Home » Industry » CompaniesLocally manufactured cars may face the salt spray test

अब कारों का होगा 'नमक' टेस्ट, आपको मिलेगा फायदा

कारों के salt spray टेस्ट के प्रस्ताव पर विचार कर रही है केंद्र सरकार

Locally manufactured cars may face the salt spray test

नई दिल्ली. किसी भी गाड़ी को मार्केट में उतारने से पहले कंपनी उसके अनेकों टेस्ट करती हैं। लेकिन अब कारों को एक नई परीक्षा से गुजरना पड़ेगा। भारत की व्हीकल टेस्टिंग एजेंसी, इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (ICAT) ने कारों को जंग से बचाने के लिए 'नमक' (Salt Spray) टेस्ट का प्रस्ताव रखा है। मिनिस्ट्री ऑफ रोड एंड ट्रांसपोर्ट ने इस मसले पर ICAT से राय मांगी थी। ICAT के प्रस्ताव के बाद सरकार इस पर विचार कर रही है। मिनिस्ट्री चाहती है कि ऑटो निर्माता कंपनियां कारों की बॉडी पैनल में 70 पर्सेंट गैल्वेनाइज्ड स्टील का प्रयोग करें। इसमें गाड़ियों के स्टील के ऊपर जिंक की कोटिंग की जाती है। इससे गाड़ियों में जंग लगने की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है और कारों की मजबूती बढ़ जाती है। 

 

 

दूसरे देशों में होता है यह टेस्ट 

यूं तो, दुनिया के कई देशों में गाड़ियों की जंगरोधक क्षमता को दूर करने के लिए यह टेस्टिंग पहले से ही की जाती है। लेकिन भारत के लिए यह नया होगा। 

 

10 लाख रुपए से कम कीमत वाली गाड़ियों के लिए सॉल्ट स्प्रे टेस्ट
ज्यादातर ऐसे शहर जहां उमस ज्यादा होती है वहां पर गाड़ियों में जंग की दिक्कत सबसे ज्यादा होती है आईएसटी ने मंत्रालय से कहा कि ज्यादातर यात्री कारों की सुरक्षा के लिए सीट बेल्ट, एयरबैग आदि पर ध्यान देते हैं। जल्द ही मंत्रालय जंगरोधक नियमों के तौर पर सॉल्ट स्प्रे प्रक्रिया को लागू कर सकता है। जिन गाड़ियों की कीमत 10 लाख रुपए से कम होगी उन पर यह प्रक्रिया लागू होगी। इस प्रक्रिया को और अधिक मजबूत करने के लिए एक रिपोर्ट को आधार बनाया गया है। 

 

सॉल्ट स्प्रे टेस्ट के लिए कार कंपनियों की मदद करेगी  ICAT
इस रिपोर्ट में बताया गया है कि किस तरह जंग गाड़ियों की सुरक्षा पर असर डालता है। इसमें स्वीडन की एक और रिपोर्ट का भी जिक्र किया गया है कि जंग लगी गाड़ियों से जान का जोखिम काफी हद तक बढ़ जाता है। जंग लगने से गाड़ियों की बॉडी कमजोर पड़ जाती है और एक्सीडेंट के समय गाड़ियों को बचा नहीं पाती। सॉल्ट स्प्रे  प्रक्रिया को लागू करने के लिए आईसीएटी कार कंपनियों की मदद करने को तैयार है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट