Advertisement
Home » Industry » CompaniesRBI may soon appoint its new governor

जल्द ही RBI नियुक्त कर सकता है अपना नया गवर्नर, जानिए कौन संभालेगा कार्यालय

देर शाम तक इससे जुड़ा कोई ऐलान किया जा सकता है।

1 of

नई दिल्ली. सरकार जल्द ही रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर पद के लिए नए नाम का जल्द ही ऐलान कर सकती है। फाइनेंस सेक्रेटरी ए एन झा ने यह जानकारी देते हुए कहा कि देर शाम तक इससे जुड़ा कोई ऐलान किया जा सकता है। मौजूदा गवर्नर उर्जित पटेल ने एक दिन पहले ही अपने पद से इस्तीफा दिया है, जो तत्काल प्रभाव से लागू भी हो गया था। उर्जित पटेल 1990 के बाद ऐसे पहले गवर्नर हैं, जिन्होंने अपना कार्यकाल खत्म होने से पहले इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपने फैसले के पीछे ‘व्यक्तिगत कारण’ बताए हैं। 

उनके इस्तीफे के बाद यह सवाल खड़ा हो गया है कि अब गवर्नर का पद कौन संभालेगा। जब तक नए गवर्नर की नियुक्ति नहीं हो जाती है, तब तक सरकार द्वारा चयनित कोई व्यक्ति इस अवधि में यह जिम्मेदारी संभालेगा। इसके बाद नए गवर्नर को सरकार द्वारा नियुक्त किया जाएगा। सरकार ने नए गवर्नर की खोज शुरू कर दी है और इसके लिए कमेटी का गठन किया जा रहा है। आरबीआई के डिप्टी गवर्नर कमेटी के समक्ष अपनी दावेदारी पेश कर सकते हैं। मीडिया की माने तो सचिव अजय नारायण झा ने कहा कि आरबीआई के संबंध में सरकार की ओर से शाम तक कोई घोषणा की जा सकती है।

 

 कौन संभालेगा अंतरिम कार्यालय
आइबीआई एक्ट, 1934 के मुताबिक अगर कोई गवर्नर या डिप्टी गवर्नर अपनी जिम्मेदारी निभाने में अक्षम हो जाता है, छुट्‌टी पर चला जाता है या फिर अपने काम नहीं करता है तो केंद्र सरकार केंद्रीय बोर्ड से सलाह करने के बाद किसी अन्य व्यक्ति को इस पद पर नियुक्त कर सकती है। इसमें कोई अधिकारी या रिजर्व बैंक का कोई कर्मचारी अंतरिम रुप से गवर्नर के पद पर नियुक्त किया जा सकता है। इसके बाद औपचारिक रूप से नए गवर्नर का चयन किया जाएगा।

 

आगे पढ़ें- चार हैं दावेदार

चार हैं दावेदार
फिलहाल आरबीआई के चार डिप्टी गवर्नर हैं। एनएस विश्वनाथन, विरल आचार्य, बीपी कानूनगो और एमके जैन। इनमें से ही किसी को गवर्नर के पद के लिए चुना जाएगा। इसमें से एनएस विश्वनाथन सबसे सीनियर हैं।

 

अगली स्लाइड में पढ़ें और

विरल आचार्य ने साधा था सरकार पर निशाना
सरकार और आरबीआई के बीच नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों को अधिक कैश उपलब्ध कराने और बैंक के रिजर्व पर कब्जा करने के मुद्दे पर चल रहे विवाद के बारे में सबसे पहले डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने ही खुलकर बात की थी। उन्होंने उर्जित पटेल की तरफ से पक्ष रखते हुए सरकार पर निशाना साधा था। कयास लगाए जा रहे थे कि उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद विरल आचार्य भी इस्तीफा द देंगे, लेकिन फिलहाल उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss