विज्ञापन
Home » Industry » CompaniesBenefits for Passengers on Flight Delay or Cancellation

एयरलाइंस देती है यात्रियों को कई सुविधाएं, ऐसे कर सकते हैं दावा

फ्लाइट कैंसिल या लेट होने पर भी मुआवजा

1 of

नई दिल्ली। इन दिनों कोहरे के चलते बहुत सी फ्लाइट्स देरी से चल रही है। ऐसे में बहुत से लोग हैं जो नए साल में कहीं  ना कहीं जा रहे हैं। लेकिन फ्लाइट डिले होने के चलते उन्हें कई घंटे एयरपोर्ट पर बैठकर इंतजार करना पड़ता है। एविएशन रेग्युलेटर डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन ने इसके लिए कुछ नियम बनाए है जिनके बारे में यात्रियों को पता होना बहुत जरूरी है। फ्लाइट रद्द होने  या उड़ान में देरी होने पर यात्री मुआवजे का हकदार होता है जो कि कुछ इस प्रकार है। 

 

फ्लाइट लेट होने पर 

यदि आपकी फ्लाइट तय समय से लेट है तो आपको इंतजार में भूखे बैठने की कोई जरूरत नहीं है आप अपनी फ्लाइट कंपनी की ओर से मील और रिफ्रेशमेंट पाने के हकदार हैं। यदि आपकी फ्लाइट 24 घंटे से ज्यादा डिले है तो फ्लाइट कंपनी की ओर से आप होटल में रहने के हकदार भी हैं। लेकिन होटल का चुनाव एयरलाइन की पॉलिसी के मुताबिक किया जाएगा। यदि एयरलाइन के कंट्रोल से बाहर फ्लाइट में देरी होती है या फ्लाइट रद्द होती है तो यात्रियों को कोई मुआवजा नहीं दिया जाएगा। बाहरी कारणों में  राजनीतिक अस्थिरता, प्राकृतिक हादसा, गृह युद्ध, बम विस्फोट, दंगा, उड़ान को प्रभावित करने वाले सरकारी आदेश और हड़ताल शामिल हैं। 

 

अगली स्लाइड में पढ़ें

फ्लाइट कैंसिल होने पर

यदि यात्रियों की फ्लाइट कैंसिल हो जाती है तो एयरलाइन आपको यात्रा के दूसरे ऑप्शन देने के लिए बाध्य होती है। लेकिन यदि यात्री किसी दूसरी एयरलाइन में यात्रा करने से इंकार कर देता है तो एयरलाइन को आपको टिकट के पैसे वापस करने होंगे। इसके साथ ही यदि फ्लाइल  कैंसिल होने के 3 घंटे पहले एयरलाइन यात्रियों को इसकी जानकारी नहीं देती है तो उसे यात्रियों को मुआवजा देना पड़ेगा। 

 

आगे पढ़ें

बोर्डिंग ना मिलने पर

ऐसा बहुत बार होता है जब एयरलाइंस खाली सीटों  के साथ उड़ान भरने की संभावना को कम करने के लिए ओवरबुकिंग कर लेती हैं। जिसके चलते यात्रियों की संख्या मौजूद सीटों से ज्यादा होती है। ऐसे में कई बार एयरलाइंस कंफर्म बुकिंग के बाद यात्रियों को बोर्डिंग की इजाज़त नहीं देती है। ऐसे में यदि यात्रियों को बोर्डिंग से मना किया जाता है तो  एयरलाइन को आपके लिए मूल फ्लाइट के उड़ान भरने के समय से एक घंटे के अंदर दूसरी फ्लाइट का इंतजाम करना होगा। अगर एयरलाइन ऐसा नहीं कर पाती है तो आप मुआवजा पाने के हकदार हैं।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन