Advertisement
Home » Industry » Companiestrai-makes mobile number portability process easier

महज 4 रुपए में आप भी करवा सकते हैं अपना नंबर पोर्ट, जानिए क्या है प्रोसेस

अब आप तेजी से अपने नंबर को पोर्ट करा सकते हैं।

1 of

नई दिल्ली। अगर आप भी अपने मोबाइल नेटवर्क से परेशान हैं और नंबर को  पोर्ट कराने की सोच रहे हैं तो यह खबर आपके लिए काफी अच्छी साबित हो सकती है। TRAI की ओर से  किए गए बदलावों के चलते फोन नंबर पोर्ट कराना काफी आसान हो गया है। पहले  नंबर पोर्ट कराने के लिए उपभोक्ताओं को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता था लेकिन अब आप तेजी से  अपने  नंबर को  पोर्ट करा सकते हैं। अब रिक्वेस्ट डालने के 48 घंटों के  अंदर आपका नंबर पोर्ट हो जाएगा। बता दें कि एक सर्किल में पोर्ट कराने में 48 घंटे का समय लगेगा जबकि दूसरे सर्किल में पोर्ट कराने में 96 घंटे का समय लगेगा। 

 

एक बयान जारी करते हुए ट्राई ने कहा कि हमारा फोकस सबस्क्राइबर फ्रेडली पर है। और इसके लिए हम लगातार अच्छे कदम उठा रहे हैं। इसके अलावा ट्राई ने यह भी कहा कि यदि कंपनी गलत तरीके से पोर्ट करने की रिक्वेस्ट को रिजेक्ट करती है तो उस पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। एक ही सर्किल पर नंबर पोर्ट कराने  के लिए 48 घंटे  का समय लगेगा जबकि कॉर्पोरेट कनेक्शन के लिए 4 दिन का समय लगेगा। ट्राई ने यूनिक पोर्टिंग कोड की वैलिडिटी 14 दिन से कम करके  4 दिन कर दी है। आपको बता दें कि ट्राई का यह नियम जम्मू-कश्मीर, असम, नॉर्थ ईस्ट के सभी राज्यों पर लागू नहीं होता है। इस राज्यों के लिए अभी भी यूनिक पोर्टिंग कोड की वैलिडिटी 30 दिन है।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें एक मैसेज से कैसे कराएं नंबर पोर्ट

इसके साथ ही यदि कस्टमर अपनी नंबर पोर्टिंग रिक्वेस्ट को वापस लेना चाहता है तो इसके लिए भी ट्राई ने आसान नियम बनाए हैं। कस्टमर अब केवल एक मैसेज से अपनी रिक्वेस्ट को वापस ले सकता है। वहीं अगर कॉर्पोरेट कनेक्शन की बात की जाए तो एक ऑथराइजेशन लेटर से 50 की जगह 100 रिक्वेस्ट वापस लिए जा सकते हैं। किसी भी नंबर को पोर्ट करने के लिए UPC कोड जेनरेट करना होता है। इसे करने के लिए कस्टमर को अपने नंबर से  PORT स्पेस और अपना नंबर डालकर 1900 पर SMS करना होता है। इसके बाद कस्टमर के फोन में   PORT स्पेस और अपना नंबर डालकर 1900 पर SMS करना है कोड का एक मैसेज आता है। 

 

अगली स्लाइड में पढ़ें मात्र 4 रुपए में कराएं अपना नंबर पोर्ट

4 दिन के अंदर अब कस्टमर्स का कोड जेनरेट हो जाएगा जिसके बाद दूसरे  ऑपरेटर के साथ कस्टमर्स को  पेपर वर्क करना होगा। इसके बाद कस्टमर एप्लिकेशन फॉर्म (CAF) भरना होता है। जिसमें कस्टमर का एड्रेस प्रूफ, आईडी प्रूफ दिया जाता है। इसके साथ ही ट्राई ने नेटवर्क पोर्ट कराने के रेट में भी कटौती की है । पहले  नंबर पोर्ट कराने के लिए 19 रुपए देने पड़ते थे लेकिन अब मात्र 4 रुपए में नंबर पोर्ट हो जाएगा।   

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss