Home » Industry » Companiesspritual guru which gives Mukesh Ambani & Zuckerberg success mantra

मुकेश अंबानी-जुकरबर्ग ने इन गुरुओं से लिए मंत्र, बदल गई लाइफ

देश-विदेश के अरबपति हैं भारतीय गुरुओं के मुरीद

1 of

नई दि‍ल्‍ली. अरबपति कारोबारी अपनी लाइफ और कारोबार के अहम फैसलों में अपने स्प्रिचुअल गुरुओं की सलाह जरूर लेते हैं। मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी, फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग या फोर्टिस के एग्‍जीक्‍यूटिव वाइस चेयरमैन शिविंदर मोहन सिंह कुछ ऐसे नाम हैं जो अपने आध्यात्मिक गुरुओं को काफी मानते हैं। माना जाता है कि कई करोबारियों को गुरुओं के माध्यम से कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए नई दिशा मिली। हम आज आपको कुछ ऐसे ही बि‍जनेसमैन के बारे में बता रहे हैं, जिनकी चर्चा बिजनेस के गलियारों में होती है...

 

 

रमेशभाई ओझा (गुरु- मुकेश अंबानी एवं फैमिली)

देश के सबसे अमीर इंडस्‍ट्रि‍यलि‍स्‍ट मुकेश अंबानी के पारिवारिक गुरु रमेशभाई ओझा हैं। रमेशभाई ओझा पोरबंदर (गुजरात) स्‍थि‍त आश्रम संदीपनी वि‍द्यानि‍केतन चलाते हैं। धीरूभाई अंबानी के वक्‍त से ही रमेशभाई अंबानी परि‍वार के आध्‍यात्मिक गुरु हैं। कई मीडिया रिपोर्ट्स में यहां तक कहा गया कि मुकेश अंबानी और नीता अंबानी के वि‍वाह में भी रमेशभाई की बड़ी भूमि‍का रही थी। इसके अलावा, धीरूभाई अंबानी के निधन के बाद दोनों भाइयों के बीच आपसी सुलह कराने में भी उनका योगदान रहा है। अंबानी परि‍वार के अलावा रमेशभाई ओझा के आश्रम में कई गुजराती राजनेता भी दि‍खाई देते हैं। उनके आश्रम में जाने वालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम भी शामि‍ल है।

 

आगे पढ़ें - जुकरबर्ग के आध्यात्मिक गुरु के बारे में..

 

 

बाबा नीम करौली आश्रम (गुरु- मार्क जुकरबर्ग और स्टीव जॉब्स)

27 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फेसबुक के हेडक्वार्टर में थे। यहां टाउनहॉल के दौरान मार्क जुकरबर्ग ने कहा था कि उनकी कंपनी के इतिहास में भारत की खास जगह है। उन्होंने बताया था कि जब वे इस कन्फ्यूजन में थे कि फेसबुक को बेचा जाए या नहीं, तब एप्पल के फाउंडर स्टीव जॉब्स ने उन्हें भारत के एक मंदिर में जाने को कहा था। वहीं से उन्हें कंपनी के लिए नया मिशन मिला था।

जुकरबर्ग ने बताया था कि वह एक महीने भारत में रहे। इस दौरान उस मंदिर में भी गए। जुकरबर्ग ने इस मंदिर का नाम नहीं बताया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह मंदिर नैनीताल के पास पंतनगर में बाबा नीम करौली का आश्रम ही है। इसी आश्रम में 1974 में जॉब्स भी आए थे।

 

आगे पढ़ें - शि‍विंदर मोहन सिंह के आध्यात्मिक गुरु के बारे में..

 

 

राधा स्‍वामी (शि‍विंदर मोहन सिंह)

हॉस्पिटल चेन फोर्टिस हेल्थकेयर के फाउंडर शिविंदर मोहन सिंह ने उस वक्‍त डेरा राधा स्‍वामी सत्‍संग ब्‍यास से जुड़ने का फैसला ले लि‍या, जब वह अपने करियर के टॉप पर थे। इस संगठन का मुख्‍य कार्यालय अमृतसर में है। सिंह के मुताबिक करीब दो दशक तक फोर्टि‍स को बनाने से लेकर उसे चलाने तक हमारा मि‍शन लोगों की जिंदगी बचाने और उसे बेहतर करना था। उन्‍होंने आगे कहा, ‘‘मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे सत्संग ब्यास से जुड़ने का मौका मिल रहा है।’’

 

 

श्री श्री रविशंकर

श्री श्री रवि‍शंकर के बेंगलुरू आश्रम में देश के टॉप इंडस्‍ट्रि‍यलि‍स्‍ट आते हैं। इनमें स्‍नैपडील के फाउंडर कुनाल बहल, स्‍टेट बैंक ऑफ इंडि‍या की एक्स चेयरपर्सन अरुंधति‍ भट्टाचार्या, अमेजन इंडि‍या के हेड अमि‍त अग्रवाल, एचडीएफसी के वाइस चेयरमैन केकी मि‍स्त्री आदि‍ शामि‍ल हैं। गुरु के तौर पर श्री श्री रवि‍शंकर कॉरपोरेट जगत से लेकर राजनीति की दुनि‍या तक सबसे ज्‍यादा चर्चित हैं। उनको मानने वाले काफी इंडस्‍ट्रि‍यलि‍स्‍ट भी हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट