विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesStart leather garment business

विंटर में शुरू करें लेदर गारमेंट बिनजेस, 50 हजार में हो जाएगा शुरू

देश और विदेश में लेदर गारमेंट बिजनेस करने का है मौका

1 of

नई दिल्‍ली। विंटर में देश और विदेश में लेदर जैकेट्स, जींस, ड्रैसेज और लेदर फुटवियर की डिमांड सबसे ज्यादा बढ़ती है। इन्हे रीटेल, होलसेल, ई-कामर्स शॉपिंग वेबसाइट और एक्सपोर्ट मार्केट में बेचकर अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है। ये बिजनेस न्यूनतम 50 हजार रुपए के इन्वेस्टमेंट से शुरू किया जा सकता है। आज हम आपको बता रहा है कि इस विंटर लेदर गारमेंट और फुटवियर कारोबार शुरू करने के लिए आप क्या स्ट्रैटजी रखें, ताकि आप घरेलू एक्सपोर्ट में मोटा मुनाफा कमा सकें। साथ ही कौन से नए विदेशी बाजार में एक्सपोर्ट के मौके मिल रहे हैं।

 

एक्सपोर्ट में है मौका

 

भारत के लेदर फुटवियर और लेदर गारमेंट जर्मनी, इटली, फ्रांस, हांग कांग, नीदरलैंड, डेनमार्क, स्पेन, फ्रांस, चीन, वियतनाम और बेल्जियम के मार्केट में डिमांड अधिक है। है। भारत का 75 फीसदी एक्सपोर्ट इन्हीं 12 देशों में होता है। इनके अलावा अफ्रीकी देश, दक्षिण अफ्रीका, जापान, यूएई, कोरिया, न्युजीलैंड और अमेरिका बड़ा बाजार है। कुल लेदर एक्सपोर्ट में 45 फीसदी हिस्सेदारी लेदर फुटवेयर और 9 फीसदी हिस्सेदारी लेदर गारमेंट की है। कारोबारियों के मुताबिक इटली, जर्मनी, यूके, स्‍पेन से बड़ी संख्‍या में शूज एक्‍सपोर्ट के ऑर्डर मिले हैं। लेदर जैकेट्स और फुटवियर फैशन एक्सेसरी है, इसलिए इसकी डिमांड हमेश बनी रहती है। अफ्रीकी देश नामीबिया, नाइजीरिया, मोजांबिक, केन्‍या के अलावा घाना, टोगो, कांगो के मार्केट से भी लेदर फुटवियर की मांग आने लगी है।

 

कैसे करें एक्सपोर्ट

 

लेदर एक्सपोर्ट करने कि लिए बेहतर होगा आप एक्सपोर्ट के संगठन काउंसिल फॉर लेदर एक्सपोर्ट या एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट से जुड़़े। इनकी वेबसाइट पर जाकर अपने आप को रजिस्टर करवाएं और मेंबरशिप लें। मेंबरशिप लेने की फीस है लेकिन इससे आपको इंडस्ट्री के अपडेट मिलेंगे। नए एक्सपोर्टर को कारोबार कैसे और कहां से शुरू करना है, इसमें काउंसिल मदद करता है।

 

आगे पढ़ें - कहां से मिलेगी जानकारी

मिलती है तमाम जानकारी

 

सरकार एक्सपोर्टर को क्या बेनेफिट दे रही है और कैसे इसका फायदा उठाए जाए। इसके लिए काउंसिल ई-मेल करती है। ये काउंसिल फेयर करती है, जिसमें देशी और विदेशी खऱीदार आते हैं। विदेशों में होने वाले लेदर फेयर में एक्सपोर्टर को लेकर जाती है। इसमें मेंबर को पहले तरजीह दी जाती है। इसकी तमाम जानकारी महीनों पहले एक्सपोर्टर को दे दी जाती है, ताकि वो सही प्लानिंग कर सके। विदेशी फेयर में स्टॉल लगाने से लेकर रहने का इंतजाम करती है। हालांकि, सारा खर्चा एक्सपोर्टर को उठाना होता है। ये काउंसिल नया बाजार और बायर दोनों दिलवाने में मदद करती है। बिना इनकी मदद के पहली बार एक्सपोर्ट करने वाले को विदेशी बायर मिलना मुश्किल हो सकता है।

 

क्या-क्या होता है एक्सपोर्ट

 

लेदर में लेदर फुटवियर, लेदर गारमेंट, लेदर फुटवेयर कंपोनेंट, फिनिश्ड लेदर, नॉन लेदर फुटवेयर का एक्सपोर्ट होता है।

 

 

कहां से खरीदे रॉ मैटेरियल और फिनिश्ड प्रोडक्ट

 

दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, आगरा, कानपुर और जालंधर लेदर फुटवियर और लेदर गारमेंट्स का बड़ा केंद्र है। आगरा लेदर शूज मैन्‍युफैक्‍चरर और एक्‍सपोर्टर रहान खान के मुताबिक कंपनियों के डिजाइन वेबसाइट पर देख सकते हैं। ऑनलाइन पेमेंट कर फोन के जरिए बल्क स्टॉक मंगा सकते हैं। लेकिन पहली बार यहां आकर स्टॉक खरीदना अच्छा विकल्प रहेगा। इससे बायर और सेलर के बीच आपसी तालमेल बेहतर बनता है। डिमांड के मुताबिक भी लेदर शूज बनाने का विकल्प मिल जाता है। कंपनी से बारगेन कर सकते हैं, ताकि आपको प्रॉफिट मार्जिन ज्यादा मिल सके। एक्सपोर्ट में लेदर शूज पर रुपए में 20 से 25 फीसदी का प्रॉफिट मार्जिन आसानी से मिल जाता है।

 

आगे पढ़ें - कहां बेच सकते हैं प्रोडक्ट

 

 

ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से जुड़कर भी बढ़ा सकते हैं कारोबार

 

फ्लिपकार्ट, स्नैपडील, पेटीएम, शॉपक्लूज, ईबे, मंत्रा, स्नैपडील, अमेजन जैसी कई वेबसाइट पर लेदर प्रोडक्ट बेच सकते हैं। इनसे कई सेलर्स जुड़ रहे हैं। यहां दुकान की तरह फिक्‍स्‍ड कॉस्ट नहीं है, लेकिन वेबसाइट का कमीशन देना होता है।

 

बिना दुकान खोले, होलसेल और रीटेल में बेचे लेदर गारमेंट

 

होलसेल और रीटेल मार्केट में लेदर गारमेंट और फुटवियर का बड़ा बाजार है। जम्मू कश्मीर, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, उत्तराखंड, यूपी, मध्य प्रदेश जैसे उत्तर भारतीय राज्यों में होलसेल और रीटेल दुकानदारों को बेच सकते हैं। होलसेल का वाल्यूम अधिक होगा लेकिन प्रॉफिट मार्जिन एक से तीन फीसदी ही मिलेगा। रीटेल में प्रॉफिट मार्जिन 20 से 25 फीसदी तक मिल जाता है।

 

इतने में शुरू किया जा सकता है कारोबार

 

लेदर प्रोडक्ट का बिजनेस न्यूतम 50,000 रुपए शुरू किया जा सकता है लेकिन इनते इन्वेस्टमेंट में आप घरेलू बाजार में ही बिजनेस कर पाएंगे। लेदर एक्सपोर्ट बजनेस के लिए न्यूनतम 15 से 20 लाख रुपए का इन्वेसमेंट लगेगा।

 

यहां उठा सकते हैं फायदा

 

डॉलर के महंगे होने, एक्सपोर्ट में सस्ते लोन जैसी सरकारी छूट का फायदा आप विंटर में लेदर कारोबार शुरू करने में उठा सकते हैं। विंटर में देश और विदेश में लेदर जैकेट्स, जींस, ड्रैसेज और लेदर फुटवियर की डिमांड सबसे ज्यादा बढ़ती है। इन्हे रीटेल, होलसेल, ई-कामर्स शॉपिंग वेबसाइट और एक्सपोर्ट मार्केट में बेच सकते हैं।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन