Home » Industry » CompaniesJobs will be showered in the election year 2019

चुनावी साल में नौकरियों की झड़ी, रेलवे देगा 1.27 लाख तो पीएसयू 25,000 नौकरियां

चुनावी साल 2019 में नौकरियों की झड़ी लगने जा रही है।

1 of

नई दिल्ली। चुनावी साल 2019 में नौकरियों की झड़ी लगने जा रही है। अकेले रेलवे ने वित्त वर्ष 2018-19 में 1.27 लाख नौकरियां देने का फैसला किया है। वहीं विभिन्न मंत्रालय के अधीन काम करने वाली सार्वजनिक कंपनियों में अगले साल मार्च अंत तक 25,000 भर्ती हो सकती है। बताया जा रहा है कि चुनावी साल होने की वजह से सरकार मार्च अंत तक अधिक से अधिक रोजगार सृजन करने पर जोर देगी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस साल अगस्त में बेरोजगारी दर बढ़कर 6.4 फीसदी पर पहुंच गई है जबकि पिछले साल अगस्त में यह दर 4.1 फीसदी थी। ऐसे में, विपक्ष चुनाव में बेरोजगारी को चुनावी मुद्दा बनाने की तैयारी में है। अगले साल अप्रैल में केंद्र के चुनाव हो सकते हैं।

 

रेलवे में मिलेगी सबसे अधिक नौकरी

श्रम मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक मोदी सरकार ने 2019 के अंत तक देश में विभिन्न श्रेणियों में 330,000 से ज्यादा भर्ती करने का निर्णय लिया है। अकेले रेलवे ने  वर्ष 2018-19 तक 127,000 भर्ती करने का फैसला लिया है। इसके लिए 2.37 करोड़ लोगों ने आवेदन दिया है। इनमें सहायक लोको पायलट, तकनीशियन, गैंगमैन सहित तीसरी और चौथी श्रेणी के पद शामिल है। 

आगे पढ़ें,

10 राज्यों ने 78 हजार पदों के लिए निकाली नौकरियां

इससे पहले साल 2016-17 में भी  रेलवे ने 18,000 कर्मचारियों की भर्ती की थी जिसमें 92 लाख लोगों ने आवेदन किया था। स्टैंडिंग कॉफ्रेंस ऑफ पब्लिक इंटरप्राइजेज के आकंड़ों के अनुसार, सार्वजनिक कंपनियों में 11.3 लाख कर्मचारी काम करते हैं। इन आंकड़ों में अस्थायी और अनुबंध वाले कर्मचारी शामिल नहीं है। चुनाव के चलते राज्यों ने भी सरकारी पदों के लिए भर्ती अभियान शुरू कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक 10 राज्यों ने भी शिक्षक पदों के लिए 78 हजार पदों पर रिक्तियां निकाली हैं। 

उत्तरप्रदेश में साल 2019 में होगी 100,000 भर्तियां

माना जा रहा है कि उत्तरप्रदेश में साल 2019 तक 100,000 पुलिसकर्मियों की भर्तियां होंगी। राज्य में अभी से 42,000 पदों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। माना जा रहा है कि यह अब तक की सबसे बड़ी भर्ती है। इसके साथ ही केंद्र और राज्य सरकार ने दूसरे क्षेत्रों में भी नौकरियां निकाली हैं। भर्तियों को लेकर एक अधिकारी ने कहा कि केंद्र और राज्यों में कई विभागों में कई पद सालों से खाली पड़े हैं। EPFO के आंकड़ों के मुताबिक, इस साल  वित्त वर्ष के पहले चार महीनों में संगठित क्षेत्र में 32 लाख नौकरियों का सृजन किया गया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट