विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesMultinational companies to ensure maximum corporate jobs for LGBTQ community

Microsoft एवं Mastercard लेस्बियन एवं गे को कॉरपोरेट में नौकरी दिलाने के लिए तैयार करेंगी मंच

LGBTQ समुदाय से भेदभाव के चलते हर साल होता है 100 अरब डॉलर का नुकसान

1 of

नई दिल्ली.

माइक्रोसॉफ्ट और मास्टरकार्ड जैसी बड़ी कंपनियां विश्व आर्थिक मंच (WEF) के साथ मिलकर एक ऐसा मंच तैयार करेंगीं जहां LGBTI समुदाय (तीसरा लिंग) को कार्यस्थलों में समावेशित करने को प्रोत्साहन दिया जाएगा। माइक्रोसॉफ्ट और मास्टरकार्ड के अलावा Acceture, Duesche Bank, ईवाई, Omnicom और Salesforce जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने इस मंच पर साथ काम करने के लिए डब्ल्यूईएफ के साथ हाथ मिलाया है। डब्ल्यूईएफ ने कहा कि एलजीबीटीआई समुदाय को कार्यस्थलों पर समावेशित करके उनके मानवाधिकारों और उनके सम्मान की रक्षा में अहम भूमिका निभाई जा सकती है। दुनियाभर में एलजीबीटीआई (लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर, इंटरसेक्स) समुदाय को समाज में मान्यता दिलाने और उनके अधिकारों के लिए कई तरह के आंदोलन चल रहे हैं।

 

एजेंसी की खबरों के मुताबिक दावोस में चल रहे डब्ल्यूईएफ ने यहां अपनी वार्षिक बैठक के दौरान इस मंच की घोषणा की। उसने कहा कि इस पहल को संयुक्तराष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त से भी समर्थन प्राप्त है। इस पहल ने दुनियाभर की कंपनियों से 2020 तक कार्यस्थलों पर एलजीबीटीआई समुदाय के साथ होने वाले भेदभाव से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र के मानकों को लागू करने का भी आह्वान किया है।

 

 

भारत ने भी दी LGBT समुदाय को मान्यता

भारत में भी उच्चतम न्यायालय के 2014 में दिए ‘नाल्सा निर्णय’ से तीसरे लिंग को कानूनी मान्यता मिली। उन्हें एक लिंग के तौर पर अपनी पहचान रखने का कानूनी अधिकार मिला। इसके बाद विभिन्न शिक्षा संस्थानों और रोजगार के आवेदनों में पुरुष, स्त्री के साथ तीसरे लिंग को भी पहचान दी गई। इसे भारत में लैंगिक समानता की दिशा में एक बड़ा कदम माना गया।

 

 

भेदभाव के चलते हर साल 100 अरब डॉलर का नुकसान

डब्ल्यूईएफ ने कहा कि यौन रूझान और लैंगिक पहचान के आधार पर किया जाने वाला भेदभाव ना केवल सार्वभौमिक मूलभूत मानवाधिकारों का उल्लंघन है बल्कि किसी व्यक्ति, राष्ट्र और कारोबार के दीर्घावधि आर्थिक परिदृश्य को भी यह प्रभावित करता है। वर्ष 2017 में संयुक्त राष्ट्र एड्स के अध्ययन में एलजीबीटीआई समुदाय के साथ भेदभाव से हर साल 100 अरब डॉलर के वैश्विक नुकसान का अनुमान लगाया गया था।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss