विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesJet airways crisis pilots dont get salary

Jet Airways की पायलट यूनियन ने उठाई आवाज, कहा-घर चलाने के लिए गिरवी रखने पड़ रहे हैं मां के गहने

260 पायलटों ने स्पाइसजेट से मांगी नौकरी

Jet airways crisis pilots dont get salary

जेट एयरवेज को इन दिनों आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते जेट अपने कर्मचारियों को पिछले कुछ महीने से सैलरी नहीं दे पा रही है। ऐसे में परेशान कर्मचारियों  ने  इसके समाधान के लिए सरकार से गुजारिश की है। पायलटों का कहना है कि उनकी स्थिति बहुत खराब हो रही है, वे तनाव में काम कर रहे हैं। कुछ पायलटों का कहना है कि उन्हें अपना घर चलाने के लिए मां के गहने तक गिरवी रखने पड़ रहे हैं। वहीं कुछ का कहना है कि उन्होंने शादी स्थगित कर दी है।

नई दिल्ली। जेट एयरवेज को इन दिनों आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते जेट अपने कर्मचारियों को पिछले कुछ महीने से सैलरी नहीं दे पा रही है। ऐसे में परेशान कर्मचारियों  ने  इसके समाधान के लिए सरकार से गुजारिश की है। पायलटों का कहना है कि उनकी स्थिति बहुत खराब हो रही है, वे तनाव में काम कर रहे हैं। कुछ पायलटों का कहना है कि उन्हें अपना घर चलाने के लिए मां के गहने तक गिरवी रखने पड़ रहे हैं। वहीं कुछ का कहना है कि उन्होंने शादी स्थगित कर दी है।

कैप्टन चोपड़ा ने कहा, 'पायलटों की समस्याओं को हल करें


एक अन्य पायलट कैप्टन आसीम वालियानी ने बताया, 'सभी 1100 सदस्यों ने फैसला किया है कि अगर उनकी दो मांगें पूरी नहीं की गई तो एक अप्रैल से विमान उड़ाना बंद कर देंगे। हमें हमारी सैलरी और क्लियर रोड मैप चाहिए। अगर ये मांगें पूरी नहीं होती है तो हम उड़ान बंद कर देंगे।' पायलटों की यूनियन का कहना है कि बिना सैलरी के वे अपना परिवार नहीं चला पा रहे हैं। कैप्टन चोपड़ा ने कहा, 'पायलटों की समस्याओं को हल करें। वे बहुत कष्ट से गुजर रहे हैं।' साथ ही उन्होंने कहा, 'पायलटों को अपनी ईएमआई भरनी होती हैं। बच्चों की शिक्षा है, बुजुर्ग परिजन हैं और अस्पताल के बिल हैं। शादियां स्थगित कर दी गईं।


260 पायलटों ने स्पाइसजेट से मांगी नौकरी

जेट एयरवेज पर कथित तौर पर एक अरब डॉलर का कर्ज है। एयरलाइन अपने ऋणदाताओं और विमान लाइसेंस का भुगतान भी नहीं कर पा रही है और कई विमानों का संचालन रोक दिया है। परेशान कर्मचारियों नौकरी के लिए स्पाइसजेट से संपर्क किया है। इससे पहले इंडिगो ने जेट के पायलटों को लंबित तनख्वाह और अन्य लाभों के साथ मुआवजा देने की बात कहकर लुभाने की कोशिश की थी। इस वजह से कंपनी को अपने ही पायलटों के विरोध का सामना करना पड़ा था।   कमांडर कैप्टन करण चोपड़ा ने कहा, 'तनाव का स्तर बढ़ता रहेगा, हम कितनी भी कोशिश कर लें और कितना भी उसे पीछे छोड़ दें। हम पूरी कोशिश करते हैं, लेकिन हम भी इंसान ही हैं। पायलटों को सैलरी न मिलना एक अनुचित तनाव है और इसका तुरंत समाधान किया जाना चाहिए।' स्पाइसजेट के सूत्र का कहना है, 'लगभग 260 पायलट, जिसमें 150 कैप्टन शामिल हैं उन्होंने इंटरव्यू मे हिस्सा लिया।' इंडिगो के पास ज्यादातर एयरबस 320 हैं। वहीं स्पाइसजेट के पास बोइंग 737 एस विमान हैं। सूत्र ने बताया कि यह ध्यान देने वाली बात है कि जेट एयरवेज के अधिकांश पायलट प्रशिक्षित और बोइंग विमान उड़ाने के लिए टाइप-रेटेड (संबंधित विमान उड़ाने में दक्ष) हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन