Home » Industry » CompaniesWhatsApp group admin arrested for adding woman without her consent

महिलाओं को WhatsApp पर आपत्तिजनक सामग्री भेजना पड़ेगा महंगा, हो सकती है पांच साल की जेल

WhatsApp ग्रुप में महिला को उसकी इजाजत के बगैर Triple XXX पोर्न वीडियो भेजने वाला युवक गिरफ्तार

1 of

नई दिल्ली। हाल ही में मुंबई पुलिस से व्हॉट्सऐप पर महिला को पॉर्नोग्राफी भेजने वाले एक ग्रुप का भांडाफोड़ किया है। दरअसल मामला यह है कि मुंबई में पुलिस ने  व्हॉट्सऐप ग्रुप के एडमिनिस्ट्रेटर को एक महिला की इजाजत के बिना उसका नंबर ग्रुप में ऐड करके उसे पॉर्नोग्राफी भेजने के आरोप में गिरफ्तार किया है। खबरों के अनुसार इस युवक ने WhatsApp ग्रुप बनाया था जिसमें वह Triple XXX पोर्न वीडियो भेजा करता था। 24 वर्षीय मुस्ताक अली शेख पश्चिम बंगाल का रहने वाला है। 

 

महिला को भेजी पोर्नोग्राफी
पुलिस ने आईपीसी की धारा 67 और 67 (अ) के अंतर्गत मुस्ताक को कस्टडी  में ले  लिया है। इसके साथ ही पुलिस ने यह भी कहा कि इस कदम से व्हॉट्सऐप का गलत इस्तेमाल करने वाले लोगों को सबक मिलेगा। इस मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी ने बताया कि एक हाऊस वाइफ ने उन्हें बताया कि उसके नंबर को एक ग्रुप में ऐड किया गया है जिसमें Triple XXX पॉर्नोग्राफी भेजी जा रही है। महिला को पहले तो लगा कि उनके किसी दोस्त ने उनके साथ मजाक किया है लेकिन बाद में उस ग्रुप में पॉर्नोग्राफी की वीडियो और फोटो भेजी गई। IT एक्ट 2000 के तहत शेख को 5 साल तक की सजा हो सकती है। यदि शेख दूसरी बार ऐसा करता है तो उसे 7 साल की सजा और 10 लाख तक का जुर्माना भरना पड़ेगा।

 

आगे पढ़ें,

महिला ने दर्ज कराई शिकायत
जिसके बाद महिला  ने  पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। शिकायत दर्ज कराते हुए महिला ने कहा कि जब उसने सुबह उठकर ग्रुप के मेंबर को देखा तो उसे एहसास हुआ कि वह ग्रुप  12 में से किसी भी मेंबर्स को नहीं जानती।  गिरफ्तारी के बाद, आरोपी ने दावा किया कि वह महिला को नहीं जानता है और उसे WhatsApp ग्रुप में जोड़ने का इरादा भी नहीं था। 

 

आगे पढ़ें,

 

67 और 67 (A) के तहत मामला दर्ज
उसने दावा किया कि उन्होंने गलत नंबर टाइप किया जिसकी वजह से वह महिला WhatsApp ग्रुप में शामिल हो गई। वह अपने एक पुरुष मित्र को WhatsApp ग्रुप में शामिल करना चाहता था। आरोपी ने यह भी बताया कि उसी ने XXX नाम से WhatsApp ग्रुप बनाया था। पुलिस ने IPC सेक्शन 354 और IT Act 2000 के सेक्शन 67 और 67 (A) के तहत मामला दर्ज किया है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट