनिक एकीकृत जांच चौकी बनकर तैयार हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इस जांच चौकी का उद्घाटन करेंगे। इस जांच चौकी के बनने के बाद मणिपुर से म्यांमार जाना आसान हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट के अगले चरण में भारत को थाईलैंड से जोड़ने वाले हिस्से पर काम किया जाएगा।  प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी आज विभिन्‍न परियोजनाओं का उद्घाटन करने के लिए पट्टिका का अनावरण करेंगे। इन परियोजनाओं में मोरे में एकीकृत चेक पोस्‍ट (आईसीपी), दोलाईथाबी बैराज परियोजना, साओमबंग में एफसीआई खाद्य भंडारण गोदाम, थंगलसुरूनगंद में ईको टूरिज्‍म कॉम्‍पलेक्‍स तथा विभिन्‍न जल आपूर्ति योजना शामिल हैं। प्रधानमंत्री मोदी 400 किलोवाट की डबल सर्किट सिल्‍चर – इम्‍फाल लाइन देश को समर्पित करेंगे। 

 

मोरे चैकपोस्ट खोलेगी तरक्की के नए रास्ते

मोदी धननमंजूरी विश्‍वविद्यालय, इंफाल की संरचना विकास, खेल सुविधाएं जैसी परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे। प्रधानमंत्री इम्‍फाल पूर्व जिले में हपताकंजीबंग में लोगों को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री असम में सिलचर के रामनगर में सार्वजनिक सभा को संबोधित करेंगे। मोरे चैकपोस्ट भारत के लिए तरक्की के नए द्वार खोलेगा। इस परियोजना की मुख्य विशेषताएं यह हैं कि यह चैकपोस्ट दक्षिण-पूर्व एशिया के लिए भारत का गेटवे है। इसके साथ ही यह चैकपोस्ट भारत- म्यांमार सीमा पर राष्ट्रीय राजमार्ग -39 पर स्थित है। यहां 38 एकड़ क्षेत्रफल में यात्रियों और कार्गो के लिए अलग-अलग सुविधाएं दी जाएंगी। इस परियोजना की लागत 90 करोड़ रुपए है। 

 

आगे पढ़ें...

म्यांमार का प्रवेश द्वार है मोरे

वास्तव में मोरे म्यांमार (बर्मा) का प्रवेश द्वार है। यहां से म्यांमार के शहर मांडलेकी दूरी तकरीबन 470 किलीमीटर है। वही मांडले शहर जहां लोकमान्य तिलक को अंग्रेजों ने जेल में बंद कर रखा था। कई भारतीय सैलानियों की रूचि मांडले जाकरतिलक के जेल को देखने में रहती है। अगर आप मांडले जाना चाहते हैं तो उसकेलिए इंतजाम करना पड़ेगा वीजा पासपोर्ट आदि का। लेकिन मोरे से महज पांच किलोमीटर आगे म्यांमार के अंदर तमू बाजार है।

आगे पढ़ें...

मोरे में बसता है मिनी हिंदुस्तान

मोरे मणिपुर का छोटा सा शहर है पर महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र है। मोरे में रहने के लिए कई होटल भी हैं। मोरे में एक मिनी हिंदुस्तान बसता है। यहां आपको भारत के कई राज्यों के लोग मिल जाएंगे। यहां न सिर्फ यूपी और बिहार बल्कि बड़ी संख्या में यहां दक्षिण भारतीय भी हैं। तमिलनाडु के कई सौ लोग मोरे में रहकर व्यापार करते हैं। इन लोगों ने यहां दक्षिण भारतीय मंदिर भी बना लिया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन